आईपीएस पकंज चौधरी की पहल : भोपा जाति के 20 बच्चों में जगा रहे शिक्षा की अलख

दो महीने बाद बच्चों का स्कूल में कराया जाएगा दाखिला

आईपीएस पकंज चौधरी की पहल : भोपा जाति के 20 बच्चों में जगा रहे शिक्षा की अलख

स्टेट डिजास्टर रेस्पांस फोर्स (एसडीआरएफ) प्रदेश में कहीं भी आई प्राकृतिक और कृत्रिम आपदा में फंसे लोगों की जान बचाने के लिए हर समय तैयार रहती है। अपनी जान जोखिम में डालकर दूसरों की जान बचाने वाली एसडीआरएफ ने अब नई पहल ‘पाठशाला’ शुरू की है।

जयपुर। स्टेट डिजास्टर रेस्पांस फोर्स (एसडीआरएफ) प्रदेश में कहीं भी आई प्राकृतिक और कृत्रिम आपदा में फंसे लोगों की जान बचाने के लिए हर समय तैयार रहती है। अपनी जान जोखिम में डालकर दूसरों की जान बचाने वाली एसडीआरएफ ने अब नई पहल ‘पाठशाला’ शुरू की है। इसके तहत एसडीआरएफ का एक जवान भोपा जाति के 20 बच्चों में शिक्षा की अलख जगाएगा। एसडीआरएफ कमांडेंट पंकज चौधरी की ओर से शुरू की गई अनूठी पहल से बच्चों को नई दिशा मिलेगी। हाल में इन बच्चों को बेसिक शिक्षा दी जा रही है। इनमें से मेधावी बच्चों का आने वाले समय में स्कूल में दाखिला कराया जाएगा।

प्राकृतिक और कृत्रिम आपदा में फंसे लोगों की जान बचाने के लिए हर समय तैयार

एक नजर में प्रयास

प्रदेश के एसडीआरएफ का मुख्यालय गत 2020 जून में जयपुर शहर के झलाना से 45 किलोमीटर दूर अजमेर रोड पर ‘गाड़ोता’ में शिफ्ट हुआ है। करीब 100 बीघा में इसका कैंपस है। इसके आस-पास दस वर्षों से ‘भोपा जाति’ के 15 परिवार जीवनयापन कर रहे हैं। यहां 100 की संख्या में सदस्य है, जिनमें 30 पुरुष, 35 महिलाएं व 35 बच्चे हैं । इनका काम मजदूरी करना और किसी प्रकार से अपना जीवन-यापन करना है।

Read More एलन कोचिंग का एक और छात्र तीन दिन से लापता

गलत राह पर चलने से बचेंगे

Read More नगर पालिका की गलती का खामियाजा भुगत रहे लोग

सेनानायक पंकज चौधरी ने इन जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए कई प्रयास और नवाचार किए है, जिनमें एसडीआरएफ क्रैच के अलावा एसडीआरएफ की पाठशाला है। उम्मीद है कि इन परिवारों से बच्चे पढ़ लिखकर आगे बढ़े तो इन सभी परिवारों को नई दिशा मिल जाएगी। यह छोटी सी शुरुआत यह संदेश देती है कि यह बच्चे पढ़-लिख जाएगे तो वह गलत राह पर चलने से बचेंगे। इन बच्चों को पढ़ाने के लिए एसडीआरएफ के एक जवान को तैनात किया है, जो रविवार को छोड़कर हर दिन इन बच्चों को सुबह 9 से 10 बजे तक सभी विषय पढ़ाते हैं।

Read More अवेयर फॉर रेयर कार्यशाला में चिकित्सकों ने लिया भाग

एसडीआरएफ ने भोपा जाति के बच्चों को मुख्यधारा में जोड़ने के लिए एक पाठशाला शुरू की है, जिसमें हाल में 20 बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। ऐसा ही प्रयास आगे भी जारी रहेगा।-पंकज चौधरी, सेनानायक एसडीआरएफ



Post Comment

Comment List

Latest News

नेत्रदान के प्रति आमजन में जागरूकता आवश्यक: सुधांश पंत नेत्रदान के प्रति आमजन में जागरूकता आवश्यक: सुधांश पंत
मुख्य सचिव ने आमजन को नेत्रदान के प्रति जागरूक कर कॉर्निया उपलब्ध कराने में सहयोग के लिए सोसायटी को साधुवाद...
प्रदेश में 14 धार्मिक और पर्यटन स्थलों पर बनेंगे रोप-वे
दिनदहाड़े रेप पीड़िता पर दुष्कर्मियों ने फरसे से किए 15 वार, गोली मारी, दो गिरफ्तार
रक्तदान शिविर का हुआ पोस्टर विमोचन
"शिक्षा में गुणवत्ता बनाए रखने के लिए रिसर्च व कौशल विकास को आधार बनाएं हायर एजुकेशन इंस्टिट्यूट" –डॉ. तोमर 
कौशांबी:पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट, चार की मौत
G7 नेताओं ने नवलनी की मौत पर रूस को प्रतिबंधों की धमकी दी