अस्पताल में बारिश से वार्डों में टपक रहा पानी, गिर रहा प्लास्टर

वार्ड से टपकती छतों से मरीज हुए परेशान : बाहर से लेकर अंदर तक भरा पानी, मरीजों का हाल हुआ बेहाल

अस्पताल में बारिश से वार्डों में टपक रहा पानी,  गिर रहा प्लास्टर

शहर में पिछले तीन चार दिन से हो रही लगातार बारिश ने संभाग के दोनों बडे अस्पातालों की अव्यवस्थाओं की पोल खोलकर रख दी। अस्पताल परिसर तलाई बन गया वहीं जगह- जगह गड्ढे पड़ने लोगों को अस्पताल पहुंचने में परेशानी हो रही है।

कोटा । शहर में पिछले तीन चार दिन से हो रही लगातार बारिश ने संभाग के दोनों बडेÞ अस्पातालों की अव्यवस्थाओं की पोल खोलकर रख दी। अस्पताल परिसर तलाई बन गया वहीं जगह- जगह गड्ढे पड़ने लोगों को अस्पताल पहुंचने में परेशानी हो रही है। अस्पताल के अधिकांश वार्डो में छतों से पानी टपकने से मरीजों को भारी परेशानी हो रही है। वहीं 60 साल पुरानी एमबीएस की बिल्डिंग में मरम्मत नहीं होने से छतों से प्लास्टर गिर रहा है। वहीं सीटी स्कीन केंद्र, न्यूरो सर्जरी वार्ड में फाल सिंलिंग जगह जगह से टूटकर गिर रही है। बिजली जगह जगह से फिटिंग उखड़ चुकी है। ऐसे में बारिश में कंरट का खतरा बना हुआ है। अस्पताल परिसर में बारिश और कीचड होने से कई वाहन गड्ढों में फंस गए। वहीं जेकेलोन अस्पताल के नये व पुराने वार्डो से छतों से टपकने पानी में भर्ती प्रसुताओं भारी परेशानी उठानी पड़ रही। परिजन टपकती छतों से अपने मरीजों को बचाने का जतन करते नजर आए। वहीं एमबीएस अस्पताल में सीटी स्केन भवन की छत का प्लास्टर गिर गया तो अस्पताल में छत से पानी गिरने से पूरे अस्पताल में पानी जमा हो गया। लोगों बचते बचाते गलियारों से निकलना पड़ा। वार्ड पानी टपकने से मरीजों के रिकार्ड भीग गए। एमबीएस अस्पताल में जगह जगह भरा पानी एमबीएस अस्पताल के मुख्य गेट और मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा केंद्र के बाहर पानी जमा होने से मरीजों को पानी से होकर अस्पताल में जाना पड़ा वहीं दवा घर परिसर में पानी भरा होने से मरीजों पानी में खड़े होकर दवा लेनी पड़ी। अस्पताल में जगह जगह निर्माण कार्य चलने से सारी नालियां टूट चुकी है। जिससे अस्पताल में जगह- जगह बारिश का पानी जमा हो रहा है। पानी निकासी व्यवस्था नहीं होने से परिसर तलाई बन गया है। स्ट्रॉक वार्ड के टायलेट के पास गिरी फाल सिंलिग एमबीएस अस्पताल के स्ट्रोक वार्ड में कभी चूहों का आंतक तो कभी, गंदे टायलेट की समस्या अब बारिश में टायलेट के पास की फाल सिंलिंग गिरने से मरीजों की जान जोखिम में बनी हुई है। स्ट्रोक वार्ड की गलियारा की फॉल सिंलिंग भी जगह- जगह से गिरने से हर समय खतरा बना रहता है। स्ट्रोक का वार्ड के अधिकांश कक्षों की फॉल सिंलिंग टूट चुकी है। जेकेलोन अस्पताल परिसर में भरा पानी रास्ता हुआ बंद जेकेलोन अस्पताल परिसर में चहुंओर बारिश का पानी जमा होने से मरीजों को अस्पताल में पहुंचने भारी परेशानी का सामाना करना पड़ रहा। एक तो निर्माण कार्य चलने से जगह जगह बेरिकेट्स लगाकर रास्ता बंद कर रखा है। जहां रास्ता है वहां पानी भरा हुआ है। वार्ड में पानी टपकने से प्रसूताओं को हो रही परेशानी जेकेलोन अस्पताल के वार्डो पानी टपकने से प्रसुताओं को भारी परेशानी का समाना करना पड़ा। जगह वार्डो में पानी टपकने और फर्श पर पानी जमा होने से प्रसुताओं के परिजनों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। वहीं अस्पताल परिसर के गलियार से लेकर हर वार्ड में पानी टपक रहा है। सेंटर लैब की टपकी छत एमबीएस अस्पताल की सेंटर लेब जगह जगह से टपकने से मरीजों के सेंपल लेने में परेशानी हुई। सैंपल कलेक्शन रूम में पानी टपकने से वहां रखी सीरीज व अन्य सामान भीग गया। इनका कहना अस्पताल में मरम्मत का कार्य चल रहा है। जहां जहां मरम्मत की आवश्यकता है उसके प्रस्ताव बनाकर भेजे हुए है। - डॉ. समीर टंडन, उप अधीक्षक एमबीएस अस्पताल

Post Comment

Comment List

Latest News

फकीर आदमी हूं, मेरे यहां धेला नहीं मिलेगा और चुनाव में अखिलेश-जयंत की मदद करूंगा: सत्यपाल मलिक फकीर आदमी हूं, मेरे यहां धेला नहीं मिलेगा और चुनाव में अखिलेश-जयंत की मदद करूंगा: सत्यपाल मलिक
राज्यपाल पद से सेवानिवृत्त होने के बाद मलिक बागपत स्थित अपने पैतृक गांव हिसावदा में पहुंचे थे। गांव में बुधवार...
बॉन्ड नीति के विरोध में रेजिडेंट डॉक्टर्स का अस्पतालों में पूर्णतया कार्य बहिष्कार
पूर्व पुलिसकर्मी ने चाइल्ड केयर सेंटर में की फायरिंग, 23 बच्चों समेत 34 लोगों की मौत
भारत में निर्मित कफ सिरप पीने से गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत, डब्ल्यूएचओ ने दी चेतावनी
देश में कोरोना के 2,529 नए मामले आए सामने 
ये लक्षण करते हैं फैटी लीवर की ओर इशारा, हो जाएं सतर्क
आज का 'राशिफल'