कोटा, प्रतापगढ़ और सिरोही जिलों में हर घर जल प्रमाणीकरण शत-प्रतिशत पूरा

जेजेएम में अब तक 93.87 लाख जल संबंधों की मंजूरी मिली

कोटा, प्रतापगढ़ और सिरोही जिलों में हर घर जल प्रमाणीकरण शत-प्रतिशत पूरा

प्रदेश में 30 लाख 52 हजार ग्रामीण घरों में जल कनेक्शन दिए जा चुके हैं। कुल स्वीकृत 134 वृहद परियोजनाओं में से 86 परियोजनाओं के तहत 9234 गांवों में 22.21 लाख जल संबंधों के लिए 10 हजार 835 करोड़ के कार्यादेश जारी हो चुके हैं।

जयपुर। प्रदेश में जल जीवन मिशन के तहत अब तक ग्राम सभाओं में 686 गांवों को हर घर जल प्रमाणित कर दिया गया है। 486 गांवों के हर घर जल प्रमाण पत्र आईएमआईएस की वेबसाइट पर अपलोड किए गए हैं। कोटा, प्रतापगढ़ और सिरोही जिलों में हर घर जल प्रमाणीकरण का कार्य शत-प्रतिशत हो चुका है। पीएचईडी एसीएस डॉ. सुबोध अग्रवाल ने विभिन्न पेयजल परियोजनाओं की समीक्षा की। प्रदेश में 30 लाख 52 हजार ग्रामीण घरों में जल कनेक्शन दिए जा चुके हैं। कुल स्वीकृत 134 वृहद परियोजनाओं में से 86 परियोजनाओं के तहत 9234 गांवों में 22.21 लाख जल संबंधों के लिए 10 हजार 835 करोड़ के कार्यादेश जारी हो चुके हैं। अन्य योजनाओं में 14,793 गांवों में 35.26 लाख जल संबंधों के लिए टेंडर मांगे गए हैं। इनमें से 27.08 लाख जल कनेक्शन के लिए कार्यादेश भी जारी कर दिए गए हैं।

लापरवाही पर फर्मों को नोटिस देने के निर्देश
डॉ. अग्रवाल ने कहा कि मिशन की गाइडलाइन के अनुरूप हर घर जल का सर्टिफिकेशन किया जाए। कई परियोजनाओं के कम प्रगति पर होने पर उन्होंने संबंधित फर्मों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं के कार्य तय समय पर पूरा करना सुनिश्चित करें। अधिकारियों ने बताया कि आगामी एसएलएसएससी में चार वृहद परियोजनाओं की स्वीकृति प्रस्तावित है, जिनसे प्रदेश के 1963 गांवों में तीन लाख जल संबंध जारी होंगे।

Tags: water

Related Posts

Post Comment

Comment List

Latest News