उदयपुर की तरह अमरावती में भी टारगेट किलिंग की दरिंदगी: एनआईए करेगी हत्याकांड की जांच

उदयपुर की तरह अमरावती में भी टारगेट किलिंग की दरिंदगी: एनआईए करेगी  हत्याकांड की जांच

मुंबई। उदयपुर में जिस तरह से टेलर कन्हैयालाल की जिस दरिंदगी से हत्या हुई, ठीक उसी तरह की वारदात 21 जून को उदयपुर से 740 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र के अमरावती में भी हुई। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को अमरावती में एक 54 वर्षीय व्यक्ति की गला काट कर निर्मम हत्या के मामले की जांच के निर्देश दिए हैं।

मुंबई। उदयपुर में जिस तरह से टेलर कन्हैयालाल की जिस दरिंदगी से हत्या हुई, ठीक उसी तरह की वारदात 21 जून को उदयपुर से 740 किलोमीटर दूर महाराष्ट्र के अमरावती में भी हुई। यह दावा स्थानीय भाजपा नेताओं की ओर से किया गया है कि अमरावती में उमेश कोल्हे नाम के दवा व्यापारी ने फेसबुक पर निलंबित भाजपा नेता नूपुर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट लिखी थी, जिसके स्क्रीनशॉट को कुछ अन्य संदिग्ध ग्रुप में वायरल कर दिया गया। इसके बाद उनकी हत्या कर दी गई थी। अब इस घटना से जुड़े दो सीसीटीवी फुटेज भी जारी हुए हैं, जिससे वारदात वाली रात उमेश के पीछे दो आरोपी जाते दिख रहे हैं।

महाराष्ट्र ATS इस मामले की जांच आतंकी एंगल से कर रही थी, जिसे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंपने का निर्देश दिया है। जांच के लिए एनआईए की टीम अमरावती पहुंच गई है। वहीं सांसद नवनीत राणा ने इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिख महाराष्ट्र पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

एनआईए करेगी अमरावती हत्याकांड की जांच

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को अमरावती में एक 54 वर्षीय व्यक्ति की गला काट कर निर्मम हत्या के मामले की जांच के निर्देश दिए हैं। गृह मंत्री के कार्यालय ने शनिवार को एक ट्वीट कर यह जानकारी दी। ट्वीट में कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने महाराष्ट्र के अमरावती में गत 21 जून को उमेश कोल्हे की निर्मम हत्या से संबंधित मामले की जांच एनआईए को सौंप दी है।

जांच एजेंसी से इस मामले में किसी संगठन की भूमिका या सम्बन्धित साजिश का अंतरराष्ट्रीय  संबंध होने  की गहराई से जांच करने को कहा गया है। रिपोर्टों के अनुसार  कोल्हे कि गत 21 जून को रात को उस समय चाकू से निर्मम हत्या कर दी गई जब वह अपनी दुकान से घर लौट रहे थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि सोशल मीडिया पर इस तरह की बात कही जा रही है कि उनकी हत्या भाजपा से निलंबित नेता नूपुर शर्मा के विवादास्पद पोस्ट का समर्थन करने के कारण की गई है। अमरावती पुलिस ने इस सिलसिले में अब तक छह लोगों को गिरफ्तार किया है। रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि यह हत्या भी राजस्थान के उदयपुर हत्याकांड की तर्ज पर ही की गई है। उल्लेखनीय है कि उदयपुर हत्याकांड की जांच भी एनआईए को ही सौंपी गई है।

Post Comment

Comment List

Latest News