संभागीय आयुक्त व कलक्टर के निर्देश के बाद भी नहीं लग पा रहे इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले

एमबीएस अब भामाशाह की मदद से लगाएगा इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले बोर्ड

संभागीय आयुक्त व कलक्टर के निर्देश के बाद भी नहीं लग पा रहे इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले

नई ओपीडी ब्लॉक शुरू हुए करीब एक साल होने आया है, लेकिन अभी इसमें कई मूलभूत सुविधाएं पूरी नहीं हुई है।

कोटा। एमबीएस अस्पताल के संभागीय आयुक्त व जिला कलक्टर के दो बार औचक निरीक्षण के बावजूद हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे है। कलक्टर ने 12 फरवरी को निरीक्षण के दौरान न्यू ओपीडी ब्लॉक में डॉक्टरों के कक्ष और स्वागत कक्ष यहां इलेक्ट्रानिक डिस्प्ले बोर्ड लगाने के निर्देश दिए थे। इससे पूर्व पूर्व संभागीय आयुक्त प्रतिभा सिंह एक माह पूर्व डिस्प्ले बोर्ड लगाने के निर्देश दिए थे। लेकिन एमबीएस प्रशासन की ओर से इसके लिए टेंडर निकालने और होगे। यह प्रकिया लंबी है। दूसरा अभी वित्तीय स्वीकृति पर रोक लगी हुई है। ऐसे में बोर्ड लगाने का कार्य आगे नहीं बढ़ पा रहा है। बार बार अधिकारियों के निर्देश के बाद अब अस्पताल प्रशासन वैकल्पिक व्यवस्था के लिए बोर्ड लगाने के लिए विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं और भामाशाह से वार्ता कर इस कार्य को कराने में जुटा हुआ है। कॉरिडोर में  इलेक्ट्रानिक डिस्प्ले बोर्ड लगाने के दिए थे निर्देश: एमबीएस की अस्पताल में 12 फरवरी को निरीक्षण के दौरान अभी तक इलेक्ट्रानिक डिस्प्ले बोर्ड नहीं लगने पर कलक्टर ने नाराजी जाहीर की थी।  उसके बावजूद अभी तक डिस्प्ले बोर्ड नहीं लग सके है। कलक्टर ने अस्पताल के कॉरिडोर में जानकारी के लिए लगाई गई प्रचार प्रसार की सामग्री को इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले में परिवर्तित करने के लिए अधीक्षक को निर्देश दिए थे। ओपीडी ब्लॉक के सीसीटीवी का डिस्प्ले आउटपुट अधीक्षक अपने कमरे में लेने और अगर भीड़ बढ़ने जैसी अव्यवस्था होती है तो तुरंत समस्या का समाधान किया जाए। 

अभी कक्ष के बाहर नहीं लगे बोर्ड,  कागज पर प्रिंट  चला रहे काम
नई ओपीडी ब्लॉक शुरू हुए करीब एक साल होने आया है। लेकिन अभी इसमें कई मूलभूत सुविधाएं पूरी नहीं हुई है। डॉक्टरों के कक्ष की जानकारी से लेकर कौनसा डॉक्टर कहां बैठता है इसके बोर्ड तैयार नहीं हुए कम्प्यूटर प्रिंट कर जगह कागज चिपका कर काम चला रहे है।  जिससे मरीजों को डॉक्टरों के कक्ष ढूंढने में परेशानी हो रही है। ओपीडी विभिन्न विभागों के बाहर भी डिस्प्ले बोर्ड अभी तक नहीं बने है। ग्राउंड फ्लोर से लेकर दूसरे व तीसरे माले तक सभी जगह प्रिंट किए कागज लगाकर काम चलाया जा रहा है।  

डॉक्टर के राउंड पर जाने व अवकाश पर होने की स्थिति डिस्प्ले करनी थी
कलक्टर ने अधीक्षक को निर्देश दिए थे वो प्रत्येक डॉक्टर की जानकारी इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले के माध्यम से कॉरिडोर में  लगाए ताकि हर मरीज आसानी से डॉक्टर की उपलब्धता एवं डॉक्टर के राउंड पर जाने की स्थिति का पता चल सकें। साथ ही सुपर स्पेशलिटी की जो सुविधा साप्ताहिक रूप से एमबीएस में दी जा रही हैं उसके लिए डॉक्टर की उपलब्धता तिथि, दिन व समय की जानकारी भी समग्र रूप से डिस्प्ले करनी थी वो भी अभी तक शुरू नहीं हुई है। प्रत्येक डॉक्टर का नाम उसकी टेबल पर लिखने के निर्देश दिए वो कार्य भी अभी शुरू नहीं हुआ है। नाम लिखा होने से मरीज को यह जानकारी हो सके कि वह किस चिकित्सक से इलाज करवा रहा है। 

अस्पताल में डिस्प्ले बोर्ड नहीं होने से मरीजों को हो रही परेशानी
अस्पताल में इलाज कराने आए मरीज अभिषेक गुप्ता ने बताया कि एमबीएस अस्पताल की नई ओपीडी में अभी पर्ची कक्ष, पहले मंजिल पर कौनसे विभाग है, दूसरी मंजिल पर कौन से विभाग है इसकी जानकारी के कहीं भी डिस्प्ले बोर्ड नहीं लगे है। जगह जगह कम्प्यूटर से प्रिंट कागज चिपका रखे वो लोगों ने फाड़ दिए है ऐसे में पता ही नहीं चलता कौनसा डॉक्टर कौनसे  फ्Þलोर पर मिलेगा। कॉरिडोर में ही पूरा विवरण मिल जाए तो लोगों इधर नहीं भटकना पड़ेगा। 

Read More वाहनों में बिना अनुमति के मोडिफिकेशन करा कर दे रहे हादसों को न्यौता

इनका कहना है
ओपीडी में इलेक्ट्रानिक डिस्प्ले बोर्ड लगाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए टेंडर निकालने और वित्तीय स्वीकृति में समय लगेगा। इसलिए अस्पताल प्रशासन की  ओर से बोर्ड के लिए भामाशाहों से बात कर इस कार्य को शीघ्र पूरा  कराया जाएगा। 
- डॉ. धर्मराज मीणा, अधीक्षक एमबीएस अस्पताल कोटा

Read More आकाश गंगा प्रोजेक्ट में हवा से बनेगा शुद्ध पानी

Post Comment

Comment List

Latest News

कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे कम वोटिंग से राजनीति दलों में मंथन का दौर शुरू, दूसरे चरण की 13 सीटों को लेकर रणनीति बनाने में जुटे
ऐसे में इस बार पहले चरण की सीटों पर कम वोटिंग ने भाजपा को सोचने पर मजबूर कर दिया है।...
भारत में नहीं चाहिए 2 तरह के जवान, इंडिया की सरकार बनने पर अग्निवीर योजना को करेंगे समाप्त : राहुल
बड़े अंतर से हारेंगे अशोक गहलोत के बेटे चुनाव, मोदी की झोली में जा रही है सभी सीटें : अमित 
किडनी ट्रांसप्लांट के बाद मरीज की मौत, फोर्टिस अस्पताल में प्रदर्शन
इंडिया समूह को पहले चरण में लोगों ने पूरी तरह किया खारिज : मोदी
प्रतिबंध के बावजूद नौलाइयों में आग लगा रहे किसान
लाइसेंस मामले में झालावाड़, अवैध हथियार रखने में कोटा है अव्वल