विजय को हजारों लोगों ने दी नम आंखों से अंतिम विदाई, कश्मीर के कुलगाम में आंतकवादियों ने की थी हत्या

आतंकवादियों ने बैंक मैनेजर विजय को बनाया था टार्गेट किलिंग का निशाना

 विजय को हजारों लोगों ने दी नम आंखों से अंतिम विदाई, कश्मीर के कुलगाम में आंतकवादियों ने की थी हत्या

सादुलपुर। कश्मीर के कुलगाम में टार्गेट किलिंग का निशाना बने चूरू संसदीय क्षेत्र नोहर तहसील के गांव भगवान निवासी शाखा प्रबंधक विजय कुमार का शुक्रवार को उनके पैतृक गांव में गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार किया गया।

सादुलपुर। कश्मीर के कुलगाम में टार्गेट किलिंग का निशाना बने चूरू संसदीय क्षेत्र नोहर तहसील के गांव भगवान निवासी शाखा प्रबंधक विजय कुमार का शुक्रवार को उनके पैतृक गांव में गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार किया गया। शुक्रवार सुबह दिवंगत विजय कुमार का पार्थिव शव गांव लाया गया। वहां मौजूद हजारों लोगों की आंखें नम हो गई। विजय के माता-पिता और  पत्नी समेत परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया।  विदित रहे कि करीब चार माह पहले ही विजय की शादी हुई थी और पिछले माह ही इनकी पत्नी उनके पास कश्मीर गई थी। परिजनों की हालत देख कर उपस्थित लोगों की आंखों में आंसुओं का सैलाब उमड़ पड़ा। विजय की माता ने सुबकते हुए कहा कि बेटा इतना खतरा था तो नौकरी छोड़ कर घर आ जाता।

विजय के पिता ने रूंघे गले से केंद्र सरकार से इस तरह हो रही टार्गेट किलिंग की घटनाओं पर सख्त कार्यवाही करने की मांग की। विजय की पत्नी ने रोते हुए बताया कि इन दिनों वहां के हालात बहुत खराब चल रहे थे और वे लोग भी वहां से निकलने पर विचार कर रहे थे। शव यात्रा में शामिल लोगों में काफी आक्रोश देखा गया। नागरिकों ने घटना की निंदा करने के साथ अपराधियों पर सख्त कार्यवाही की मांग केंद्र सरकार से की। अंतिम यात्रा के समय भारत माता की जय और जब तक सूरज चांद रहेगा विजय तेरा नाम रहेगा के नारों से आसमान गूंज रहा था। अंतिम संस्कार में अनेक जनप्रतिनिधि, अधिकारी और हजारों की तादाद में लोग उपस्थित रहे।


उल्लेखनिय है कि गुरुवार को कुलगाम के मोहनपुरा गांव की बैंक में हुई इस घटना की जानकारी गांव में मिलते ही पूरे इलाके में सन्नाटा पसर गया था। अनेक घरों में चूल्हे तक नहीं जले। सैंकड़ों लोग रातभर विजय के निवास स्थान पर पहुंच कर परिजनों को सांत्वना दे रहे थे। क्षेत्र के लोगों में इस घटना के बाद गुस्सा व्याप्त है।

Read More 9 लाख से अधिक भारतीयों ने नागरिकता छोड़ी : गहलोत

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News