कोटा उत्तर वार्ड 29: आवारा मवेशियों व झाड़ झंखाड़ से परेशान हैं नांता के रहवासी

कचरा गाड़ी नियमित नहीं आती

कोटा उत्तर वार्ड 29: आवारा मवेशियों व झाड़ झंखाड़ से परेशान हैं नांता के रहवासी

सड़क झाड़ झंखाड़ से अटी पड़ी है,जिससे कई दफा फ्यूज उङने से बिजली गुल हो जाती है। विद्युत विभाग को कहने के बाद भी इन पड़ों की सफाई नहीं करवाई जा रही है।

कोटा। वार्ड नम्बर 29 नांता के बाशिंदे आवारा मवेशी,कचरा व विद्युत डीपी तथा हरे झाड़-झखाड़ों  से खासे परेशान हैं। वार्डवासियों ने बताया कि मौहल्ले में कचरा गाड़ी तो आती हैं,परन्तु नियमित नहीं आने से मोहल्ले के वासी कचरे को एकत्र कर कचरा डिपो में डालने की बजाय सड़क किनारे जगह-जगह डाल देते हैं ,जिसे फिर आवारा मवेशी व श्वान(कुत्ते) कचरे व प्लास्टिक थैलियों को  इधर उधर फैला देते  हैं। सङकों पर फैलने से गंदगी बनी रहती हैं।  तिराहे की सड़क पर  पर लगी हरे-पेड़ों व हरी बेलों  से लोगों को परे५ऋशानी का सामना करना पड़ता है। सड़क झाड़ झंखाड़ से अटी पड़ी है,जिससे कई दफा फ्यूज उङने से बिजली गुल हो जाती है। विद्युत विभाग को कहने के बाद भी इन पड़ों व हरी बैलों  की सफाई नहीं करवाई जारही है।  सड़कें  वैसे तो ठीक पर हो गई हैं  दो-'तीन जगह  गड्ढे होन ेसे वाहनों को आवा-जाही में परेशानी होती है। गली मोहल्लों में सफाई कर्मी नियमित नहीं आते । मुख्य सङक मार्गो  पर सफाई करके चले जाते हैं।


मीटिंग बुलाकर समझाइश करनेकी जरूरत
 मौहल्लें में कचरा गाड़ी रोज आनी चाहिए अथवा पार्षद को एक मीटिंग  बुलाकर समझाइश करनी चाहिए कि  सभी लोग अपने-अपने घरों का कचरा, कचरा डिपो में ही डालें।
-दिनेश साखीवाल,स्थानीय वार्डवासी।

 मोहल्लें में कचरे का आलम है। गंदगी बनी हुई है। कचरा गाड़ी आती नहीं है। दूसरा विद्युत डीपी के चारों तरफ फैलै पोधों -बैलों को  कटवाकर सफाई करवाने की आवश्यकता हैं।
-राजीव शर्मा, स्थानीय वार्डवासी।

Read More कोटा दक्षिण वार्ड 22 : कुत्तों और आवारा मवेशियों से परेशानी, नालियां भी जाम

इनका कहना है
 कचरा गाङी का चालक छुट्टी पर होने से कचरा गाड़ी नहीआ पा  रही थी। दो-चार दिन बाद आ जाएगी। विद्युत डीपी के चारों तरफ फैली बैलें व बढी घास की सफाई को लेकर भी कम्पलेन कर रखी है। जल्दी ही समाधान हो जाएगा।
-कुसुम देवी, पार्षद वार्ड नम्बर 29 नांता

Post Comment

Comment List

Latest News