अमेरिका से टकराव प्रचंड आपदा होगी, चीन के रक्षा मंत्री ने कबूला डर

ली शांगफू ने कहा कि चीन और अमेरिका के पास कई अलग-अलग तरह की प्रणालियां हैं

अमेरिका से टकराव प्रचंड आपदा होगी, चीन के रक्षा मंत्री ने कबूला डर

उन्होंने यह भी कहा कि इस तथ्य पर कोई विवाद नहीं है कि चीन और अमेरिका के बीच एक गंभीर संघर्ष या टकराव दुनिया के लिए एक असहनीय आपदा होगी।

सिंगापुर। चीनी रक्षा मंत्री ली शांगफू ने अमेरिका के साथ युद्ध की संभावनाओं पर अपने डर को पहली बार सार्वजनिक किया है। उन्होंने सिंगापुर में शांगरी-ला डायलॉग में बोलते हुए कहा कि अमेरिका के साथ संघर्ष एक असहनीय आपदा होगा। ऐसे में उन्होंने टकराव की जगह बातचीत का आह्वान किया। ली ने कहा कि दुनिया चीन और अमेरिका के एक साथ बढ़ने के लिए काफी बड़ी है। उन्होंने यह टिप्पणी हाल में ही अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ मिलने से इनकार करने के कुछ दिनों बाद की है। ली शांगफू को इसी साल मार्च में चीन का रक्षा मंत्री नामित किया गया था। शांगरी-ला डायलॉग उनका पहला सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय संबोधन भी है। अमेरिका ने रूस से एसयू-35 लड़ाकू विमान की खरीद के लिए ली शांगफू पर 20 सितंबर 2018 को काट्सा के तहत प्रतिबंध लगाया था।

चीन ने अमेरिका से दोस्ती का किया दिखावा
ली शांगफू ने कहा कि चीन और अमेरिका के पास कई अलग-अलग तरह की प्रणालियां हैं। हालांकि, इससे दोनों पक्षों को द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने और सहयोग को गहरा करने के लिए साझा जमीन और समान हितों की तलाश करने से नहीं रोकना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि इस तथ्य पर कोई विवाद नहीं है कि चीन और अमेरिका के बीच एक गंभीर संघर्ष या टकराव दुनिया के लिए एक असहनीय आपदा होगी। पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की जनरल की वर्दी पहने हुए ली ने 1989 के तियानमेन चौक पर कार्रवाई की 34वीं वर्षगांठ पर अपना संबोधन दिया।

चीन-अमेरिका में पुराना विवाद
चीन और अमेरिका के बीच ताइवान, दक्षिण चीन सागर, सेमीकंडक्टर चिप निर्यात समेत कई मुद्दों पर विवाद है। दोनों ही देश ताइवान और दक्षिण चीन सागर को लेकर युद्ध की धमकी भी देते रहे हैं। शनिवार को ही दक्षिण चीन सागर में अमेरिकी नौसेना के एक युद्धपोत का सामना चीनी युद्धपोत से हुआ था। इस दौरान दोनों के बीच टक्कर बाल-बाल बची। अमेरिका ने इसे असुरक्षित अभ्यास बताया तो चीन ने कहा कि उसका यह प्रयास जानबूझकर जोखिम को भड़काने वाला था। चीन ने इसके लिए अमेरिका और कनाडा की आलोचना भी की।

दक्षिण चीन सागर भिड़ंत पर भी बोला चीन
अमेरिकी इंडो-पैसिफिक कमांड ने कहा कि अमेरिकी और कनाडाई जहाज नियमित रूप से समुद्री स्वतंत्रता के तहत काम कर रहे थे। कनाडा की रक्षा मंत्री अनीता आनंद ने कहा कि कनाडा जलडमरूमध्य सहित अंतरराष्ट्रीय कानून की अनुमति से नौवहन का काम कर रहा है। उन्होंने इस क्षेत्र के देशों को जिम्मेदारी से काम लेने की अपील की। वहीं, चीनी रक्षा मंत्री ली शांगफू ने अपने भाषण में कहा कि चीन, अमेरिका और उसके सहयोगियों द्वारा इस तरह की स्वतंत्र नेविगेशन की अनुमति नहीं देगा, जो नेविगेशन का बहाना हो।

Post Comment

Comment List

Latest News