डाक टिकट से बनी पहचान, लोगों में बढ़ रहा रुझान

आमजन को रास आ रही माय टिकट योजना

डाक टिकट से बनी पहचान, लोगों में बढ़ रहा रुझान

डाक विभाग की ओर से संचालित मायटिकट योजना आमजन को काफी रास आ रही है। इस योजना के तहत आमजन अपने नाम की पहचान बना सकता है। इसके लिए ज्यादा रकम खर्च नहीं करनी पड़ेगी।

कोटा। डाक विभाग की ओर से संचालित मायटिकट योजना आमजन को काफी रास आ रही है। इस योजना के तहत आमजन अपने नाम की पहचान बना सकता है। इसके लिए ज्यादा रकम खर्च नहीं करनी पड़ेगी। कम खर्च में आमजन अपने नाम से डाक टिकट छपा सकता है और इसका उपयोग अन्य डाक टिकटों की तरह किया जा सकता है। आम तौर पर डाक टिकटों पर महापुरुषों के चित्र लगे होते हैं। अलग-अलग मूल्य के डाक टिकटों पर अलग-अलग महापुरुषों के चित्र बने होते हैं। जिसके साथ टिकट का मूल्य भी लिखा रहता है। लोगों की भागीदारी बढ़ाने के उद्देश्य से डाक विभाग ने आमजन के डाक टिकट जारी करने के लिए माय टिकट योजना शुरू की। इसमें कोई भी व्यक्ति अपनी फोटो डाक टिकट पर लगवा सकता है। इस टिकट का रजिस्ट्री व अन्य डाक सामग्री भेजने में इस्तेमाल किया जा सकता है।

यह है योजना

डाक विभाग की ओर से माई टिकट योजना संचालित की जा रही है। इस योजना के तहत स्वयं का डाक टिकट बनवाया जा सकता है। डाक  टिकट पर फोटो भी रहेगी। यह डाक टिकट उसी तरह काम करेगा जैसे अन्य डाक टिकट काम करते हैं। डाक विभाग ने यह योजना लोगों को डाक घर से जोड़ने और नई सुविधा उपलब्ध कराने के मकसद से चलाई है। डाक विभाग की ओर से सभी लोगों को अपने नाम से डाक टिकट बनवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। 

Read More  ट्रैफिक अव्यवस्था और उधड़ी सड़कें काट रही जेब

तीन सौ जमा करवाओ, अपना टिकट बनवाओ

डाक विभाग की इस योजना के तहत डाक टिकट बनवाने के लिए डाक घर में जाकर निर्धारित फार्म भरना होगा। फार्म जमा कराते समय तीन सौ रुपए जमा करवाने होंगे। इस राशि में पांच-पांच रुपए के 12 टिकट बनाकर फार्म भरने वाले उपभोक्ता को दिए जाएंगे। इसके बाद उपभोक्ता इन टिकटों का उपयोग रजिस्ट्री और अन्य डाक सामग्री भेजने में उपयोग कर सकता है। वहीं उपभोक्ता इन टिकटों को संग्रहण कर अपने पास भी रख सकता है। 

मशीन से होती है छपाई

Read More अवैध शराब सहित तस्कर गिरफ्तार 

डाक विभाग की ओर से टिकटों की छपाई के लिए अलग से मशीन की व्यवस्था की गई है। यह मशीन में पूरे जिले में केवल प्रधान डाकघर में लगाई जाती है। कोटा शहर में यह मशीन नयापुरा स्थित प्रधान डाकघर में लगा रखी है। इस मशीन का सेटअप अलग तरह से होता है।

हर माह आ रहे आठ आवेदन

डाक विभाग के अनुसार माई टिकट योजना के प्रति लोगों की काफी रुचि बनी हुई है। योजना के शुरुआत के समय आमजन को इसकी जानकारी नहीं थी। ऐसे में विभाग ने डाकघर में विभिन्न कार्यों के लिए आने वाले लोगों को इसकी जानकारी देना शुरू किया। जब लोगों को इस योजना की जानकारी मिली तो उन्होंने इसमें काफी रुचि दिखाई। प्रारम्भ में इस योजना में आवेदन करने लोगों की संख्या काफी कम थी। बाद में इसकी उपयोगिता को देखते हुए आमजन की योजना में भागीदारी बढ़ती चली गई। वर्तमान में हर माह करीब आठ आवेदन इस योजना के तहत अपना डाक टिकट बनवाने के लिए आ रहे हैं।  

Read More खेलों से अनुशासन और टीम भावना सीखते है खिलाड़ी : ओला

 रजिस्ट्री और साधारण डाक में अभी भी डाक टिकटों का उपयोग होता है। इस योजना के तहत उपभोक्ता को पांच-पांच रुपए के 12 टिकट दिए जाते हैं। तीन सौ रुपए जमा कराने के बाद 60 रुपए के डाक टिकट बनाकर दिए जाते हैं। इन टिकटों का उपयोग आवेदनकर्ता अपनी सुविधा के अनुसार कर सकता है।

- सुशील कुमार राठौर, सहायक डाक अधीक्षक नयापुरा

Post Comment

Comment List

Latest News