चुनावी शंखनाद

चुनावी शंखनाद

690 विधानसभा सीटों के लिए 10 फरवरी को पहले चरण और 7 मार्च को अंतिम चरण का मतदान होगा। सभी राज्यों के चुनावों परिणाम 10 मार्च को घोषणा किए जाएंगे।

चुनाव आयोग ने शनिवार को उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखण्ड, मणिपुर और गोवा समेत सभी पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया। 690 विधानसभा सीटों के लिए 10 फरवरी को पहले चरण और 7 मार्च को अंतिम चरण का मतदान होगा। सभी राज्यों के चुनावों परिणाम 10 मार्च को घोषणा किए जाएंगे। ये चुनाव एक ऐसे समय में हो रहे हैं जब देश में कोरोना की तीसरी लहर का खतरा मण्डरा रहा है। संक्रमितों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ रही हैं। इस गंभीरता को देखते हुए आयोग के मुख्य आयुक्त सुशील चन्द्रा ने कहा कि 15 जनवरी तक चुनावी रैलियां, जनसभा रोड शो, पदयात्रा व नुक्कड़ सभाओं पर पूर्णत: प्रतिबंध रहेगा। चन्द्रा ने कहा कि 15 जनवरी के बाद इस पाबंदी समीक्षा की जाएगी। वैसे भी राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों को प्रचार अभियान डिजिटल मोड में ही चलाना चाहिए। आयोग ने चुनावों में बाहुबलियों अथवा अपराधी छवि वाले लोगों को चुनाव लड़ने से हतोत्साहित करने के लिहाज से यह नियम बनाया है कि प्रत्येक प्रत्याशी को अपने आपराधिक रिकार्ड के बारे में कम से कम तीन बार अखबार या टीवी चैनलों के माध्यम से मतदाताओं को जानकारी देनी होगी। इसके अलावा आयोग ने यह भी फैसला किया है कि आपराधिक छवि वाले प्रत्याशियों का चयन करने के बारे में संबंधित राजनीतिक दल को भी यह ऐसे लोगों के बारे में बताना होगा और यह भी स्पष्टीकरण देना होगा कि किस आधार पर इन्हें प्रत्याशी बनाया जा रहा है और इसकी वजह क्या है? लेकिन यह नहीं बताया जाएगा कि इनके जीतने की संभावना ज्यादा है। इस मोर्चे पर आयोग की यह सराहनीय पहल है। समूचे राजनीतिक तंत्र को पाक-साफ करने का प्रयास किया ही जाना चाहिए। इसके साथ ही आयोग ने पहली बार 80 वर्ष से अधिक आयु व दिव्यांग मतदाताओं का वोट उनके घर से डलवाने की व्यवस्था की है। इन लोगों के लिए मतदान केन्द्रों पर भी विशेष व्यवस्था होगी। इस बार मतदान केन्द्रों की तादाद भी काफी बढ़ाई गई है ताकि एक केन्द्र पर अधिकाधिक एक हजार से ज्यादा मतदाता न पहुंचे। महिलाओं के लिए महिलाओं द्वारा संचालित मतदान केन्द्रों की व्यवस्था होगी। यह भी एक सराहनीय बदलाव है। आयोग ने पांचों राज्यों का जो मतदान कार्यक्रम बनाया है उसके अनुसार उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदान कराए जाएंगे और मणिपुर में दो चरणों में मतदान होगा। जबकि पंजाब, गोवा व उत्तराखण्ड में एक-एक चरण में चुनाव होंगे। जिन पांच राज्यों में चुनाव हो रहे हैं, उनमें चार में भाजपा की और पंजाब में कांग्र्रेस की सरकार है। अगले चुनावों में देखना है कि मतदाता किस दल की सरकार का चयन करेंगे। ये चुनाव राजनीतिक व राष्ट्रीय दृष्टि से महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं। देश को नतीजों की प्रतीक्षा रहेगी।

Post Comment

Comment List

Latest News