करोड़ों के फ्लाई ओवर पर लगा अतिक्रमण का ग्रहण

मिस्त्रियों से लेकर थड़ी व ठेले वालों तक ने किया अतिक्रमण

करोड़ों के फ्लाई ओवर पर लगा अतिक्रमण का ग्रहण

नगर विकास न्यास ने शहर में ट्रैफिक की बाधा तो दृर करने और आवागमन को सुविधाजनक बनाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर शहर में कई जगह पर फ्लाई ओवर व आरओबी बनवाए। लेकिन न्यास के इस काम पर अतिक्रमण करने वालों ने ऐसा पानी फेरा कि करोड़ों के विकास पर अतिक्रमण का ग्रहण तो लगाया ही। साथ ही यातायात को भी बाधित किया जा रहा है।

कोटा। दृश्य-1 झालावाड़ रोडस्थित अनंतपुरा तिराहे पर नगर विकास न्यास की ओर से करीब 70 करोड़ रुपए की लागत से फ्लाई ओवर का निर्माण कराया गया। जिसका उद्घाटन हुए एक महीना भी नहीं हुआ है। फ्लाई ओवर बनने के साथ ही वहां उसके नीचे थड़िया लगाकर बड़ी संख्या में लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है। जिससे व्यस्ततम रोड  के फलाई ओवर के नीचे अतिक्रमण से इसकी शोभा में ग्रहण लग गया है। 

दृश्य- 2 शहर के बीच इंदिरा गांधी तिराहे पर नगर विकास न्यास द्वारा करीब 55 करोड़ से अधिक की लागत से फ्लाई ओवर बनाया गया। उसके नीचे सीसी रोड बनाया गया। जिससे आवागमन व ट्रैफिक में सुविधा हो। लेकिन अतिक्रमण करने वालों ने फ्लाई ओवर के नीचे और रास्ते में ही थड़ियां व ठेले लगाकर अतिक्रमण कर लिया है। जिससे वहां से वाहनों का सुरक्षित निकलना तो दूर दुर्घटनाओं का खतरा बना हुआ है।

दृश्य- 3 पटरी पार रंगपुर क्षेत्र में नगर विकास न्यास की ओर से करीब 32 करोड़ रुपए की लागत से आरओबी का निर्माण कराया गया। इसके निर्माण से  पटरी पार क्षेत्र के लाखों लागों को आवागमन में सुविधा तो हुई। लेकिन उस आरओबी की दशा अतिक्रमण करने वालों ने बिगाड़ दी है। पूरे आरओबी के नीचे पक्की दुकानें तक बनाकर अतिक्रमण कर लिया है। आरओबी के नीचे बीच रास्ते तक में थडिंयां लगाकर अतिक्रमण कर रखा है। 

ये सबूत पर्याप्त हैं शहर की उस समस्या को बताने  के लिए जो वर्तमान में नासूर बनी हुई है। नगर विकास न्यास ने शहर में ट्रैफिक की बाधा तो दृर करने और आवागमन को सुविधाजनक बनाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर शहर में कई जगह पर फ्लाई ओवर व आरओबी बनवाए। न्यास ने तो अच्छे उद्देश्य से काम करवाए लेकिन न्यास के इस काम पर अतिक्रमण करने वालों ने ऐसा पानी फेरा कि करोड़ों के विकास पर अतिक्रमण का ग्रहण तो लगाया ही। साथ ही यातायात को भी बाधित किया जा रहा है। जिससे आमजन को सुविधा होने की जगह परेशानी का सामना करने के साथ ही हादसों के खतरे को भी झेलना पड़ रहा है। 

मिस्त्रियों ने खोला पूरा मार्केट
इंदिरा गांधी तिराहे के नीचे पुरानी सब्जीमंडी के सामने की तरफ तो मिस्त्रियों ने पूरा मार्केट ही खोल दिया है। निगम के फायर स्टेशन के पास संचालित हो रही मिस्त्रियों की अधिकतर थड़ियां फ्लाई ओवर के नीचे लगी हुई हैं। जिससे उस फ्लाई ओवर की दशा बनने के बाद से ही खराब हो गई है। जबकि न्यास ने करोड़ों रुपए लगाकर इसका निर्माण कराया है। 

यहां भी अतिक्रमण कम नहीं
न्यास ने मार्च 2021 में ही दादाबाड़ी से राम जानकी मंदिर तक करीब 110 करोड़ रुपए की लागत से फलाई ओवर बनाया है। उस फ्लाई ओवर के नीचे टैक्सी स्टैंड से लेकर घोड़े वालों तक और थड़ियों से लेकर बैंड बाजेी वालों तक ने अतिक्रमण किया हुआ है। इसी तरह से रंगपुर आरओबी व फ्लाई ओवर के नीचे भी अतिक्रमण की भरमार है। यहां रेडीमेड कपड़ों के दुकानदार से लेकर टापरियां बनाने तक वालों ने अतिक्रमण किया हुआ है।  छावनी फ्लाई ओवर के नीचे निजी   ट्रेवल्स एजेंसी संचालकों से लेकर आस-पास के दुकानदारों तक ने अतिक्रमण कर रखा है। जिससे उस फलाई ओवर की हालत इतनी अधिक बिगड़ गई है कि वहां खड़ा रहना तक मुश्किल हो रहा है। 

पूरे शहर में यही हालात
शहर में एक दो या तीन फ्लाई ओवर के नीबे ही अतिक्रमण नहीं हो रहा है। वरन् पूरे शहर के फ्लाई ओवर की हालत एक जैसी है। किसी भी फलाई ओवर के नीचे जरा सी भी जगह नहीं बची है। सिटी मॉल के सामने न्यास ने करीब 46 करोड़ से अधिक की लागत से एलिवेटेड रोड(फ्लाई ओवर) का निर्माण कराया है। उसके नीचे की सजावट इस तरह से की गई है जिसे दूर से देखने पर वह लकड़ी के काम जैसा लगता है। लेकिन उस फ्लाई ओवर के नीचे थड़ी लगाकर कुछ लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है। जिससे उसकी सुंदरता बिगड़ रही है। 

इनका कहना है
फ्लाई ओवर के नीचे अतिक्रमण होने लगा है। मैने भी शनिवार को ही गुमानपुरा क्षेत्र में फ्लाई ओवर के नीेचे का अतिक्रमण देखा है। जिसमें बीच रास्ते मेंÞ ही दुकानें लगा रखी है। जिससे ट्रफिक बाधित होने के साथ ही आवागमन में भी परेशानी हो रही है। न्यास ने पूर्व में भी फ्लाई ओवर के नीचे से अतिक्रमण हटाए थे। शीघ्र ही फिर से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की जाएगी। 
- राजेश जोशी, सचिव नगर विकास न्यास

Post Comment

Comment List

Latest News