देव दीपावली पर जलाए आस्था के दीपक

श्रद्धालुओं ने गलता तीर्थ में डूबकी लगाकर स्नान किया

देव दीपावली पर जलाए आस्था के दीपक

कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा को देव दीपावली के रूप में मनाई गई। श्रद्धालुओं ने सुबह गलता तीर्थ में डुबकी लगाई, जो श्रद्धालु गलता या अन्य तीर्थ पर स्नान नहीं कर पाए उन श्रद्धालुओं ने तारों की छांव में घर पर ही पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान किया।

जयपुर। कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा को देव दीपावली के रूप में मनाई गई। श्रद्धालुओं ने सुबह गलता तीर्थ में डुबकी लगाई, जो श्रद्धालु गलता या अन्य तीर्थ पर स्नान नहीं कर पाए उन श्रद्धालुओं ने तारों की छांव में घर पर ही पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान किया। कार्तिक पूर्णिमा के साथ ही कार्तिक स्नान का समापन हुआ। स्नान के बाद सूर्य भगवान का मंत्र जप करते हुए अर्घ्य दिया। मंदिर में जाकर भोलेनाथ का अभिषेक किया। शाम को घरों और मंदिरों में दीपदान किया गया। श्रद्धालुओं ने भगवान सत्यनारायण की कथा सुनी और व्रत रखा। कई जगह व्रत का उद्यापन हुआ। 

ज्योतिषाचार्य डॉ. महेंद्र मिश्रा ने बताया कि देव दिवाली पर रवि, परिघ और शिव तीन योग रहने से श्रद्धालुओं ने भगवान विष्णु का पूजन किया। प्रदोष काल में शाम को भगवान भोलेनाथ का अभिषेक किया। पूर्णिमा पर दान-पुण्य किया गया। श्रद्धालुओं ने बढ़ चढकÞर फल, अनाज, दाल, चावल, गर्म वस्त्रों का दान किया। कई श्रद्धालुओं ने गोशाला में हरी घास और धन का दान किया। शाम को छोटीकाशी के सभी मंदिरों में दीपदान होने से देवालय दिवाली की तरह जगमगा उठे। तुलसी के पौधों, चौराहों और पीपल के पेड़ पर दीपदान किया गया।

Post Comment

Comment List

Latest News

लोकसभा चुनावों से पहले पूर्व सीएम अशोक गहलोत हुए सक्रिय, नेताओं से कर रहे मंथन लोकसभा चुनावों से पहले पूर्व सीएम अशोक गहलोत हुए सक्रिय, नेताओं से कर रहे मंथन
गहलोत अपने आवास पर लोकसभा वार नेताओं और कार्यकर्ताओं से बैठकें कर जीत की रणनीति भी तलाशने में जुट गए...
केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय में होगा रूपक महोत्सव
संघर्ष विराम पर बातचीत के लिए नहीं आए इजरायली प्रतिनिधि 
तकनीकी विकास से ही देश की रक्षा : राजनाथ 
तीस हजार विजिटर और 500 करोड़ के व्यापार का कीर्तिमान
आईटी में नवीन अनुसंधान और टेक्नीकल एजुकेशन पर अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी 
पीआरएन में सोसायटी पट्टे के मकानों पर बिजली कनेक्शन क्यों नहीं दिया : हाईकोर्ट