अवैध पार्किंग, जगह जगह बन जाते हैं जाम के हालात

प्रमुख बाजारों व मार्गों पर खड़े वाहन नहीं दिख रहे अधिकारियों को

अवैध पार्किंग, जगह जगह बन जाते हैं जाम के हालात

सड़क किनारे खड़े होने वाले वाहनों के कारण राहगीरों को भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

कोटा। एक शहर की खुबसूरती उसकी सड़कों से बनती है जितनी चौड़ी और साफ सड़कें होती है शहर उतना ही सुंदर नजर आता है। लेकिन कोटा की सड़कों पर होने वाली अवैध पार्किंग इस सुंदरता पर बट्टा लगा रही है। शहर ऐसा कोई प्रमुख मार्ग नहीं जहां अवैध पार्किंग ना होती हो, शहर में कई ऐसे इलाके हैं जहां सुबह से लेकर रात तक भारी तादाद में वाहन निकलते हैं लेकिन सड़क किनारे खड़े वाहनों के कारण हर समय जाम की स्थिति बनी रहती है। अवैध रुप से खड़े होने वाले वाहनों पर यातायात पुलिस भी कमजोर दिखाई पड़ती है जो कुछ एक वाहनों का चालान बनाकर अपनी जिम्मेदारी पूरी समझती है।

चोटिल होने की संभावना बनी रहती है
सड़क किनारे खड़े होने वाले वाहनों के कारण राहगीरों को भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जिसमें जाम तो है ही इसके अलावा वाहनों के कारण दूर्घटना की भी संभावना बनी रहती है। इन इलाकों से राहगिरों के चोटिल होने और छोटी मोटी दुर्घटना होने की खबरें आती रहती हैं। अवैध पार्किंग से सड़कों की चौड़ाई कम होने से वाहनों के आपस में टकराने का जोखिम रहता है। अवैध पार्किंग से लगने वाले जाम के कारण लाखों करोड़ों रुपयों का र्इंधन यूं ही जल जाता है साथ ही वाहनों का मेंटिनेंस भी बढ़ जाता है। 

प्रमुख मार्गों पर खड़े रहते हैं वाहन
शहर में गली मौहल्लों को छोड़ दें तो प्रमुख मार्गों पर बेतहाशा रुप से अवैध पार्किंग हो रही है। शहर के गुमानपुरा फ्लाईओवर के नीचे मौजूद मोबाइल की और अन्य सामानों की दुकानों के मालिक  फ्लाई ओवर के नीचे मौजूद पार्किंग में अपना वाहन खड़ा करने के स्थान पर फ्लाईओवर से सटाकर खड़ा कर रहे हैं और मालिकों ने इस सड़क को एक स्थाई पार्किंग बना लिया है। एक ओर मालिकों के वाहन दूसरी ओर ग्राहकों के वाहनों के खड़े होने से सड़क बिल्कुल संकरी हो जाती है जिससे जाम की स्थिति बनी रहती है वहीं रात के समय में स्थिति और बिगड़ जाती है। शहर में इसी तरह एरोड्रॉम सर्किल, विज्ञान फ्लाई ओवर के नीचे, घोड़ा वाला चौराहा, मोहन टॉकिज रोड और गुमानपुरा मार्केट में सड़कों पर खड़े होने वाले वाहनों से जाम के हालात बने रहते हैं। यातायात पुलिस भी कुछ स्थानों पर तो कारवाई कर देती है लेकिन शहर के इतने मुख्य मार्गों पर रोज सैंकड़ों की संख्या में खड़े होने वाले वाहनों पर कोई कारवाई नहीं करती जिस कारण इनकी संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

लोगों का कहना है
सड़क पर वाहन खड़ा करना बिल्कुल गलत है इनसे वाहन निकालने में भी समस्या आती है और कई बार जाम तक लग जाता है। अवैध वाहन खड़े करने वालों पर सख्त कारवाई की आवश्यकता है।
- सुनील प्रजापति, छावनी

Read More पूर्णिमा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग को मिला ऑटोनोमस स्टेटस

शहर के लगभग सभी प्रमुख मार्गों पर अवैध रुप से पार्किंग होती है कोई इन्हें रोकने वाला नहीं है ट्रैफिक पुलिस भी अपनी मर्जी से कहीं कारवाई कर लेती है और कहीं पर नहीं। जबकी सब जगहों से अवैध पार्किंग बंद होनी चाहिए।
- अवदेश मालव, विज्ञान नगर

Read More Insolation Energy Limited की 'द सोलर टॉक मीट' को जोधपुर में मिला अपार समर्थन

अभी हेमलेट ना पहनने वालों और नियमों का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस द्वारा लगातार कारवाई की जा रही है लेकिन इन अवैध खड़े होने वाले वाहनों पर कोई एक्शन नहीं हो रहा है। जबकी जाम लगाने वाले इन वाहनों पर कारवाई होनी चाहिए।
-अशीष बसवाल, प्रेम नगर

Read More प्रमुख शासन सचिव, पर्यटन ने बजट घोषणाओं की क्रियान्वित्ति की कार्य योजना एवं सीएमआईएस पर अपडेशन के संबंध में ली बैठक 

 

Post Comment

Comment List

Latest News

निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम
नगरीय विकास एवं आवासन विभाग ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें निर्माण कार्यों में खनिज बजरी के विकल्प के...
जल जीवन मिशन कामों की कल होगी समीक्षा, प्रति ग्राम पंचायत दो-दो नल जल मित्र के प्रस्ताव होंगे पारित
राज्य सरकार एवं हुडको के मध्य हुआ एमओयू
शंभू बॉर्डर किसान आंदोलन: बैरिकेडिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया स्वतंत्र समिति बनाने का सुझाव
राजस्थान को मिला 9959 करोड़ रुपए का बजट
कस्टम ड्यूटी में कटौती के बाद सोना-चांदी की खरीदारी में वृद्धि
AAP ने लगाए आरोप- केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली और पंजाब के साथ किया सौतेला व्यवहार