भारत को 6,000 से अधिक तरह की वस्तुओं के लिए ऑस्ट्रेलियाई बाजार में शुल्क मुक्त प्रवेश मिलेगा

दस लाख नए रोजगार मिलेंगे

भारत को 6,000 से अधिक तरह की वस्तुओं के लिए ऑस्ट्रेलियाई बाजार में शुल्क मुक्त प्रवेश मिलेगा

अगले पांच छह वर्ष में आस्ट्रेलिया के साथ हमारा द्विपक्षीय व्यापार वर्तमान 31 अरब डॉलर से बढ़ कर 45-50 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है। इससे आने वाले समय में भारत कपड़ा, इस्पात, रत्न आभूषण, फर्मा , अंगूर की मदिरा, कृषि और अन्य क्षेत्रों में रोजगार के दस लाख नए अवसर पैद हो सकते हैं। 

नई दिल्ली। भारत-आस्ट्रेलिया आर्थिक सहयोग एवं व्यापार समझौता (एआई-ईसीटीए) को आस्ट्रेलिया की संसद की मंजूरी मिलने के साथ ही दोनों आपस में पक्ष मुक्त व्यापार समझौते के प्रावधानों को यथा शीघ्र लागू करने की तैयारी में हैं। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि यह किसी विकसित देश के साथ भारत का यह एक दशक से भी अधिक समय के बाद हुआ पहला समझौता है। भारतीय उद्योग-व्यवसाय के लिए इसमें लाभ की विशाल संभावनाए छुपी है। 

दस लाख नए रोजगार मिलेंगे
इससे अगले पांच छह वर्ष में आस्ट्रेलिया के साथ हमारा द्विपक्षीय व्यापार वर्तमान 31 अरब डॉलर से बढ़ कर 45-50 अरब डॉलर तक पहुंच सकता है। इससे आने वाले समय में भारत कपड़ा, इस्पात, रत्न आभूषण, फर्मा , अंगूर की मदिरा, कृषि और अन्य क्षेत्रों में रोजगार के दस लाख नए अवसर पैद हो सकते हैं। 

एंथोनी ने मोदी के साथ फोटो लगाई
इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथोनी अल्बानीस ने सुबह एक ट्वीट में कहा कि ब्रेकिंग: भारत के साथ हमारा मुक्त व्यापार समझौता संसद से पारित हो गया है। उन्होंने इस संदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपनी एक फोटो भी लगायी है। यह चित्र हाल में बाली के जी20 सम्मेलन में खीचा गया था।  

एफटीए के बारे में अनुमान ठीक नहीं
किसी मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) को लागू करने की निश्चित तिथि के बारे में कोई अनुमान लगाना ठीक नहीं होता। इस समझौते को अब आॅस्ट्रेलिया की कार्यकारी परिषद (मंत्रिमंडल) की मंजूरी के लिए रखा जाएगा जो महज एक औपचारिकता है। हमारे यहां मंत्रमंडल की मंजूरी मिल गई है और इसे राष्ट्रपति के अनुमोदन के लिए भेजा जाएगा।

जैम एंड ज्वैलरी उद्योग बढ़ेगा
कपड़ा उद्योग इस सझौते के लागू होने की प्रतीक्षा में खड़ा है। रत्न-आभूषण और हीरा उद्योग के लिए एक बड़ा समृद्ध ग्राहकों का बाजार उदारता के साथ मिलने जा रहा है। यह समझौता आईटी सेवा उद्योग के लिए भी नई संभावनाएं खोलने वाला है। वाइन उद्योग में निवेश होगा गोयल ने वाइन (मदिरा) उद्योग में आॅस्ट्रेलिया से निवेश की अच्छी संभावना का जिक्र करते हुए कहा कि भारत के वाइन उद्योग में अभी तक विदेशी निवेश का स्तर बहुत कम है और यह छोटा और घरेलू स्तर का उद्योग बन कर सीमित रह गया है। भारत चाहता है कि आस्ट्रेलिया की कंपनियां यह आ कर इस उद्योग में निवेश करें और यहा वाइन बना कर मंगाएं। आस्ट्रेलिया के साथ मुक्त व्यापार समझौते के तहत भारत को 6,000 से अधिक तरह की वस्तुओं के लिए आॅस्ट्रेलियाई बाजार में शुल्क मुक्त प्रवेश मिल सकेगा।  

Tags: jobs market

Post Comment

Comment List

Latest News

रीजनल कॉलेज फॉर एजूकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में मोटिवेशनल प्रोग्राम का आयोजन रीजनल कॉलेज फॉर एजूकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में मोटिवेशनल प्रोग्राम का आयोजन
संस्था के वाइस चेयरमैन डॉ. अंशु सुराना ने बताया कि कॉलेज में समय समय पर कैरियर गाइडेंस के कार्यक्रम आयोजित...
पायलट और मैं पार्टी एसेट, हमारे और नेता भी एसेट: गहलोत
आईएफएफआई जूरी प्रमुख की टिप्पणी कश्मीरी हिंदुओं पर हुए अत्याचारों की भयावहता का अपमान - रोड्रिग्स
30 लाख कीमत का 287 किलो गांजा बरामद, 6 अभियुक्त गिरफ्तार
राहुल, सोनिया की जुबान बोल रहे हैं खडग़े : भाजपा
बेकाबू मेटाडोर कार में घुसी, दो की मौत, तीन घायल
हिमालय से कोटा पहुंचे ब्लैक काइट शिकारी पक्षी