स्टेशनों का पुनर्विकास, राजस्थान में विकास के साथ विरासत की भी होगी झलक

राजस्थान में 85 रेलवे स्टेशनों का होगा कायाकल्प

स्टेशनों का पुनर्विकास, राजस्थान में विकास के साथ विरासत की भी होगी झलक

अमृत भारत रेलवे स्‍टेशन अपनी विरासत पर गर्व करने और प्रत्‍येक नागरिक में गौरव की भावना भरने के प्रतीक होंगे।

जयपुर। रेलवे प्रशासन की ओर से अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत स्‍टेशनों का पुनर्विकास किया जा रहा है। इस योजना के द्वितीय फेज में उत्तर पश्चिम रेलवे के 24 एवं राजस्थान के 21 रेलवे स्टेशनों को पुनर्विकसित किया जाएगा। जिनका शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 फरवरी को करेंगे। 

प्रथम चरण में प्रधानमंत्री की ओर से राजस्थान के 55 स्टेशनों को पुनर्विकसित करने के कार्य का शिलान्यास 6 अगस्त, 2023 को  किया गया था। प्रथम चरण में  राजस्थान के 55 स्टेशनों का लगभग 2908 करोड़ रुपए की लागत से पुनर्विकास किया जा रहा है। वहीं द्वितीय चरण में राजस्थान के 21 स्टेशनों का 1104.29 करोड़ की लागत से विकास किया जाएगा।

अमृत भारत स्टेशन योजना में ए- क्लास शहरों के साथ ही बी एवं सी क्लास के छोटे शहरों का भी चयन किया गया है। इन छोटे शेरों के स्टेशन के विकास से स्थानीय नागरिकों के साथ ही आस पास के ग्रामीण परिवेश के यात्रियों को भी आधुनिक सुविधाओं का लाभ प्राप्त हो सकेगा।

यात्रियों को सुखद अनुभूति के लिए बड़े स्टेशनों में जयपुर, गांधीनगर जयपुर, जोधपुर, जैसलमेर, अजमेर, बीकानेर, आबू रोड, उदयपुर, पाली मारवाड़  में अमृत भारत स्टेशनों में रूफ प्लाजा, वेटिंग रूम, लिफ्ट– एस्केलेटर, शॉपिंग कंपलेक्स, कैफेटेरिया, सीसीटीवी कैमरे, अंडरग्राउंड पार्किंग सहित पूरा स्टेशन दिव्यांग फ्रेंडली होगा। साथ ही हरित पर्यावरण की संकल्पना को साकार करने के लिए सौर ऊर्जा एवं जल संरक्षण की व्यवस्था भी रहेगी। 

अमृत भारत रेलवे स्‍टेशन अपनी विरासत पर गर्व करने और प्रत्‍येक नागरिक में गौरव की भावना भरने के प्रतीक होंगे। अमृत स्‍टेशन, स्थानीय भू–भाग की सांस्‍कृतिक और विरासत की झलक प्रस्‍तुत करेंगे। जयपुर रेलवे स्टेशनों पर राजस्थान के हवा महल और आमेर किले की झलक देखने को मिलेगी। सभी अमृत भारत स्टेशन भवनों के डिजाइन स्थानीय संस्कृति, विरासत और वास्तुकला से प्रेरित होंगे। शहर के दोनों किनारों के उचित एकीकरण के साथ इन स्टेशनों को 'सिटी सेंटर' के रूप में विकसित करने में अमृत भारत स्टेशन महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे

छोटे स्टेशनों पर भी अमृत भारत स्टेशन योजना के तहत नई बिल्डिंग के साथ अतिरिक्त प्रवेश द्वार, रिटायरिंग रूम, उच्च स्तर प्लेटफॉर्म, प्लेटफार्म शेल्टर, कोच इंडिकेशन बोर्ड, दिव्यांग अनुकूल सुविधाएं, बेहतर व उत्कृष्ट साज–सज्जा, पार्किंग सुविधा सहित सौंदर्य कृत सर्कुलेटिंग एरिया आदि कार्य किए जाएंगे। रेलवे प्रशासन रेल यात्रा को सुगम बनाने के साथ-साथ सुखद बनाने के लिए भी काम कर रही है। रेलवे का प्रयास रेलगाड़ी से स्टेशन तक सर्वोत्तम संभव अनुभव प्रदान करना है।

पुनर्विकसित स्टेशनों से न केवल पर्यटन बढ़ेगा, बल्कि आस-पास के क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियों को भी बढ़ावा मिलेगा। स्टेशनों का यह पुनर्विकास बेहतर तरह से डिजाइन किए गए ट्रैफिक सर्कुलेशन, इंटर-मोडल एकीकरण और यात्रियों के मार्गदर्शन के लिए दिशा-निर्देश सुनिश्चित करने के साथ-साथ आधुनिक यात्री सुविधाएं प्रदान करेगा।

उत्तर पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक अमिताभ के कुशल निर्देशन में जयपुर, गांधीनगर जयपुर, जोधपुर, जैसलमेर, उदयपुर एवं बीकानेर स्टेशनो सहित प्रथम फेज में चयनित समस्त स्टेशनों पर पुनर्विकास का कार्य प्रारंभ कर दिया गया है एवं युद्ध स्तर पर कार्य प्रगति पर है। दिनांक 26 फरवरी को प्रधानमंत्री की ओर से अन्य स्टेशनों के शिलान्यास के साथ ही कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

Read More राजस्थान में गर्मी बढ़ते ही हीट वेव पर अलर्ट हुआ चिकित्सा विभाग  

Post Comment

Comment List

Latest News

आरक्षण चोरी का खेल बंद करने के लिए 400 पार की है आवश्यकता : मोदी आरक्षण चोरी का खेल बंद करने के लिए 400 पार की है आवश्यकता : मोदी
कांग्रेस ने वर्षों पहले ही धर्म के आधार पर आरक्षण का खतरनाक संकल्प लिया था। वो साल दर साल अपने...
लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था, पुलिस के 85 हजार अधिकारी-जवान सम्भालेंगे जिम्मा : साहू 
इंडिया समूह का घोषणा पत्र देखकर हताश हो रही है भाजपा : महबूबा
लोगों को डराने के लिए खरीदे हथियार, 2 बदमाश गिरफ्तार
चांदी 1100 रुपए और शुद्ध सोना 800 रुपए महंगा
बेहतर कल के लिए सुदृढ ढांचे में निवेश की है जरुरत : मोदी
फोन टेपिंग विवाद में लोकेश शर्मा ने किया खुलासा, मुझे अशोक गहलोत ने उपलब्ध कराई थी रिकॉर्डिंग