अतिक्रमियों पर वन विभाग मेहरबान

रोज बदल रही प्लांटेशनों की डिजाइन

अतिक्रमियों पर वन विभाग मेहरबान

केलवाड़ा क्षेत्र में अवैध खननकर्ताओं एवं भू-माफियाओं की बल्ले बल्ले हो रही है। केलवाड़ा वन विभाग के अधिकारी इन पर मेहरबान है। केलवाड़ा वन क्षेत्र में अवैध खनन थमने का नाम नहीं ले रहा है।

केलवाड़ा। केलवाड़ा क्षेत्र में अवैध खननकर्ताओं एवं भू-माफियाओं की बल्ले बल्ले हो रही है। केलवाड़ा वन विभाग के अधिकारी इन पर मेहरबान है। केलवाड़ा वन क्षेत्र में अवैध खनन थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिम्मेदार मूकदर्शक बनकर सब कुछ नजारा देख रहे हैं। केलवाड़ा में तैनात रामनारायण कोली फॉरेस्टर ने बताया कि मुझे कुछ मालूम नहीं है। जब मेरे अधिकारी कार्यवाही के लिए मुझे आदेश देंगे, तब ही मैं कार्यवाही करूंगा। अन्यथा में कोई कार्रवाई नहीं करूंगा। वन विभाग की सांठगांठ से हजारों बीघा वन भूमि भू माफिया एवं अति कर्मियों के शिकार हो चुकी है। दूसरी ओर हाल ही में केलवाड़ा क्षेत्र में जो प्लांटेशन तैयार किए जा रहे हैं, उनमें भी अतिक्रर्मियों को राहत दी जा रही है। अधिकारियों के द्वारा आए दिन प्लांटेशनों के आकार को बदल रहे हैं। अतिकर्मियों के द्वारा उक्त वन भूमि काश्त की जा रही है। इन पर प्रभावी कार्यवाही नहीं की जा रही है।

आधा दर्जन प्लांटेशनों की चारदीवारी गायब
केलवाड़ा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले आधा दर्जन प्लांटेशन की चारदीवारी गायब हो चुकी है। यह सारा वाकया 4 महीने में हुआ है। अवैध खननकर्ता भूमि का स्वरूप ही नहीं बिगाड़ रहे अपितु वनों का विनाश भी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। दिनदहाड़े बेखौफ होकर लाखों की लागत से बनी प्लांटेशनों की चारदीवारी को ट्रैक्टर ट्राली में भरकर बेचने में लगे हुए हैं। सूचना देने के बावजूद भी विभाग का कोई भी कर्मचारी मौके पर नहीं जाता।

नहीं थमा हरे पेड़ों पर कुल्हाड़ी चलने का सिलसिला
केलवाड़ा वन क्षेत्र के अधिकारियों से कर्मचारियों से मिलकर भू माफिया दिनदहाड़े कुल्हाड़ी आ आ रहे हैं। नई-नई अतिक्रमण किए जा रहे हैं। वन विभाग के आला अधिकारी कुंभकरण की नींद में सोए हुए हैं। जब तक इनकी नींद खुलेगी। तब तक सारा जंगल एक मैदान में तब्दील हो चुका होगा। प्राचीन समय से ही केलवाड़ा क्षेत्र में घना जंगल रहा है देखते-देखते आज मैदान में तब्दील हो गया। ग्रामीण खुलकर शिकायत भी नहीं कर पा रहे हैं आखिर कब रुकेगा अवैध एवं वनभूमि पर अतिक्रमण का सिलसिला।

इनका कहना है
लंबे समय से अवैध खनन एवं अतिक्रमण क्षेत्र में हो रहा है। जब मेरे उच्च अधिकारी मेरे को आदेश देंगे। तब ही मैं कार्रवाई करूंगा। मैं केवल मेरे विभाग के उच्च अधिकारियों के कहने पर ही कार्य करूंगा।
-रामनारायण कोली, फॉरेस्टर, केलवाड़ा

संबंधित मामले की जांच रिपोर्ट मेरे द्वारा मंगवाई गई है एवं अन्य मामलों की शीघ्र जांच कराई जाएगी, जो दोषी होगा उसको सजा दी जाएगी।
- वी चेतन कुमार, जिला वन अधिकारी, बारां

Post Comment

Comment List

Latest News

जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम जगजीत सिंह के जन्म दिवस पर 8 फरवरी को शाम-ए-गजल कार्यक्रम
सचिव शिव जालान ने बताया कि इसमें अनेक कलाकार गीतों, गजलें और नज्मों से स्व. जगजीत सिंह को स्वरांजलि अर्पित...
सतीश पूनियां ने सीएम को लिखा पत्र, आमेर विस क्षेत्र की मांगों को बजट में शामिल करने का किया आग्रह
केरल का इंटरनेशनल थियेटर फेस्टिवल 5 फरवरी से होगा शुरू
मोबाइल फोन के बेतहाशा इस्तेमाल से बढ़ा विजन सिंड्रोम का खतरा
तालिबान प्रशासन व्याख्याता मशाल को तत्काल रिहा करें: संयुक्त राष्ट्र
अडानी सीमेंट के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग
खान सुरक्षा अभियान में निदेशक खान का जोधपुर दौरा