कौन बनेगा अध्यक्ष?

गहलोत की सोनिया से मुलाकात

कौन बनेगा अध्यक्ष?

गहलोत के पार्टी का नया अध्यक्ष बनने के संकेत मिल रहे हैं, लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर के भी चुनावी मैदान में उतरने और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की ओर से भी दावेदारी पेश करने के संकेत मिल रहे हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की अधिसूचना जारी होने के एक दिन पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सोनिया गांधी से दो घंटे की मुलाकात के बाद पार्टी की अंदरूनी राजनीति गरमा गई है। गहलोत के पार्टी का नया अध्यक्ष बनने के संकेत मिल रहे हैं, लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर के भी चुनावी मैदान में उतरने और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की ओर से भी दावेदारी पेश करने के संकेत मिल रहे हैं। इससे अध्यक्ष पद के लिए मुकाबला दिलचस्प होता दिख रहा है। दरअसल, अध्यक्ष पद पर अन्य नेताओं की दावेदारी की वजह यह लग रही है कि राहुल गांधी के इस पद को संभालने के लिए तैयार होने को लेकर कोई स्पष्ट स्थिति नहीं बन पा रही है। अब तक यही कहा जा रहा है कि राहुल गांधी अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे, मगर राज्यों की पार्टी इकाइयों व अन्य कई नेता राहुल गांधी को ही अध्यक्ष पद संभालने के लिए दबाव डाल रहे हैं। मुख्य दावेदार माने जाने वाले अशोक गहलोत स्वयं कह रहे हैं कि वह राहुल को मनाने के लिए अंतिम क्षणों तक प्रयास जारी रखेंगे। अब यह देखने की बात होगी कि चुनाव और नतीजों की अंतिम तस्वीर क्या बनती है। 

अगले महीने की 17 तारीख यानी अक्टूबर में चुनाव होने हैं और अब तक यही माना जा रहा था कि पार्टी की कमान परोक्ष रूप से सोनिया गांधी और राहुल गांधी के हाथ में ही रहेगी। लेकिन अब जो हालात देखने को मिल रहे हैं, उससे लगता है कि कांग्रेस को पहली बार 22 साल बाद गैर गांधी परिवार का कोई नेता नेतृत्व दे सकता है। दरअसल, पार्टी इस बार परिवारवाद के आरोपों से मुक्त होना चाहती है। चुनाव मैदान में अशोक गहलोत की प्रमुख दावेदारी मानी जाती है, तो यह सवाल स्वाभाविक है कि यदि पार्टी में एक व्यक्ति एक पद का नियम लागू है, तो फिर राजस्थान का मुख्यमंत्री कौन होगा? इस मुद्दे पर अभी अस्पष्टता बनी हुई है, लेकिन प्रबल संभावना यही है कि गहलोत दोनों पदों पर बने रहेंगे। पार्टी अध्यक्ष पद पर गहलोत और थरूर के अलावा अन्य नेताओं की उम्मीदवारी से इस बार कांग्रेस यह साबित करना चाहती है कि पार्टी आंतरिक लोकतांत्रिक प्रक्रिया की पक्षधर है। अब पूरे देश की नजरें नए कांग्रेस अध्यक्ष पर टिकी हैं। 

Tags: Congress

Post Comment

Comment List

Latest News