ताइवान को अमेरिका देगा अपना सबसे खतरनाक एयर डिफेंस सिस्टम

अमेरिका की तरफ से 100 पैट्रियॉट एयर डिफेंस सिस्टम देने का प्रस्ताव

ताइवान को अमेरिका देगा अपना सबसे खतरनाक एयर डिफेंस सिस्टम

अमेरिका और ताइवान के बीच हुई एक डिफेंस डील को ही अब आगे बढ़ाया गया है और इसकी कीमत 2.81 अरब डॉलर थी। अमेरिका कई बार यह बात कह चुका है कि वह हमेशा ताइवान की रक्षा के लिए तैयार है।

वॉशिंगटन।अमेरिका ने ताइवान को अपना सबसे खतरनाक पैट्रियॉट एयर डिफेंस सिस्टम देने का मन बनाया है। अमेरिका की तरफ से ताइवान को 100 पैट्रियॉट एयर डिफेंस सिस्टम देने का प्रस्ताव दिया गया है। इसके अलावा अमेरिका रडार और सपोर्ट उपकरण भी देने को राजी है। बताया जा रहा है कि यह डील 882 मिलियन डॉलर की हो सकती है। अमेरिका और ताइवान के बीच हुई एक डिफेंस डील को ही अब आगे बढ़ाया गया है और इसकी कीमत 2.81 अरब डॉलर थी। अमेरिका कई बार यह बात कह चुका है कि वह हमेशा ताइवान की रक्षा के लिए तैयार है। साथ ही उसने चीन को इस द्वीप से दूर रहने की चेतावनी दी है। आपको बता दें कि यह सिस्टम अभी ताइवान के पास है लेकिन अब इनकी संख्या बढ़ सकती है।

इराक युद्ध में प्रयोग

अमेरिका ने सबसे पहले इस सिस्टम को साल 2003 में इराक युद्ध के दौरान तैनात किया था। कुवैत में उस समय इस सिस्टम को तैनात किया गया था और इसकी मदद से कई मिसाइलों को ढेर किया गया था। अक्टूबर 2019 में अमेरिका ने दो पैट्रियॉट मिसाइल बैटरीज को सऊदी अरब में तैनात किया था। यह तैनाती उस समय हुई थी जब तेल कंपनी अरामको पर ड्रोन हमला हुआ था। यह एयर डिफेंस सिस्टम चार बड़े आॅपरेशनल फंक्शंस को अंजाम दे सकता है। यह सिस्टम कम्युनिकेशंस, कमांड और कंट्रोल, रडार सर्विलांस और मिसाइल गाइडेंस जैसे काम कर सकता है। इनकी वजह से सिस्टम एक सुरक्षित और मोबाइल एयर डिफेंस को पूरा करता है।

 

Read More विकास की गति में अवरोध बनी मोदी सरकार, सिर्फ मित्रों का हित साधा : राहुल

हाथ लगी असफलता भी

Read More बंगलादेश में इमारत में आग लगने से 44 लोगों की मौत

सऊदी अरब और अमीराती सेनाएं इस सिस्टम का प्रयोग हाउदी विद्रोहियों के खिलाफ कर रहरी हैं। इस सबसे एडवांस्ड डिफेंस सिस्टम को एक असफलता भी झेलनी पड़ी है। 25 फरवरी 1991 को खाड़ी युद्ध के दौरान यह सिस्टम फेल हो गया था और इसकी वजह से 28 लोगों की मौत हो गई थी। जांच में पता लगा था कि गलत तरीके से इस हैंडल करने की वजह से यह असफलता हाथ लगी थी। पैट्रियॉट मिसाइल डिफेंस सिस्टम हिट-टू-किल टेक्नोलॉजी पर काम करता है। इसकी वजह से किसी भी टारगेट को सीधा शूट कर सकता है।

Read More पाकिस्तान: शहबाज शरीफ ने दूसरी बार ली प्रधानमंत्री पद की शपथ

हर मौसम में कारगर

पैट्रियॉट एक लंबी रेंज का एयर डिफेंस सिस्टम है जो हर मौसम में ऑपरेट हो सकता है। यह सिस्टम इतना ताकतवर है कि बैलेस्टिक, क्रूज मिसाइल और यहां तक कि किसी एडवांस्ड एयरक्राफ्ट तक को ढेर कर सकता है। इस सिस्टम को मैसाच्यूसेट्स स्थित रेथॉन और फ्लोरिडा स्थित लॉकहीड मार्टिन मिसाइल और फायर कंट्रोल की तरफ से तैयार किया जाता है। यह मिसाइल डिफेंस सिस्टम इस समय अमेरिकी सेनाओं के अलावा जर्मनी, ग्रीस, इजरायल, जापान, कुवैत, नीदरलैंड्स, सऊदी अरब, दक्षिण कोरिया, पोलैंड, स्वीडन, कतर, यूएई, रोमानिया, स्पेन और ताइवान की सेनाएं इसका प्रयोग कर रही हैं। इस एयर डिफेंस सिस्टम को सबसे पहले साल 1982 में अमेरिकी सेना में शामिल किया गया था। वर्तमान समय में अमेरिकी सेना के पास 1100 पैट्रियॉट लॉन्चर्स हैं।

Post Comment

Comment List

Latest News