रीजनल कॉलेज फॉर एजूकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में मोटिवेशनल प्रोग्राम का आयोजन

संस्था के स्किल डेवलपमेंट सेल की ओर से किया गया आयोजन

रीजनल कॉलेज फॉर एजूकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में मोटिवेशनल प्रोग्राम का आयोजन

संस्था के वाइस चेयरमैन डॉ. अंशु सुराना ने बताया कि कॉलेज में समय समय पर कैरियर गाइडेंस के कार्यक्रम आयोजित किए जाते है, जिससे छात्रों के व्यक्तित्व विकास में सहायता मिलती है, जो उनके करियर  के लिए अत्यंत आवश्यक है।

जयपुर। आज रीजनल कॉलेज फॉर एजुकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी, सीतापुरा, में बी. टेक., एम  .बी. ए.,  एम. सी. ए. तथा डिप्लोमा के छात्रों के लिए एक मोटिवेशनल प्रोग्राम का आयोजन संस्था के स्किल डेवलपमेंट सेल की ओर से किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन तथा सरस्वती वंदना से हुआ। संस्था के वाइस चेयरमैन डॉ. अंशु सुराना ने बताया कि कॉलेज में समय समय पर कैरियर गाइडेंस के कार्यक्रम आयोजित किए जाते है, जिससे छात्रों के व्यक्तित्व विकास में सहायता मिलती है, जो उनके करियर  के लिए अत्यंत आवश्यक है।

संस्था के प्रधानाध्यापक डॉ. प्रमोद शर्मा ने वक्ताओं का स्वागत करते हुए कार्यक्रम की महत्ता के बारे में बताया। कार्यक्रम में मैनेजमेंट विभाग के डायरेक्टर रुस्तम बोहरा एवं एम सी ए के विभागाध्यक्ष नीलेश शर्मा भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन बी टेक के छात्रों द्वारा किया गया। सिविल इंजीनियरिंग के विभागाध्यक्ष ई. महेंद्र सैनी ने सभी वक्ताओं, फैकल्टी एवं विद्यार्थियों को धन्यवाद ज्ञापन दिया।

Post Comment

Comment List

Latest News

कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे
ऐसे में इस बार पहले चरण की सीटों पर कम वोटिंग ने भाजपा को सोचने पर मजबूर कर दिया है।...
भारत में नहीं चाहिए 2 तरह के जवान, इंडिया की सरकार बनने पर अग्निवीर योजना को करेंगे समाप्त : राहुल
बड़े अंतर से हारेंगे अशोक गहलोत के बेटे चुनाव, मोदी की झोली में जा रही है सभी सीटें : अमित 
किडनी ट्रांसप्लांट के बाद मरीज की मौत, फोर्टिस अस्पताल में प्रदर्शन
इंडिया समूह को पहले चरण में लोगों ने पूरी तरह किया खारिज : मोदी
प्रतिबंध के बावजूद नौलाइयों में आग लगा रहे किसान
लाइसेंस मामले में झालावाड़, अवैध हथियार रखने में कोटा है अव्वल