18 महीने कोटा ने पाला, बड़ा हुआ तो बूंदी को दे रहे टाइगर

12 साल बाद फिर से मुकुंदरा पर कुठाराघात

18 महीने कोटा ने पाला, बड़ा हुआ तो बूंदी को दे रहे टाइगर

वन्यजीव प्रेमी बोले-दोनों शावकों पर मुकुंदरा का हक, अन्याय नहीं करेंगे बर्दाश्त।

कोटा। मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व के हितों पर एक बार फिर से कुठाराघात किया जा रहा है। रविवार को कोटा दौरे पर आए चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन पीके उपाध्याय ने अभेड़ा बायोलॉजिकल पार्क में पल रहे शावकों की शिफ्टिंग को लेकर किए निर्णय ने राहत तो दी लेकिन वन्यजीव प्रेमियों को निराश कर दिया। दोनों शावकों में से मेल शावक को रामगढ़ व फिमेल शावक को मुकुंदरा में शिफ्ट करने का निर्णय किया। जबकि, 18 महीने से बाघिन टी-114 के दोनों शावकों को कोटा वन्यजीव विभाग पाल रहा है। गत वर्ष जब इन्हें रणथम्भौर से अभेड़ा बायोलॉजिकल पार्क में शिफ्ट किया गया था तो उन्हें रीवाइल्डिंग के बाद मुकुंदरा में शिफ्ट किए जाने की बात कहीं गई थी। तब से वन्यजीव प्रेमियों को भविष्य में इन्हें दरा अभयारणय में शिफ्ट किए जाने की उम्मीद  जगी थी। 18 महीने से मुकुंदरा व वन्यजीव विभाग कोटा की निगरानी में रीवाइल्डिंग की जा रही है। ऐसे में दोनों शावकों पर मुकुंदरा का हक है, जिस पर कुठाराघात करते हुए मेल शावक को रामगढ़ विषधारी में शिफ्ट किए जाने का निर्णय किया गया।  जबकि, वहां पहले से ही टाइगर्स की संख्या 6 हो चुकी है। ऐसे में चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन का यह निर्णय वन्यजीवप्रेमियों को व्यवहारिक नहीं लगता। 

12 साल बाद भी आबाद नहीं हो सका मुकुंदरा
वन्यजीव विशेषज्ञों का कहना है, मुकुन्दरा हिल्स को 9 अप्रेल 2013 को टाइगर रिजर्व घोषित किया गया था। इसके बाद से ही इसकी उपेक्षा की जा रही है। जबकि, रामगढ़ को टाइगर रिजर्व घोषित हुए अभी 2 साल ही हुए हैं और 6 टाइगर्स से आबाद हो चुका है। यह अधिकारियों की कार्यप्रणाली का बेहतरीन उदारहण है। एक तरफ मुकुंदरा 12 साल बाद भी अपना वजूद तलाश रहा वहीं, दूसरी ओर दो साल में ही रामगढ़ ने साबित कर दिया कि इच्छा शक्ति हो तो विरान वादियां भी शावकों की किलकारी से गूंज सकता है।  बरहाल, संघर्षों से जूझता मुकुंदरा खुशहाली की दहलीज पर खड़ा है लेकिन मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक के नर शावक रामगढ़ शिफ्ट करने के अव्यवहारिक निर्णय ठेस पहुंचा रहा है।

एमएचटीआर को ज्यादा जरूरत
मुकुंदरा में अभी दो टाइगर है लेकिन कुनबा अब तक नहीं बढ़ा।  लंबे समय से एक और टाइग्रेस लाने की मांग की जा रही है, जो भी अब तक नहीं ला पा रहे। ऐसे में जो शावक हमारे पास हैं, उन्हें कहीं ओर शिफ्ट करने के बजाए मुकुंदरा में ही रखा जाना चाहिए। भविष्य में मुकुंदरा की तस्वीर बदलने में निर्णायक हो सकते हैं। जब से यहां शावक आए हैं तब से यही कहा गया है कि उन्हें दरा अभयारणय के 28 हैक्टेयर के एनक्लोजर में छोड़ा जाएगा। ऐसे में वन्यजीव प्रेमियों में मुकुंदा को दो टाइगर मिलने की उम्मीद जगी। 
- एएच जैदी, नेचर प्रमोटर

एनटीसीए के मिनट्स के बाद होगा निर्णय 
चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन शुक्रवार को मुकुंदरा व अभेड़ा बायोलॉजिकल पार्क के विजिट पर रहे। यहां शावकों की शिफ्टिंग को लेकर उन्होंने एनटीसीए की मीटिंग के मिनट्स आने के बाद आगे की कार्रवाई किए जाने की बात कही है। 
- अभिमन्यू सहारण, डीएफओ, मुकुंदरा टाइगर रिजर्व

Read More जयपुर योग महोत्सव-2024 : 9वें दिन नगर निगम ग्रेटर के स्वच्छता योद्धाओं ने किया योग

क्या कहते हैं वन्यजीव प्रेमी
रामगढ़ में पहले से ही 6 टाइगर 
सीडब्ल्यूएलडब्ल्यू के मेल टाइगर को रामगढ़ में शिफ्ट किए जाने का निर्णय अनुचित है। वहां पहले से ही 6 टाइगर हैं। जबकि, मुकुंदरा में मात्र दो ही है। ऐसे में मुकुंदरा को  आबाद करने के लिए दोनों शावकों को यहीं शिफ्ट किया जाना चाहिए। दरा अभयारणय में 28 हैक्टेयर के एनक्लोजर को पांच-पांच हैक्टेयर में बांट कर दोनों को यहीं रखा जा सकता है। इससे दोनों की शुरुआती तीन से चार माह रीवाइल्डिंग की प्रक्रिया भी बेहतर हो सकेगी। 
- तपेश्वर सिंह भाटी, अध्यक्ष, मुकुंदरा वन्यजीव एवं पर्यावरण समिति   

Read More Jaipur Gold & Silver Price : जेवराती सोना तीन सौ रुपए सस्ता, चांदी सौ रुपए महंगी

यह तो मुकुंदरा के साथ अन्याय
31 जनवरी 2023 की रात को दोनों शावकों को रणथम्भौर से अभेड़ा बायोलॉजिकल पार्क में शिफ्ट किया था। तब वे ढाई माह के थे। तत्कालीन मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक ने छह माह रीवाइल्डिंग के बाद दरा एनक्लोजर में शिफ्ट करने के आदेश दिए थे। हालांकि, 18 माह बाद भी शिफ्टिंग नहीं हुई। लेकिन उम्मीद थी कि आज नहीं तो कल दोनों शावक मुकुंदरा में बसाया जाएगा। लेकिन, वर्तमान सीडब्ल्यूएलडब्ल्यू के निर्णय ने निराश किया। यह मुकुंदरा के साथ अन्याय है।
- देवव्रत सिंह हाड़ा, अध्यक्ष पगमार्क फाउंडेशन

Read More जेडीए ने अवैध निर्माण किए ध्वस्त, 200 से अधिक अवैध निर्माणों को तोड़ा जाएगा

दोनों को मुकुंदरा में ही रखा जाए
बाघिन टी-114 के दोनों शावकों को अलग-अलग करने के बजाए एक ही जगह रखा जाना उचित होगा। मुकुंदरा 760 वर्ग किमी में फैला है, जगह की कमी नहीं है। दरा अभयारणय में 28 हैक्टेयर के एनक्लोजर को 5-5 हैक्टेयर में बांट दोनों को यहीं रखा जा सकता है। यदि, नहीं तो सेल्जर में बने 1 हैक्टेयर में मादा शावक को रखें और  दरा में नर शावक को रख सकते हैं। लेकिन ज्यादा बेहतर तो यही होगा कि दोनों को दरा में ही रखा जाए। इससे फायदा यह होगा कि शिफ्टिंग के शुरुआती तीन महीने तक इनकी निगरानी अच्छे से हो सकेगी। अभी तक यह कमरेनुमा पिंजरे में रह रहे हैं, जैसे ही खुले वातावरण में आएंगे तो इनके व्यवहार में बदलाव आएगा। 18 माह से मुकुंदरा के वन्यजीव चिकित्सक ही निगरानी कर रहे हैं, इसलिए वे जरूरी जानकारियों से परिचित हैं।  
- अखिलेश पांडे, वरिष्ठ पशु चिकित्सक कोटा

Post Comment

Comment List

Latest News

जेडीए ने अवैध निर्माण किए ध्वस्त, 200 से अधिक अवैध निर्माणों को तोड़ा जाएगा जेडीए ने अवैध निर्माण किए ध्वस्त, 200 से अधिक अवैध निर्माणों को तोड़ा जाएगा
शहर में अवैध निर्माण एवं अतिक्रमणों को लेकर की जा रही कार्रवाई के दौरान जयपुर विकास प्राधिकरण के प्रवर्तन दस्ते...
सदन में अब नहीं चल पाएगी भाजपा की मनमानी: कांग्रेस
"स्वस्थ और तंदुरुस्त राजस्थान": इस बार के बजट में चिकित्सा और स्वास्थ्य पर होगा सर्वाधिक फोकस
डंपर चालक ने ली बाइक सवार की जान
जनता के सामने एक्सपोज हो चुकी मोदी की गारंटी: गहलोत
मोदी 30 जून को करेंगे मन की बात, देशवासियों से मांगे सुझाव
High Court के निर्देश पर अवैध खनन के खिलाफ जांच अभियान