फोन टेपिंग विवाद में लोकेश शर्मा ने किया खुलासा, मुझे अशोक गहलोत ने उपलब्ध कराई थी रिकॉर्डिंग

मेरे ऑफिस पर एसओजी की रेड करवाई

फोन टेपिंग विवाद में लोकेश शर्मा ने किया खुलासा, मुझे अशोक गहलोत ने उपलब्ध कराई थी रिकॉर्डिंग

गहलोत केवल लोगो को यूज करते और काम निकलने के बाद उसका हाल भी नहीं पूछते है। फोन टैपिंग के बाद जब मुझ पर एफआईआर हुई, तब उन्होंने कहा था की सुप्रीम कोर्ट तक लड़ेंगे। दिल्ली पुलिस की प्रताड़ना झेल रहा हूं।

जयपुर। गहलोत सरकार में सियासी संकट के दौरान फोन टेपिंग विवाद में पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी रहे लोकेश शर्मा ने बड़ा खुलासा किया है। शर्मा ने कथित फोन टैपिंग प्रकरण को लेकर खुलासा करते हुए कहा कि उस समय खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मुझे सारी रिकॉर्डिंग दी थी। मुझे सोशल मीडिया से नहीं मिली थी। इसके लिए लोकेश शर्मा ने अशोक गहलोत और खुद के बीच हुई बातचीत का ऑडियो भी सुनाया। यह कथित तौर पर विधायकों की खरीद फरोख्त से जुड़ा ऑडियो प्रकरण था। शर्मा ने कहा की जिस मोबाइल से ऑडियो भेजे गए थे, उस मोबाइल को भी डिस्ट्रॉय करने को अशोक गहलोत ने कहा था। उनको शक था कि मैने मोबाइल डिस्ट्रॉय नहीं किया था, उन्होंने मेरे ऑफिस पर एसओजी की रेड करवाई। 

गहलोत केवल लोगो को यूज करते और काम निकलने के बाद उसका हाल भी नहीं पूछते है। फोन टैपिंग के बाद जब मुझ पर एफआईआर हुई, तब उन्होंने कहा था की सुप्रीम कोर्ट तक लड़ेंगे। दिल्ली पुलिस की प्रताड़ना झेल रहा हूं, अब उन्होंने मुझे अकेला छोड़ दिया। शर्मा ने कहा की पेपर लीक मामले में डीपी जारोली को अशोक गहलोत ने बचाने का काम किया। वर्तमान सरकार इस मामले की निष्पक्ष जांच कराएं। मेरे पास जो भी सबूत है, मैं देने को तैयार हूं। 25 सितंबर की घटना पर लोकेश शर्मा ने कहा कि जिस गहलोत को पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाना चाहती थी, उसी पार्टी के आलाकमान को गहलोत ने अंधेरे में रखा और मेरे जरिए मीडिया में खबर चलवाई कि शांति धारीवाल के आवास पर जितने भी विधायक मौजूद है, उनमें से किसी को भी मुखमंत्री बना दो, लेकिन सचिन पायलट स्वीकार्य नहीं है। भाजपा में जाने की अटकलों पर लोकेश शर्मा ने कहा की ये सब अफवाह है।

 

Tags: lokesh

Post Comment

Comment List

Latest News