खेल परिषद में अब 'घर का राज', अध्यक्ष कृष्णा पूनिया ने पति को बनया पावरफुल

वीरेन्द्र पूनिया को फिर फ्रीहैंड दे दिया है

खेल परिषद में अब 'घर का राज', अध्यक्ष कृष्णा पूनिया ने पति को बनया पावरफुल

राजस्थान खेल परिषद में राजनीतिक नियुक्तियों के बाद पावर का खेल शुरू हो गया है। परिषद की चेयरमैन कृष्णा पूनिया ने 24 मार्च को आदेश जारी कर चीफ स्पोर्ट्स (सीएसओ) ऑफिसर वीरेन्द्र पूनिया को फिर फ्रीहैंड दे दिया है।

जयपुर। राजस्थान खेल परिषद में राजनीतिक नियुक्तियों के बाद पावर का खेल शुरू हो गया है। परिषद की चेयरमैन कृष्णा पूनिया ने 24 मार्च को आदेश जारी कर चीफ स्पोर्ट्स (सीएसओ) ऑफिसर वीरेन्द्र पूनिया को फिर फ्रीहैंड दे दिया है। पूनिया चेयरमैन कृष्णा पूनिया के पति हैं और उन्हें परिषद में नवसृजित सीएसओ के पद पर नियुक्त किया गया था। इस खेल में परिषद के वाइस चेयरमैन सतवीर चौधरी को दरकिनार किया गया है।

खेल सचिव ने किया कार्य आवंटन
वीरेन्द्र पूनिया ने सीएसओ का पद संभाला और तत्कालीन खेल सचिव और परिषद के कार्यवाहक अध्यक्ष आईएएस विकास सीताराम भाले ने आदेश से पूनिया के कार्य का आवंटन किया। भाले ने अगले ही दिन एक और आदेश जारी किया और कहा कि पूनिया द्वारा सभी कार्यो की पालना किए जाने के लिए सचिव तथा अध्यक्ष से अनुमोदन लिया जाना आवश्यक है। खेल सचिव ने फिर एक शुद्धि-पत्र जारी किया। इस आदेश में पूर्व आदेश को दुरुस्त करते हुए कहा कि चीफ स्पोर्ट्स अधिकारी अपने सभी कार्यों की रिपोर्ट राजस्थान खेल परिषद के सचिव को करेंगे।

कृष्णा ने बदल दिए आदेश
राज्य सरकार ने पूर्व ओलंपियन कृष्णा पूनिया को राजस्थान खेल परिषद का अध्यक्ष नियुक्त किया। पूनिया ने कार्यभार संभाला और आदेश जारी किया। इसमें कहा गया कि मुख्य खेल अधिकारी के कार्य विवरण के संबंध में जारी आदेश को निष्प्रभावी कर बाद जारी आदेश को बहाल किया जाता है। यानी कृष्णा ने अपने पति को पॉवरफुल बना दिया।

Read More 9 लाख से अधिक भारतीयों ने नागरिकता छोड़ी : गहलोत

मेरे से पहले वाले अध्यक्ष भाले ने पता नहीं किस मकसद से आदेश को एक दिन बाद बदल दिया। सीएसओ अन्तरराष्ट्रीय खिलाड़ी रहे है। हमें प्रदेश में खेलों का विकास करना है। इस वजह से आदेश को बहाल किया है।
- कृष्णा पूनिया, अध्यक्ष, राजस्थान खेल परिषद

खेल परिषद के विधान के अनुसार अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव और वित्तीय सलाहकार के साथ साधारण सभा के छह मनोनीत सदस्यों के बाद ही मुख्य खेल अधिकारी आते है। जल्द ही इसकी पालना कराई जाएगी। विधान के अनुसार सीएसओ इन चारों पदों को रिपोर्ट करेंगे। फिलहाल मुझे कोई कार्य आवंटित नहीं किया है, लेकिन हम खेलों के विकास के लिए काम कर रहे है।
- सतवीर चौधरी, उपाध्यक्ष, राजस्थान खेल परिषद

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News