सावधान: नोट देखकर लें, जिसके पास नकली नोट, वहीं गुनहगार

कोटा में भी हो सकते हैं नकली नोट : 500 की जगह 100 व 200 के नोट मिले थे बांसवाड़ा में नकली

सावधान: नोट देखकर लें, जिसके पास नकली नोट, वहीं गुनहगार

राज्य में बड़ी संख्या में नकली नोटों की खेप आई हुई है। पुलिस ने दो जिलों में कार्रवाई कर हजारों रुपए के नकली नोट जब्त भी किए हैं। ऐसे में कोटा में भी नकली नोट होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।

कोटा । राज्य में बड़ी संख्या में नकली नोटों की खेप आई हुई है। पुलिस ने दो जिलों में कार्रवाई कर हजारों रुपए के नकली नोट जब्त भी किए हैं। ऐसे में कोटा में भी नकली नोट होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। लेकिन जनाब सावधान यदि गलती से भी आपके पास नकली नोट आ जाए तो तुरन्त इसकी सूचना पुलिस को दें। अन्यथा आप गुनहगार ठहराए जा सकते हैं। जिनके पास नकली नोट होगा वही उसका गुनहगार माना जाएगा। राज्य में पुलिस ने पहले बीकानेर में कार्रवाई कर नकली नोट जब्त किए थे और अब एक दिन पहले बांसवाड़ा में नकली नोटों की खेप पकड़ी है। बांसवाड़ा में पकड़े गए 79 हजार रुपए के नकली नोटों में अधिकतर 100 व 200 के नोट हैं। ये नोट दिल्ली से लाया जाना बता रहे हैं। हालांकि पुलिस ने इस मामले में 4 जनों को गिरफ्तार भी किया है। जिस तरह से राज्य के दो जिलों में हाल ही के दिनों में लगातार कार्रवाई में नकली नोट पकड़े जा रहे हैं। उससे संभावना जताई जा रही है कि पकड़े गए नोटों के अलावा भी बड़ी संख्या में ऐसे नकली नोट हो सकते हैं जो पकड़े नहीं गए लेकिन चलन में आ गए हों? 100-200 के नोट कम देखते हैं आमतौर पर अधिकतर लोग 500 व 2000 का नोट लेते समय तो उसे देखकर व जांच कर लेते हैं। जिससे नकली नोट पकड़ा जा सके। लेकिन 100 व 200 के नोटों को उतनी गौर से नहीं देखकर लेते। यही कारण है कि बांसवाड़ा में पकड़े गए नकली नोटों में 500 की जगह 100 व 200 के नोट मिले हैं। जिससे उन्हें आसानी से चलन में लाया जा सकता है। नकली नोटों में 100 फीसदी से अधिक वृद्धि भारतीय रिजर्व बैंक के अनुसार पिछले साल की तुलना में इस साल नकली नोटों की संख्या में 100 फीसदी से अधिक की वृद्धि हुई है। आरबीआई द्वारा जारी वर्ष 2021-22 की सालाना रिपोर्ट में बताया है कि देश में 500 व 2000 के नकली नोटों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। 500 के नकली नोटों में पिछले साल की तुलना में 102 फीसदी वृद्धि हुई है। जबकि 2000 के नकली नोट में 54.16 फीसदीे की वृद्धि हुई है। मार्च 2022 तक देश में मौजूद कुल नकली नोटो में 500 व 2 हजार के नोटों का शेयर 87.1 फीसदी है जबकि पिछले साल यह 85.7 फीसदी था। सावधानी रखें और देखकर लें नोट आरबीआई के अनुसार लोगों को नोट लेते समय सावधानी रखनी होगी। उन्हें देखकर ही लें। हालांकि आरबीआई ने सभी बैंकों में नकली नोटों की पहचान के लिए 17 चिन्ह बताने वाली सूचनाएं चस्पा की हुई हैं। बैंक अधिकारियों के अनुसार असली नोट को हाथ में लेते ही पता चल जाता है। उसका कागज बेहतर क्वालिटी का होता है जबकि नकली नोट का कागज हल्का होता है। असली नोट पर देवनागरी लिपी में लिखा होगा। असली नोट में महात्मा गांधी की तस्वीर को एकदम बीच में दिखाया गया है। भारत व इंडिया के शब्द लिखे दिखाई देंगे। पांच सौ के नोट को हल्का मोड़ने पर सिक्योरिटी थ्रीड़ का रंग हरे से नीला हो जाएगा। पुराने नोट की तुलना में 500 के नए नोट में गवर्नर के हस्ताक्षर,गारंटी क्लॉज व आरबीआई का लोगो दाहिनी तरफ शिफ्ट हो गया है। महात्मा गांधी की फोटो के साथ इलेक्ट्रोटाइप वाटर मार्क भी दिखाई देगा। दाहिनी तरफ अशोक स्तम्भ है। इस तरह से कई पहचान चिन्ह हैं जिनसे नकली व असली नोट की पहचान की जा सकती है। बैंक में नकली नोट बदलने का प्रावधान नहीं कोटा में आरबीआई बैंक के अधिकारियों से जब जानकारी चाही कि किसी व्यक्ति के पास कोई नकली नोट आ जाता है तो वह उसकी शिकायत कहां करे। इस पर उनका कहना है कि नकली नोट की शिकायत तो थाने में ही करनी होगी। बैंक में नकली नोट बदलने या उसे जमा करवाने का कोई प्रावधान नहीं है। आरबीआई के अनुसार जिसके पास नकली नोट है वही बताए कि उसके पास कहां से आया। यदि नहीं बता पाता है तो वही गुनहगार माना जाएगा। कोटा में अभी तक नकली नोट होने जैसी कोई जानकारी नहीं मिली है। नकली नोट की पहचान बैंक अधिकारी ही करेंंगे। उनके पास इस तरह की मशीन होती है। व्यक्ति नकली नोट की पहचान करने वाला विशेषज्ञ नहीं है। नकली नोट मिलने पर पुलिस में शिकायत तो दे सकते हैं लेकिन उसका स्रोत बताना होगा कि वह नोट उसके पास कहां से आया। यदि व्यक्ति के पास अनजाने में नोट आया है तो उसकी जांच की जाएग़ी। यदि उसके द्वारा नोट का स्रोत बताया जाता है तो संबंधित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Post Comment

Comment List

Latest News

फीफा अंडर-17 महिला विश्व कप: झारखण्ड की खिलाड़ी अस्टम उरांव भारत की कैप्टन फीफा अंडर-17 महिला विश्व कप: झारखण्ड की खिलाड़ी अस्टम उरांव भारत की कैप्टन
साल 2020 में लॉकडाउन के दौरान जब पूरा देश बंद था। उस दौरान 2021 में होने वाले फीफा अंडर-17 के...
अपने कर्तव्यो को ईमानदारी से निभाने वाले अधिकारियों के खिलाफ सरकार कर रही हैं नाइंसाफी : रामलाल
इन्वेस्ट राजस्थान समिट की सभी तैयारियां पूरी, मित्तल, बिड़ला सहित जाने माने उद्यमी होंगे शामिल
कांग्रेसजनों ने गोकुल भाई भट्ट को अर्पित की पुष्पांजलि
सिर पर पत्थर से वार कर युवक की हत्या
पत्नी और नाबालिग बच्चों की जिम्मेदारी से नहीं भाग सकता कोई व्यक्ति : सुप्रीम कोर्ट
भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुई सोनिया गांधी, राहुल ने कहा, यात्रा को मिलेगी मजबूती