जेईई टॉपर्स और प्रदेश के छात्रों की आईआईटी बॉम्बे पहली व दिल्ली दूसरी पसंद

38296 में से 23359 विद्यार्थियों की पहली च्वाइस बॉम्बे सीएस रही

जेईई टॉपर्स और प्रदेश के छात्रों की आईआईटी बॉम्बे पहली व दिल्ली दूसरी पसंद

इस वर्ष टॉप-50 रैंकर्स विद्यार्थियों में से 46 ने आईआईटी बॉम्बे में, एक-एक ने आईआईटी मद्रास व दिल्ली में प्रवेश लिया। इसके साथ ही आल इंडिया टॉपर ने आईआईएससी बैंगलुरू की मैथ्स एण्ड कम्प्यूटिंग ब्रांच ज्वाइन की। टॉप-100 में से 68 विद्यार्थियों ने आईआईटी बॉम्बे, 28 विद्यार्थियों ने आईआईटी दिल्ली, 2 ने आईआईटी मद्रास को चुना।

जयपुर। देश के शीर्ष इंजीनियरिंग शिक्षण संस्थान आईआईटीज में प्रवेश के उपरान्त आईआईटी बॉम्बे द्वारा जारी की गई रिपोर्ट कई महत्वपूर्ण तथ्य सामने आए हैं। इस वर्ष भी आईआईटी बॉम्बे टॉपर्स की पहली पसंद रही। इसके उपरान्त आईआईटी दिल्ली को प्राथमिकता दी गई। साथ ही प्रदेश के छात्रों की भी बॉम्बे पहली और दिल्ली दूसरी पसंद है। जारी रिपोर्ट के अनुसार इस वर्ष जेईई-एडवांस्ड क्वालीफाइ 38296 विद्यार्थियों ने काउंसलिंग में भाग लिया। इन विद्यार्थियों में से 23359 ऐसे थे, जिनकी च्वाइस फिलिंग में पहली प्राथमिकता आईआईटी बॉम्बे कम्प्यूटर साइंस रही।

कौनसे टॉपर्स, किस आईआईटी में

इस वर्ष टॉप-50 रैंकर्स विद्यार्थियों में से 46 ने आईआईटी बॉम्बे में, एक-एक ने आईआईटी मद्रास व दिल्ली में प्रवेश लिया। इसके साथ ही आल इंडिया टॉपर ने आईआईएससी बैंगलुरू की मैथ्स एण्ड कम्प्यूटिंग ब्रांच ज्वाइन की। टॉप-100 में से 68 विद्यार्थियों ने आईआईटी बॉम्बे, 28 विद्यार्थियों ने आईआईटी दिल्ली, 2 ने आईआईटी मद्रास को चुना। इसी तरह टॉप-1000 में से 246 विद्यार्थियों ने आईआईटी बॉम्बे, 210 विद्यार्थियों ने आईआईटी दिल्ली, 110 विद्यार्थियों ने आईआईटी मद्रास, 107 विद्यार्थियों ने आईआईटी कानपुर, 93 विद्यार्थियों ने आईआईटी खडगपुर, 66 विद्यार्थियों ने आईआईटी गुवाहाटी, 60 विद्यार्थियों ने आईआईटी रूडकी, 40 ने आईआईटी हैदराबाद, 31 ने आईआईटी बीएचयू, 7 विद्यार्थियों ने आईआईटी इंदौर व 1 विद्यार्थी ने आईआईटी रोपड़ में प्रवेश लिया।

आईआईटी की 29 सीटों पर कोई आवंटन नहीं

Read More पूर्णिमा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग को मिला ऑटोनोमस स्टेटस

इस वर्ष आईआईटी में प्रवेश के लिए 6 राउण्ड में जोसा काउंसलिंग संपन्न हुई। छठे राउण्ड के फाइनल आवंटन के जारी किए आंकड़ों के अनुसार आईआईटी की कुल 29 सीटें ऐसी रही, जिन पर किसी विद्यार्थी को आवंटन नहीं हुआ, यानी इन आईआईटी की ये ब्रांचें ऐसी रहीं, जिन्हें किसी भी विद्यार्थी ने काउंसलिंग च्वाइस में भरा ही नहीं। इनमें आईआईटी जोधपुर की 6, आईआईटी धनबाद और बीएचयू की 9-9, आईआईटी जम्मू की 3, आईआईटी रूपड़ व धारवाड़ की 1-1 सीटें ऐसी रही जो आवंटित सीटों की तुलना में कुल सीटों से कम रही।

Read More शिक्षा क्षेत्र में महंगे प्रोफेशनल कोर्सेज के लिए फंडिंग के विकल्प बढ़ाए जाने की जरूरत

इन ब्रांचों को दी प्राथमिकता, इनकी की उपेक्षा

Read More ऑनलाइन परीक्षा पर RPSC गंभीर: श्रोत्रिय

काउंसलिंग में शामिल कुल 38 हजार 296 विद्यार्थियों ने 47 लाख 33 लाख 894 च्वाइसेज को जोसा काउंसलिंग में भरा। इनमें से 22 हजार से ज्यादा विद्यार्थियों ने बॉम्बे, दिल्ली, कानपुर, रूडकी, खड़गपुर की कम्प्यूटर साइंस को प्राथमिकता दी। कॅरियर काउंसलिंग एक्सपर्ट अमित आहूजा ने बताया कि 20 हजार से अधिक विद्यार्थियों ने हैदराबाद, मद्रास, गुवाहाटी की कम्प्यूटर साइंस ब्रांच को प्राथमिकता में रखा। इसके अतिरिक्त आईआईटी धारवाड़ की इन्ट्रा डिसिप्लीनरी साइंस, आईआईटी जोधपुर की फिजिक्स एण्ड कैमेस्ट्री स्पेशलाइजेशन, आईआईटी धनबाद की एप्लाई जूलॉजी एवं जीओ फिजिक्स, आईआईटी बीएचयू की बीफॉर्मा, आईआईटी मद्रास की बायालोजिकल साइंस सबसे उपेक्षित ब्रांचों में रही, जिनके लिए 5 हजार से भी कम विद्यार्थियों ने च्वाइस फिलिंग में प्राथमिकता में रखा।

Post Comment

Comment List

Latest News

निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम
नगरीय विकास एवं आवासन विभाग ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें निर्माण कार्यों में खनिज बजरी के विकल्प के...
जल जीवन मिशन कामों की कल होगी समीक्षा, प्रति ग्राम पंचायत दो-दो नल जल मित्र के प्रस्ताव होंगे पारित
राज्य सरकार एवं हुडको के मध्य हुआ एमओयू
शंभू बॉर्डर किसान आंदोलन: बैरिकेडिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया स्वतंत्र समिति बनाने का सुझाव
राजस्थान को मिला 9959 करोड़ रुपए का बजट
कस्टम ड्यूटी में कटौती के बाद सोना-चांदी की खरीदारी में वृद्धि
AAP ने लगाए आरोप- केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली और पंजाब के साथ किया सौतेला व्यवहार