चीन सीमा से सटे 25 गांवों के ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार का लिया निर्णय

लगातार हस्तक्षेप किया जा रहा है

चीन सीमा से सटे 25 गांवों के ग्रामीणों ने चुनाव बहिष्कार का लिया निर्णय

अल्पाइन हिमालय वाले इस क्षेत्र में किसी भी प्रकार का निर्माण किया जाना असुरक्षित है। सरकारी महकमों की ओर से भी लगातार हस्तक्षेप किया जा रहा है।

सरमोली। भारत-चीन सीमा से सटे उत्तराखंड के 25 गांवों ने इस बार आम चुनाव के बहिष्कार का निर्णय लिया है। इन गांवों के हजारों ग्रामीण मुनस्यारी से भारतीय सेना को नहीं हटाए जाने से नाराज हैं। विकास खंड के सरमोली के जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया के अनुसार चीन सीमा से सटे मुनस्यारी विकासखंड के 25 गांवों के ग्रामीण पिछले ढाई दशक से मुनस्यारी के बलाती फार्म और खलिया टॉप से भारतीय सेना को हटाए जाने की मांग कर रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि भारतीय सेना यहां लगातार अपना विस्तार कर रही है जिससे इस क्षेत्र की जैव विविधता और प्राकृतिक संसाधन प्रभावित हो रहे हैं। खासकर पेयजल स्रोत दूषित हो रहे हैं। अल्पाइन हिमालय वाले इस क्षेत्र में किसी भी प्रकार का निर्माण किया जाना असुरक्षित है। सरकारी महकमों की ओर से भी लगातार हस्तक्षेप किया जा रहा है।

चुनाव बहिष्कार को लेकर अभियान 
मर्तोलिया ने आगे बताया कि ग्रामीण वर्ष 1999 से ही बलाती फार्म और खलिया टॉप से सेना को अन्यत्र शिफ्ट किए जाने की मांग कर रहे हैं लेकिन शासन और प्रशासन की ओर से उनकी मांग की लगातार अनदेखी की जा रही है। इसलिए बूंगा, सरमोली, बनियागांव, कवाधार , सेरा सुराईंधार, दराती, खसियाबाड़ा, सुरिंग, जलथ, दरकोट, दुम्मर, हरकोट, धापा, लास्पा, मिलम, सांईपोलू, बुई एवं ढिमढिमिया के 12000 मतदाताओं ने इस बार आम चुनाव से दूरी बनाने का निर्णय लिया है। ग्रामीणों की ओर से यह भी तय किया गया है कि 11 से 17 तक चुनाव बहिष्कार को लेकर क्षेत्र में व्यापक जागरूकता अभियान चलाए जाये। इस अभियान के संचालन के लिये उन्होंने जिला निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर अनुमति भी मांगी है।

 

Tags: election

Post Comment

Comment List

Latest News

Home Composting and Three R's को निगम ग्रेटर उपलब्ध कराएगा मंच Home Composting and Three R's को निगम ग्रेटर उपलब्ध कराएगा मंच
होम कम्पोस्टिंग प्रक्रिया में जो लोग घर पर ही पेड़-पौधों के साथ ही रसोई से निकलने वाले फल, सब्जी खाद्य...
उद्योगों के लिए संसाधन पर्याप्त, राजनीतिक इच्छा शक्ति नहीं
पेयजल सिस्टम गड़बड़ाया : पानी का प्रेशर कम, सप्लाई समय भी घटाया
लोकसभा चुनाव : 2019 की क्लोज कॉन्टेस्ट वाली वो सीटें जिनपर टिका है एनडीए और इंडिया दोनों का 2024 का चुनावी गणित!
म्यांमार में हिंदुओं और बौद्धों पर आफत, 5000 घर जलाए 
चार जून को करौली-धौलपुर का सबसे पहले और बाड़मेर का अंत में होगा नतीजा घोषित
कंप्यूटर पार्ट्स फैक्ट्री में लगी भीषण आग