महंगा सोना फिर भी 18 कैरेट की ज्वैलरी पहली पसंद

ट्रेंड तो सभी जगह बदला है

महंगा सोना फिर भी 18 कैरेट की ज्वैलरी पहली पसंद

इसी प्रकार ग्रामीण परिवेश में पारम्परिक जेवरों की प्राथमिकता रहती है पर बदलाव का रूप और ट्रेंड तो सभी जगह बदला है।

जयपुर। आगामी माह में अक्षय तृतीया है और इस दिन देश में सोना खरीदने को शुभ माना जाता है। महंगे सोने के कारण हल्के वजन और 18 व 14 कैरेट की रत्न जड़ित ज्वैलरी की ओर आकर्षित हो रहे है, इसी प्रकार कम वजन की सोने की ज्वैलरी की मांग मध्यम वर्गीय परिवारों की आने लगी है। फैशन के युग में इस इंडस्ट्री में भी अनेक नवाचार हुए है, सबकी अपनी अलग पसंद होती है, इसी प्रकार ग्रामीण परिवेश में पारम्परिक जेवरों की प्राथमिकता रहती है पर बदलाव का रूप और ट्रेंड तो सभी जगह बदला है।

तेजी की मुख्य वजह वैश्विक तनाव
वैश्विक तनाव और अमेरिका मुद्दा स्फिति के कारण सुरक्षित निवेश के तौर पर सोने की खरीद निरंतर बनी हुई है, इससे सोना अपनी चमक बिखेर रहा है। फेडरल बैंक की ओर से ब्याज दर जून में कम करने के संकेत दिए गए थे, लेकिन बढ़ती तेल की कीमतों और कम नहीं हो रही मुद्रास्फीति व मध्यपूर्व देशों में युद्ध रूपी तनाव सोने के भाव को कम नही होने दे रहा है। 

भारत में कम हुआ आयात 
भारत में सोना अभी डिस्काउंट में बिक रहा है, सनद रहे कि मार्च माह में सोना आयात में लगभग 90% कमी देखी गई, यह दर्शाता है कि भारत में सोने की मांग कमजोर है। 

भाव में उतार-चढ़ाव युद्ध पर निर्भर
वैश्विक तनाव कम होने की स्थिति में भावों में ऊपरी स्तर पर मुनाफा वसूली देखी जा सकती है, ठीक इसके उलट यदि युद्ध भड़कता है तो भाव और ऊपर चले जाएंगे।

Read More अधिकारियों की लापरवाही भारी, 183 शहर भुगत रहे खामियाजा

तेजी के फिर आसार
वैसे विश्लेशकों की माने तो सोने का उच्चतम स्तर आना अभी बाकी है, 2025-26 तक सोने में और तेजी का संभावना बनी हुई है, इसका कारण है कि विभिन्न ब्रोकरोज हाउसेस ने सोने की औसत दर को बढ़ाकर 3000 डॉलर माना है। आगामी समय में मंदी आने पर निवेशकों को लिए खरीद का अवसर रहेगा।

Read More अगर आपको है हर समय दूसरों से असुरक्षा, हर व्यक्ति पर शक तो आप हो सकते हैं सिजोफ्रेनिया के शिकार

दो माह में 16% महंगी चांदी 
चांदी भी सोने के साथ बढ़ी है, मार्च अप्रेल माह में लगभग 16% की तेजी दर्ज हुई है, चांदी अभी डिस्काउंट में बिक रही है, वैसे भी चांदी औद्योगिक धातु है, इसका उपयोग सोलर पैनल एंव विभिन्न उपकरणों में होने लगा है, वैश्विक मांग में बढ़ोतरी रहेगी, अन्तरराष्ट्रीय मूल्यों में चांदी पहले 50 डॉलर तक जा चुकी है, जो वर्तमान में 29 डॉलर के लगभग है, भारतीय बाजारों में डॉलर की कीमत बढ़ने से चांदी 86,000 हजार तक पहुंची है, चांदी भी डॉलर मूल्यों में 33.35 तक पहुंचने की संभावना है। 

Read More Gehlot's Appeal : 25-26 को तेज गर्मी में लोग घरों से निकलने से बचें

कम भाव पर करे निवेश 
एस.आर.एंटरप्राइजेज की डायरेक्टर कविता सोनी ने बताया कि वर्तमान वैश्विक परिदृश्य में चीन ताईवान, रूस युक्रेन, ईरान ईजरायल तथा अमेरिकी चुनाव बाद चीन अमेरिका ट्रेड वार बढ़ने की आशंकाओं से बाजार सुरक्षित निवेश को बढ़ावा दोहरा रहा है। कहने का तात्पर्य यह है कि आने वालों समय में वर्ष 2024 में वर्तमान दर में कमी आने पर खरीद का अच्छा अवसर माना जा सकता है। इन सभी में बड़ा बदलाव केवल विश्व मंच पर तनाव घटने से अप्रत्याशित संभव होगा।

बदल रहा है कारोबारी गणित
कंज्यूमर्स के लिए पहले गोल्ड ज्वेलरी ही खरीदना ही अहम हुआ करता था, लेकिन अब डायमंड ज्वैलरी भी बन रही है मजबूत विकल्प। महिलाओं की ओर से डायमण्ड ज्वैलरी को अधिक पसंद किया जा रहा है। गोल्ड को डायण्ड रिप्लेस कर रहा है। 

डायमंड का मार्केट शेयर बढ़ा 
डायमण्ड ज्वैलरी का दस साल पहले सिर्फ चार से पांच फीसदी मार्केट शेयर हुआ करता था, जो कि अब बढ़कर बीस से बाइस फीसदी के करीब आ गया है। 

Tags: gold

Post Comment

Comment List

Latest News