हाई टेक होने लगे सरकारी स्कूल

जिले के सरकारी स्कूलों को मिलेगी ई कंटेन्ट वाली 316 हार्ड डिस्क

हाई टेक होने लगे सरकारी स्कूल

सरकारी विद्यालयों में छात्र छात्राओं को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से क्लासरूमों को भी स्मार्ट बनाया जा रहा है।

कोटा। राजस्थान में सरकारी स्कूलों में शिक्षा को बेहतर बनाने कि लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। स्कूली शिक्षा को अधिक आसान बनाने के लिए शिक्षकों के पढ़ाने की पद्धति से लेकर छात्रों के पढ़ने के तरीकों तक में बदलाव किया जा रहा है। राज्य के सरकारी विद्यालयों को प्राइवेट क्षेत्र के विद्यालयों के समक्ष  सरकारी तंत्र के इस बदलाव में डिजिटलाइजेशन भी अपनी भूमिका निभा रहा है, जिसके तहत सरकारी विद्यालयों की कक्षाओं को भी हाइटेक किया जा रहा है। सरकारी विद्यालयों में छात्र छात्राओं को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के उद्देश्य से क्लासरूमों को भी स्मार्ट बनाया जा रहा है। वहीं कक्षाओं को स्मार्ट बनाने के उद्देश्य के तहत कोटा जिले के 213 सरकारी स्कूलों में स्मार्ट एलईडी टीवी का वितरण किया गया था। जिनके लिए अब शिक्षण सामग्री की हार्ड डिस्क का भी वितरण किया गया है। इन हार्ड डिस्कों में विषयवार स्टडी मटेरियल उपलब्ध होगा। 

विषयों की चैप्टर वाइज जानकारी
डिजिटल और तकनीक की सहायता से हर क्षेत्र के साथ साथ शिक्षा में भी नई व्यवस्थाएं की जा रही हैं। उसी दिशा में सरकारी स्कूलों की कक्षाओं में भी ब्लैक बोर्ड की जगह स्मार्ट टीवी लेने लगी हैं। इन स्मार्ट टीवी पर हार्ड डिस्क की सहायता से सभी विषयों की टॉपिक वाइज रिकॉर्डेड क्लासें उपलब्ध होंगी जो संबंधित विषय को ग्राफिक्स और एनीमेशन के माध्यम से समझाएंगी। डिजिटल स्मार्ट टीवी के होने से जिन विद्यालयों में शिक्षकों की कमी है वहां इसकी भरपाई की जा सकेगी ताकि पाठ्यक्रम को पूरा करवाने में कोई दुविधा ना हो।

राजस्थान स्कूल शिक्षा परिषद की ओर से जिले के 316 स्कूलों में स्मार्ट टीवी के बाद हार्ड डिस्क दी गई है। इस सभी हार्ड डिस्क में विषयों के बारे में रिकॉर्डेड पूरा ई कान्टेंट उपलब्ध होगा जिससे विद्यार्थीयों को कभी भी पढ़ाया जा सकेगा और किसी भी टॉपिक को समझने में आसानी होगी। विद्यार्थी भी स्मार्ट क्लास होने से क्लस में आना पसंद करेंगे और उनकी उपस्थिति में इजाफा होगा। इसके अलावा जहां शिक्षकों की कमी है वहां के विद्यार्थीयों को पढ़ाने में इसका सबसे बड़ा फायदा होगा। इस व्यवस्था से शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर परिणाम देखने को मिलेंगे।
- डॉ. उषा पंवार, अतिरिक्त जिला सहायक परियोजना समन्वयक अधिकारी, समग्र शिक्षा कोटा

स्मार्ट टीवी तो 1 महीने पहले आ गए हैं लेकिन हार्ड डिस्क नहीं होने के कारण पढ़ाई नहीं हो पा रही थी। अब जितनी जल्दी ये हार्ड डिस्क आएगी उतनी जल्दी हम पढ़ाई कर पाएगें। बोर्ड पर चॉक से लिखने से कई बार टॉपिक्स समझ में नहीं आते हैं। स्मार्ट टीवी से टॉपिक अच्छे से समझ आएगें।
- करन नावेरिया, छात्र डीसीएम

Read More मसाला मेला : इरोड की हल्दी, केरल के मसाले, चेन्नई की मुंड मिर्ची, असम की चाय की डिमांड

हमारे स्कूल में विज्ञान के शिक्षक की कमी है स्मार्ट टीवी के साथ अब हार्ड डिस्क आने से किसी शिक्षक के आने तक इसी स्मार्ट टीवी से पढ़ाई कर पाएगें। टीवी पर पढ़ने से विषय भी थोड़ा आसानी से समझ आएगा।
- सुरेन्द्र गुर्जर, छात्र रोझड़ी

Read More श्वान और बंदरों से जनता त्रस्त, निगम अधिकारी कार्यालय में मस्त

स्मार्ट क्लास बनाना एक अच्छा प्रयास है, इससे पढ़ने में आसानी होगी बोर्ड पर पढ़ने में टॉपिक सही से समझ में नहीं आता है और कंफ्यूजन बन जाती है। स्मार्ट टीवी होने से विषय के बारे में जानकारी अच्छे से मिलेगी और उसे कभी भी चला कर देख पाएगें।
- विशाल मेघवाल, छात्र बोरखेड़ा

Read More सांचौर पुलिस ने पकड़ी 14 करोड़ की कोडीन ड्रग

Post Comment

Comment List

Latest News