भारत में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय न्यूरोट्रॉमा सम्मेलन जयपुर में होगा आयोजित

एक से तीन मार्च तक आयोजित होगी कांफ्रेंस 

भारत में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय न्यूरोट्रॉमा सम्मेलन जयपुर में होगा आयोजित

विश्व के 300 से अधिक प्रतिष्ठित न्यूरोसर्जन, भारत में पहली बार एक से तीन मार्च तक जयपुर में एकत्र होकर ट्रॉमा क्षेत्र की उपलब्धियों और संभावनाओं के विषय में चर्चा करेंगे।

जयपुर। विश्व के 300 से अधिक प्रतिष्ठित न्यूरोसर्जन, भारत में पहली बार एक से तीन मार्च तक जयपुर में एकत्र होकर ट्रॉमा क्षेत्र की उपलब्धियों और संभावनाओं के विषय में चर्चा करेंगे।

द वर्ल्ड फैडरेशन ऑफ न्यूरोसर्जरी (WFNS) के पहले भारतीय सेकंड वाइस प्रेसिडेंट और आयोजन समिति के अध्यक्ष डा. वी डी सिन्हा एवं आयोजन सचिव डा. अशोक गुप्ता ने आज यहां संवाददाताओं को बताया कि, यह देश के लिए गौरव की बात है कि, भारत में पहली बार "इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस ऑन रिसेंट एडवांसेज इन न्यूरोट्रामेटोलॉजी" (इकरान 2024) जयपुर में आयोजित की जा रही है। डा. गुप्ता ने कहा कि, यह पहला मौका है जब डा. सिन्हा के रूप में किसी भारतीय को फैडरेशन में उच्च पद पर नुमाइंदगी मिली और उसी के साथ यह कॉन्फ्रेंस आयोजित करने की जिम्मेदारी भी।

आयोजन समिति के अध्यक्ष डा. सिन्हा ने विश्वास जताया कि, विलक्षण प्रतिभा के धनी इन न्यूरोसर्जस के बीच होने वाला गहन विचार विमर्श, विश्व की न्यूरोसर्जरी चिकित्सा, शिक्षा और उसमें अनुसंधान को एक नई दिशा देगा। उन्होंने कहा कि, न्यूरोट्रोमा के फील्ड में काम कर रहे युवा न्यूरोसर्जन के लिए यह विश्व के अनुभवी और सर्वोत्तम चिकित्सकों से बातचीत कर अपनी प्रतिभा को निखारने का एक बड़ा अवसर भी होगा। उन्होंने बताया कि, विश्व के 30 हज़ार से अधिक न्यूरो सर्जन फैडरेशन से जुड़े हुए हैं।

सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज में न्यूरोसर्जरी विभाग के प्रमुख डा. गुप्ता ने बताया कि, तीन दिवसीय कॉन्फ्रेंस से पहले 29 फरवरी को एक प्री कॉन्फ्रेंस वर्कशॉप भी होगी जिसमें स्कल (खोपड़ी) से जुड़ी तकनीक और 3डी एनाटॉमी एक्सोस्कोप डिमॉन्सट्रेशन होगा। समाज में सड़क सुरक्षा और अंगदान के प्रति जागरूकता जगाने के उद्देश्य से इस मौके पर एक मार्च को एक वॉकथान भी आयोजित की जा रही है जिसे जयपुर के पुलिस कमिश्नर श्री बीजू जोसेफ जार्ज और फैडरेशन के चेयरमैन डा. एंड्रयू रिसनर एवं ऑस्ट्रेलियन सोसाइटी की प्रमुख डा. केट डूमांड हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।

Read More जातियों के मुद्दों को भुनाने में जुटी कांग्रेस, रुपाला बयान और मोहन सिंधी मामलों पर बढ़ा फोकस

Post Comment

Comment List

Latest News