नेशनल हेराल्ड मामला: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष से 4 दौर में 40 घंटे दागे सवाल

सोनिया गांधी को अस्पताल से मिली छुट्टी, 23 को होना है ईडी के समक्ष पेश

नेशनल हेराल्ड मामला:  कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष से 4 दौर में 40 घंटे दागे सवाल

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की पूछताछ से राहत मिलती हुई नहीं दिख रही है। सूत्रों के अनुसार केन्द्रीय जांच एजेंसी ने कांग्रेस नेता को मंगलवार को फिर से पेश होने के लिए बुलाया है।

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की पूछताछ से राहत मिलती हुई नहीं दिख रही है। सूत्रों के अनुसार केन्द्रीय जांच एजेंसी ने कांग्रेस नेता को मंगलवार को फिर से पेश होने के लिए बुलाया है। यह पांचवीं बार होगा। जब राहुल गांधी को नेशनल हेराल्ड मामले में कथित रूप से मनी लॉड्रिंग के मामले में पूछताछ की जाएगी। अब तक राहुल गांधी से 40 घंटे से भी ज्यादा समय तक पूछताछ कर चुकी है। इस बीच, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को सर गंगाराम अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। जहां वह बीती 12 जून से कोविड संक्रमण के बाद पैदा हुई शारीरिक परेशानियों के कारण भर्ती थीं। उन्हें भी ईडी ने 23 जून को पेश होने के लिए नोटिस भेजा हुआ है।
दफ्तर तक साथ गई प्रियंका
इससे पहले सोमवार को सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे राहुल गांधी ईडी दफ्तर पहुंचे थे। जहां उनके साथ बहन प्रियंका गांधी भी दफ्तर तक उनके साथ गर्इं। राहुल गांधी से दिन में साढ़े तीन बजे तक पूछताछ की गई। बाद में दूसरे दौर में उनसे चार घंटे से ज्यादा समय तक फिर से पूछताछ की गई।
यह पूछे सवाल!
माना जा रहा है कि इस दौरान राहुल गांधी से ‘यंग इंडिया लिमिटेड’ की स्थापना, ‘नेशनल हेराल्ड’ के संचालन और एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) को कांग्रेस द्वारा दिए गए कर्ज एवं मीडिया संस्था के भीतर धन के हस्तांतरण से जुड़े सवाल पूछे गए गए। राहुल गांधी से उनके देश एवं विदेश में निजी बैंक खातों एवं संपत्ति के बारे में भी जानकारी ली गई है।
विरोध में कांग्रेस का सत्याग्रह
कांग्रेस की ओर से सोमवार को राहुल गांधी से ईडी की पूछताछ और सेना में भर्ती की ‘अग्निपथ’ योजना के विरोध में सत्याग्रह किया गया। जिसमें राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत कांग्रेस के कई दिग्गज नेता मौजूद रहे। इस दौरान पुलिस ने नारेबाजी एवं धरना प्रदर्शन कर रहे कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया। जिन्हें बाद में छोड़ दिया गया।
हम भाजपा मुख्यालय में घुसे तो कैसा लगेगा : गहलोत
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सत्याग्रह में मौजूद कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पार्टी दफ्तर में दिल्ली पुलिस द्वारा जबरन घुसकर पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं से बदसलूकी करने पर कड़ी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि राजस्थान समेत कई राज्यों में भाजपा के विरोधी दलों की सरकारें हैं। यदि हमने भी वही काम किया। जो दिल्ली में पुलिस द्वारा हमारे साथ हुआ है, तो कैसा लगेगा। हम शांतिपूर्वक सत्याग्रह कर रहे हैं और सरकार दमन पर उतारु है। पुलिस दुर्व्यवहार कर रही है। ऐसा कभी नहीं हुआ है कि पुलिस कांग्रेस दफ्तर में घुस जाए। यह तानाशाही रवैया है। यह विचारधारा की लड़ाई है। पार्टी कार्यकर्ताओं को डरने या घबराने की जरुरत नहीं है। हम संघर्ष करेंगे।

इंदिरा गांधी के जमाने में भी पार्टी कार्यकर्ताओं ने ऐसे ही संघर्ष किया था। राहुल गांधी इतना परेशान करने के बाद भी न झुके हैं और न डरे हैं। सरकार को बस इसी बात से परेशानी हो रही है। सरकार कितना भी प्रयास कर ले। कांग्रेस उसके खिलाफ जनता के हित के मुद्दों को उठाती रहेगी। क्या एक अखबार चलाना गुनाह है। पांचजन्य और आॅर्गेनाइजर जैसे अखबारों को भी तो यह सरकार मदद करती होगी। तो कांग्रेस ने ऐसा क्या बुरा कर दिया? सेना की अग्निपथ योजना को लेकर गहलोत ने कहा कि सरकार अभी भी अपनी जिद पर अड़ी हुई है। लोकतंत्र में सबसे संवाद करके ही आगे बढ़ा जाता है। इससे युवाओं में रोष और आक्रोश व्याप्त है और वह सड़कों पर उतरा हुआ है। सरकार को उनकी बात सुनकर उसका समाधान करना चाहिए।
युवाओं के सपनों से धोखा किया : पायलट
पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि इस सरकार ने युवाओं के सपनों के साथ धोखा किया है। अग्निपथ योजना से युवाओं को लाभ नहीं होगा। बल्कि वह 24 साल की आयु में रिटायर होने के बाद क्या करेंगे। इसका समाधान सरकार नहीं बता पा रही है। अच्छा होता संसद में इस बारे में विस्तार से चर्चा की जाती और फिर इस योजना को लाया जाता। पायलट ने कहा कि सरकार विपक्ष की आवाज को दबाना चाहती है। लेकिन वह ऐसा कर नहीं पाएगी। क्योंकि इस सरकार ने किसानों, नौजवानों और मध्यम वर्ग पर करारी चोट की है। आज वही लोग सरकार के सामने खड़े हैं। ऐसे में कांग्रेस भी उनके साथ है। पायलट ने कहा कि जब भी चुनाव आते हैं। यह लोग धु्रवीकरण करवाकर चुनाव जीतते हैं।

राहुल की छवि धूमिल करने के लिए सूचनाएं लीक: माकन
इससे पहले सोमवार सुबह पार्टी मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस महासचिव अजय माकन ने कहा कि ईडी की पूछताछ के दौरान चयनित सूचनाएं राहुल गांधी की छवि को धूमिल करने के लिए लीक की गर्इं। इससे अच्छा है कि पूछताछ के दौरान ईडी कैमरा आॅन रखे।

Read More प्रदेश में 1236 पशुओं की लंपी से मौत 

Post Comment

Comment List

Latest News