प्रोटोकॉल के उल्लंघन पर जुर्माना वसूलना सरकार का उद्देश्य नहीं, केवल सख्ती लागू करना है: गहलोत

प्रोटोकॉल के उल्लंघन पर जुर्माना वसूलना सरकार का उद्देश्य नहीं, केवल सख्ती लागू करना है: गहलोत

कई देशों में मास्क लगाने, सोशल डिस्टेसिंग तथा कोविड प्रोटोकॉल की सख्ती से पालना के कारण ही वहां संक्रमण रोकने में सफलता मिली है।

जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कई देशों में मास्क लगाने, सोशल डिस्टेसिंग तथा कोविड प्रोटोकॉल की सख्ती से पालना के कारण ही वहां संक्रमण रोकने में सफलता मिली। कई अध्ययन भी यह बताते हैं कि संक्रमण से बचाव का सबसे कारगर उपाय मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग ओर वैक्सीन ही हैं। ऐसे में लोग राज्य सरकार द्वारा उठाए जा रहे कड़े कदमों की पालना में पूरा सहयोग करें। गहलोत ने कहा कि बिना अनुशासन हम संक्रमण की चेन नहीं तोड़ सकते, इसी को ध्यान में रखकर जन अनुशासन पखवाड़े जैसा कदम सरकार ने पूरी गंभीरता के साथ उठाया है। इससे कुछ समय के लिए लोगों को असुविधा हो सकती है, लेकिन जीवन बचाने के लिए हम सभी को स्वअनुशासन में रहकर जीवन रक्षा का फर्ज निभाना हाेगा।

गहलोत ने कहा कि प्रोटोकॉल के उल्लंघन पर जुर्माना या शास्ति वसूलना सरकार का उद्देश्य नहीं है। इसके पीछे की भावना लोगों को सख्ती से अनुशासन की पालना के लिए प्रेरित करना है। उन्होंने कहा कि जिस घातक गति से कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है, देशभर में लोगों की मौत हो रही हैं, कई राज्यों में स्थिति बेहद चिंताजनक है। ऑक्सीजन, बेड, वेन्टीलेटर एवं जरूरी दवाओं सहित संसाधन कम पड़ने लगे हैं। ऐसे में कोविड प्रोटोकॉल की पालना किए बिना हम इस लड़ाई को नहीं जीत सकते, क्योंकि यह लड़ाई सिर्फ अस्पतालों में नहीं, घर और समाज को साथ लेकर लड़नी होगी।

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News