फेस्टिव सीजन में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री ने बनाया नया रिकॉर्ड, प्रति मिनट में बिकी 9 कार

फेस्टिव सीजन में ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री ने बनाया नया रिकॉर्ड, प्रति मिनट में बिकी 9 कार

इस साल के त्योहारी सीजन में स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल का लोगों में जबरदस्त क्रेज रहा है। अगर 90 दिन के त्योहारी सीजन की बात करें तो रोजाना करीब 13000 यूनिट कारों की बिक्री हुई है।

एजेंसी/नवज्योति, नई दिल्ली। इस साल ओणम से शुरू फेस्टिव सीजन भाई दूज पर खत्म हो चुका है। भारतीयों ने इस बार फेस्टिव सीजन में कार की रिकॉर्ड खरीदारी की है। ऑटोमोबाइल उद्योग के मुताबिक फेस्टिव सीजन में औसतन एक मिनट में 9 कार बेची गई है। इस साल 90 दिन के फेस्टिवल सीजन में भारत में कुल 11.4 लाख कार बिकी हैं। अगर उद्योग जगत के रेवेन्यू की बात करें तो 11.4 लाख कार की बिक्री से ऑटोमोबाइल उद्योग जगत ने 1.3 लाख करोड़ रुपए का रेवेन्यू अर्न किया है। 

एसयूवी का जबरदस्त क्रेज:
इस साल के त्योहारी सीजन में प्रीमियम और हाई एंड कारों की बिक्री अधिक हुई है, इसलिए ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री का रेवेन्यू जोरदार रहा है। इस साल के त्योहारी सीजन में स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल का लोगों में जबरदस्त क्रेज रहा है। अगर 90 दिन के त्योहारी सीजन की बात करें तो रोजाना करीब 13000 यूनिट कारों की बिक्री हुई है।

बिक्री का आंकड़ा 11.4 लाख पार:
कोरोना संकट के दौर में कारों के उत्पादन पर असर पड़ने और उसके बाद ग्राहकों की मजबूत मांग की वजह से इस साल फेस्टिव सीजन में कारों की बिक्री का आंकड़ा 11.4 लाख को पार कर गया है। पिछले साल के त्योहारी सीजन में ऑटोमोबाइल कंपनी ने 85,700 करोड़ रुपए की कारें बेची थी। पिछले 2 साल से त्योहारी सीजन में भारत में कारों की जमकर बिक्री हो रही है।

नए फीचर की मांग अधिक:
भारत की युवा आबादी में नए फीचर और आधुनिक सुविधाओं वाली कार की डिमांड बढ़ रही है। अगर भारत में त्योहारी सीजन में बिकने वाली कारों की औसत कीमत की बात करें तो यह इस साल 11.5 लाख रुपए प्रति कार रही है, पिछले साल यह 10.5 लाख रुपए प्रति कार थी।

पिछले सालों की बिक्री:
उद्योग जगत के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है। ऑटोमोबाइल कंपनियां हालांकि आने वाले समय में कारों की मांग की ग्रोथ रेट में कमजोरी की आशंका से चिंतित हैं। साल 2016 के फेस्टिवल सीजन में 77 दिनों में 7.6 लाख कार बिकी थी जबकि साल 2017 में फेस्टिव सीजन के 66 दिनों में 7 लाख कारें बिकी थी। 

पहले के सभी रिकॉर्ड टूटे:
साल 2018 में फेस्टिव सीजन 85 दिन का था और इसमें 8.3 लाख कार बिकी थी। साल 2019 के फेस्टिवल सीजन में 74 दिन थे और इस समय 6.8 लाख कारों की बिक्री हुई थी। साल 2020 में फेस्टिव सीजन 92 दिनों का था और इसमें 9.3 लाख कार बिकी थी जबकि साल 2021 में फेस्टिव सीजन 82 दिनों का था और इसमें 7.5 लाख कार बिकी थी।

Post Comment

Comment List

Latest News

जन भागीदारी विकास योजना में फंड आवंटित, परिसम्पत्ति सृजन के अटके काम शुरू होंगे जन भागीदारी विकास योजना में फंड आवंटित, परिसम्पत्ति सृजन के अटके काम शुरू होंगे
ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग ने महात्मा गांधी जन भागीदारी विकास योजना में 33 जिलों को 20 करोड़ रुपए का...
संग्रहाध्यक्ष, खोज व उत्खनन अधिकारी प्रतियोगी परीक्षा-2023 होगी 19 जून को
NDA Government राजस्थान पर मेहरबान, केंद्र ने राज्य को जारी किए 8421.38 करोड़
बाड़मेर-ऋषिकेश एक्सप्रेस रेलसेवा एलएचबी रैक से संचालित होगी
राज्यवर्धन ने सूचना सहायक पदों की संख्या बढ़ाई
कांग्रेस ने आंध्रप्रदेश के विशेष दर्जे पर मोदी से मांगा स्पष्टीकरण
सीएम को लिखा पत्र : निकायों का पुनः परिसीमांकन एवं वार्डों की संख्या के निर्धारण का कार्य पारदर्शी तरीके से हो: राजेंद्र राठौड़