कलम का कुआ गांव में नवजीवन योजना के बाद नहीं हुआ विकास कार्य

पेयजल, नाली, सड़क की समस्या, ग्रामीणों ने कहा विकास नही हुआ तो करेंगे आगामी चुनाव का बहिष्कार

कलम का कुआ गांव में नवजीवन योजना के बाद नहीं हुआ विकास कार्य

कस्बे में अभी से ही ग्रामीणों को पेयजल समस्या का सामना करना पड़ रहा है।केवल वोटिंग के समय जनप्रतिनिधि आते हैं तथा जीतने के बाद गांव की सुध तक नहीं लेते ऐसी स्थिति के चलते गांव में जगह-जगह टूटी हुई सड़कें तथा खरंजो पर भरा गंदला पानी पेयजल की अनुपलब्धता बेरोजगारी की समस्या नाली निर्माण छोटे बालकों के लिए आंगनबाड़ी भवन सामुदायिक भवन निर्माण चिकित्सा सुविधा की समस्या से सामना करना पड़ रहा है।

मंडाना। विकास नही तो मतदान नहीं यह बात गुरुवार को कलम का कुआ गांव में ग्रामीणों ने कही। वर्ष 2014 में नवजीवन योजना के बाद कलम का कुआ गांव में न कि बराबर विकास कार्य हुआ, ग्रामीणों ने कहा आगामी चुनाव का  बहिष्कार करेंगे। ग्राम पंचायत कोलाना क्षेत्र के कलम का कुआं गांव के लोग मूलभूत सुविधाओं से वंचित हो रहे हैं। वही ग्राम पंचायत प्रशासन व जनप्रतिनिधि भी उनकी सुध नहीं ले रहे हैं। जिससे ग्रामीणों में रोष व्याप्त है। जगह जगह टूटी हुई सड़कें, पेयजल की अनुपलब्धता व रोजगार की समस्या से ग्रामीण ग्रसित हैं। ग्रामीणों का कहना है कि मतदान के समय वोट लेने के लिए जनप्रतिनिधि चले आते तथा जीतने के बाद उनको समस्या बताते हैं तो उस पर कोई अमल नहीं होता केवल आश्वासन ही मिलता है परंतु गांव में कोई विकास कार्य नहीं होता ऐसी स्थिति के चलते ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों ने बताया कि कोलाना पंचायत क्षेत्र के  कलम का कुआं गांव में लगभग 400 घरों की बस्ती है। यहां वर्ष 2014 में नवजीवन योजना के तहत सड़क निर्माण किया गया था परंतु अब सड़क की हालत यह है कि जगह-जगह इसमें बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं तथा सड़कें टूट गई है। ऐसी स्थिति में कई लोग इनमें गिरकर चोटिल हो रहे हैं। यहां तक की कुछ लोगों की मौत भी हो गई है।  

वही कस्बे में अभी से ही ग्रामीणों को पेयजल समस्या का सामना करना पड़ रहा है। महिला प्रेम बाई, अनीता, गायत्री बाई, गीता नंदू बाई, मीराबाई बच्ची बाई सहित कई महिलाओं ने बताया कि यहां जलदाय विभाग द्वारा जल जीवन मिशन के अंतर्गत कुछ ही स्थानों पर पाइप लाइन बिछाई गई है परंतु उस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है। यहां तक कि सार्वजनिक पॉइंट्स में भी पानी तक नहीं आता तथा सुबह से शाम पेयजल जुटाने में बीत जाता है तथा दूर दराज से पेयजल लाकर काम चलाना पड़ रहा है। अभी सर्दी में भी पेयजल की समस्या गहरा रही है। दूरदराज से पानी लाते लाते पीठ में दर्द होने लगता है तथा मजदूरी छूट जाती है। ग्रामीणों ने विभाग से अविलंब इस योजना में पेयजल आपूर्ति की मांग की है अखिल भारतीय बंजारा उत्थान समिति कोटा संभाग के अध्यक्ष रूप सिंह बंजारा ने बताया कि कलम कुआं गांव के वाशिंदों की स्थिति ठीक नहीं है यहां केवल वोटिंग के समय जनप्रतिनिधि आते हैं तथा जीतने के बाद गांव की सुध तक नहीं लेते ऐसी स्थिति के चलते गांव में जगह-जगह टूटी हुई सड़कें तथा खरंजो पर भरा गंदला पानी पेयजल की अनुपलब्धता बेरोजगारी की समस्या नाली निर्माण छोटे बालकों के लिए आंगनबाड़ी भवन सामुदायिक भवन निर्माण चिकित्सा सुविधा की समस्या से सामना करना पड़ रहा है। बंजारा का कहना है कि समस्याओं के बताने के बावजूद भी जनप्रतिनिधि हमारी सुनवाई नहीं कर रहे हैं। आगामी चुनाव में किसी भी पार्टी को मत नहीं दिया जाएगा बंजारा की सरकार से मांग है कि बंजारा समाज के लिए नवजीवन जैसी योजनाएं फिर से शुरू करें ताकि समाज के लोगों को इन योजनाओं का लाभ मिले तथा बेरोजगार युवकों को रोजगार के अवसर प्रदान हो इस अवसर पर गोपाल सुरावत रमेश बंजारा बंटी बंजारा महेंद्र बंजारा सहित कई लोगों ने पंचायत प्रशासन व जनप्रतिनिधियों से गांव में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने की मांग की है।

 ग्रामीणों के द्वारा कोई भी समस्या से अवगत नही कराया गया है फिर भी  गांव के लिए 15 लाख के विकास कार्य कराये जाएंगे व पेयजल व सड़क की समस्या का समाधान भी कराया जाएगा। 
- नईमुद्दीन गुड्डू, प्रधान, लाडपुरा।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News