जेसीटीएसएल के पास बसें नहीं, हर माह एक करोड़ का बढ़ा घाटा

बसों से प्रतिदिन करीब 30 लाख रुपए की आय हो रही है

जेसीटीएसएल के पास बसें नहीं, हर माह एक करोड़ का बढ़ा घाटा

आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के सेवा मानकों के अनुसार सार्वजनिक परिवहन के लिए प्रति 10 हजार की जनसंख्या पर छह बसें होनी चाहिए, लेकिन यहां 41 लाख की जनसंख्या पर केवल 300 बसें संचालित है। 

जयपुर। जयपुर शहर को परिवहन की सुविधा उपलब्ध कराने वाली जेसीटीएसएल कंपनी के पास केवल 300 बसें ही है। इसके चलते हर माह कंपनी को करीब एक करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान हो रहा है। हालांकि इन दिनों में सीएमडी व ओएसडी के प्रयास से यात्रीभार में कुछ बढ़ोतरी हुई है, लेकिन कम बसें होने से यात्रियों को परिवहन की सुविधा नहीं मिल रही। जेसीटीएसएल वर्तमान में टोड़ी, सांगानेर व बगराना डिपो से 300 बसों का संचालन कर रहा है। बगराना डिपो से पारस कंपनी 100 मिडी व मातेश्वरी कंपनी सांगानेर व टोड़ी डिपो से 200 बड़ी बसों का संचालन कर रही है। इन बसों में से 25-30 बसें आॅफ रूट होती है। जेसीटीएसएल को बसों से प्रतिदिन करीब 30 लाख रुपए की आय हो रही है। इनमें से 100 बसें अगले साल मार्च में कंडम हो जाएगी। आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के सेवा मानकों के अनुसार सार्वजनिक परिवहन के लिए प्रति 10 हजार की जनसंख्या पर छह बसें होनी चाहिए, लेकिन यहां 41 लाख की जनसंख्या पर केवल 300 बसें संचालित है। 

अधिकारी फील्ड में निकले तो बढ़ा यात्रीभार

सीएमडी अजिताभ शर्मा के निर्देश पर ओएसडी राजकुमार कस्वा प्रतिदिन बसों की चैकिंग के लिए निकलने लगे। इसका परिणाम यात्रीभार में बढ़ोतरी हुई। छह महीने पहले 27-28 लाख यात्रीभार प्रतिदिन था। मजे की बात तो यह है कि जेसीटीएसएल संविदा पर लगे चैकिंग स्टाफ को हर माह लाखों रुपए का भुगतान करता है, फिर भी राजस्व बढ़ने की बजाय घट रहा है। यदि बसों की खरीद नहीं की गई तो जेसीटीएसएल का घाटा बढ़ता ही जाएगा। 

Read More टॉफी लेने जा रही मासूम को बाइक सवार युवकों ने मारी टक्कर, मौत

300 इलेक्ट्रिक बसें लाने की तैयारी

जेसीटीएसएल कंपनी में अब 300 इलेक्ट्रिक बसें भी शामिल होगी। इनमें 200 बड़ी और 100 छोटी बसें हैं। केन्द्र सरकार की एजेंसी कन्वर्जन एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड इसकी बिल्ड निकालेगी। इसकी अनुमति के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा जाएगा। यह इलेक्ट्रिक बसे आने से शहर में प्रदूषण कम होने के साथ ही यात्रियों को बेहतर सुविधा मिलेगी।

जेसीटीएसएल बेड़े में 300 इलेक्ट्रिक बसें शामिल करने की तैयारी की जा रही है। 2025 तक 1000 बसें बेड़े में शामिल की जाएगी। इस प्रस्ताव को बोर्ड बैठक में पास किया जा चुका है। पहले की तुलना में यात्रीभार में बढ़ोतरी हुई है। 
-अजिताभ शर्मा, सीएमडी जेसीटीएसएल

Read More अन्तरमहाविद्यालय हैंडबाल महिला प्रतियोगिता उद्धघाटन 

Post Comment

Comment List

Latest News

हाथीपुरा का सरपंच  कर रहा डोडा चूरा की तस्करी हाथीपुरा का सरपंच कर रहा डोडा चूरा की तस्करी
इस मामले में आरोपी के खिलाफ मध्य प्रदेश की पुलिस तलाश कर रही है जबकि ब्यूरो की टीम द्वारा आरोपी...
रीजनल कॉलेज फॉर एजूकेशन रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी में मोटिवेशनल प्रोग्राम का आयोजन
पायलट और मैं पार्टी एसेट, हमारे और नेता भी एसेट: गहलोत
आईएफएफआई जूरी प्रमुख की टिप्पणी कश्मीरी हिंदुओं पर हुए अत्याचारों की भयावहता का अपमान - रोड्रिग्स
30 लाख कीमत का 287 किलो गांजा बरामद, 6 अभियुक्त गिरफ्तार
राहुल, सोनिया की जुबान बोल रहे हैं खडग़े : भाजपा
बेकाबू मेटाडोर कार में घुसी, दो की मौत, तीन घायल