बीजेपी के पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल कांग्रेस में हुए शामिल, ओम बिड़ला के खिलाफ लड़ सकते हैं चुनाव

शांति धारीवाल कार्यक्रम से रहे नदारद

बीजेपी के पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल कांग्रेस में हुए शामिल, ओम बिड़ला के खिलाफ लड़ सकते हैं चुनाव

गुंजल के कांग्रेस में शामिल होने के बाद चर्चा है कि वह कोटा-बूंदी से ओम बिड़ला के खिलाफ लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे।

जयपुर। बीजेपी के पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल ने गुरुवार को कांग्रेस से नाता जोड़ लिया है। पीसीसी में कांग्रेस के कई दिग्गज नेताओं की मौजूदगी में गुंजल कांग्रेस में शामिल हुए। प्रहलाद के साथ नरेश मीणा, सुनील परिहार और फतेह खान ने भी पार्टी की सदस्यता ली। इस मौके पर अशोक गहलोत, गोविंद सिंह डोटासरा, अशोक चांदना और धीरज गुर्जर समेत कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे। इस दौरान कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष डोटासरा ने कहा कि बीजेपी में चापलूसों की जरुरत है। हमने सबसे चर्चा करने के बाद सहमति से फैसला लिया है।

प्रहलाद गुंजल गुर्जर समाज के बड़े नेता है। वह दो बार विधायक रह चुके हैं। 2013 में कोटा उत्तर से धारीवाल को हराकर विधायक बने थे। वह वसुंधरा राजे के करीबी माने जाते हैं। 2023 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने शांति धारीवाल के खिलाफ चुनाव लड़ा था, जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। गुंजल के कांग्रेस में शामिल होने के बाद चर्चा है कि वह कोटा-बूंदी से ओम बिड़ला के खिलाफ लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे।

भाजपा में व्यक्ति पूजा हावी, गुलामी करने पर ही BJP कार्यकर्ता होने का सर्टिफिकेट मिलता है: गुंजल
सदस्यता ग्रहण करने के बाद गुंजल ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि अब भाजपा में व्यक्ति पूजा हावी होने लगी है। कोटा में किसी एक व्यक्ति और परिवार की गुलामी करने पर ही भाजपा कार्यकर्ता होने का सर्टिफिकेट मिलता है। आज लोकतंत्र कुचलने वाले इस समय में खुद्दारी और खरीददारी का खेल चल रहा है। खरीददारी के आगे आज खुद्दारी ने अपना रास्ता बदल लिया है। देश में हालातों को लेकर अशोक गहलोत की बातों से सहमत हूं। सीएम भजनलाल सहित कई नेताओं पर भी निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा में 40 साल तक काम किया। जब विधायक था तो आज के सीएम सरपंच का चुनाव लड़ रहे थे। कोई पंचायत समिति का चुनाव लड़ रहा था तो कोई छोटे से कार्यकर्ता के रूप में मौजूद था। कोटा संभाग में भाजपा की मौजूदा नीतियों के चलते मैंने सभी समर्थकों की सहमति से कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण करने का फैसला किया है।

इस मौके पर अशोक गहलोत ने कहा कि आज देश में जो हालात बने हैं, उनके खिलाफ कई भाजपा नेता और कार्यकर्ता चाहकर भी नहीं बोल पा रहे। गुंजल ने हालातों के खिलाफ आवाज उठाने का निर्णय लेते हुए कांग्रेस में शामिल होकर राहुल गांधी की उठाई आवाज को मजबूत करने का निर्णय लिया है। कोटा क्षेत्र में इनके प्रभाव का फायदा कांग्रेस को मिलेगा। सभी नेताओं से सहमति के बाद गुंजल कांग्रेस परिवार में शामिल हुए हैं। वहीं पीसीसी चीफ गोविन्द डोटासरा ने गुंजल का कांग्रेस में स्वागत करते हुए कहा कि भाजपा के अंदर कई नेता लोकतंत्र कुचलने वाली नीतियों से परेशान हैं। गुंजल ने इसके खिलाफ आवाज उठाकर आम जनता के समर्थन में आवाज उठाई है। अब कांग्रेस और मजबूती से कोटा संभाग में जीत हासिल करेगी।

Post Comment

Comment List

Latest News

युवा चेहरों ने बढ़ाई भाजपा-कांग्रेस की परेशनी, निर्दलीय प्रत्याशी भी दे रहे चुनौती युवा चेहरों ने बढ़ाई भाजपा-कांग्रेस की परेशनी, निर्दलीय प्रत्याशी भी दे रहे चुनौती
दूसरे फेज की 13 सीटों में शामिल डूंगरपुर-बांसवाड़ा और बाड़मेर-जैसलमेर सीट पर युवा चेहरों की वजह से चुनाव चर्चाओं में...
चुनाव का पहला चरण : 16.63 करोड़ मतदाता करेंगे 1605 प्रत्याशी के भविष्य का फैसला 
लोकसभा चुनाव : शहर में 49 लाख से अधिक मतदाता करेंगे मतदान
Loksabha Election 1st Phase Voting Live : 21 राज्यों-केन्द्र शासित प्रदेशों की 102 सीटों पर वोटिंग जारी
हत्या के आरोपी ने हवालात में की आत्महत्या, चादर से लगाया फंदा
Loksabha Rajasthan 1st Phase Voting Live : राजस्थान की 12 लोकसभा सीटों के लिए मतदान जारी, जयपुर में 11.10 फीसदी और ग्रामीण में 10.94 फीसदी मतदान हुआ
युवाओं में मतदान का रुझान बढ़ाने के लिए सेल्फी कॉन्टेस्ट