हर सड़क पर काम, कहीं पर भी नहीं लगे संकेतक

हर सड़क पर काम, कहीं पर भी नहीं लगे संकेतक

शहर में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत व नगर विकास न्यास के माध्यम से करीब 3 हजार करोड़ रुपए से अधिक के विकास कार्य चल रहे हैं।

कोटा । शहर में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत व नगर विकास न्यास के माध्यम से करीब 3 हजार करोड़ रुपए से अधिक के विकास कार्य चल रहे  हैं। लेकिन अधिकतर काम के दौरान ट्रैफिक डायवर्ट करने से पहले किसी तरह के संकेतक नहीं लगाने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आधा रास्ता पार करने पर बीच में ट्रैफिक डायवर्ट का पता चलने से वाहन चालकों को रॉन्ग साइड से लौटना पड़ रहा है। 

शहर में बोरखेड़ा क्षेत्र हो या बूंदी रोड, झालावाड़ रोड हो या शहर के बीच गुमानपुरा क्षेत्र।  हर जगह सड़क पर काम चल रहा है। कहीं अंडरपास का तो कहीं फ्लाई ओवर का। विकास व निर्माण कार्यों के चलते अधिकतर स्थानों पर ट्रैफिक को डायवर्ट तो किया जा रहा है। लेकिन उसके लिए न तो न्यास संवेदक द्वारा और न ही ट्रैफिक पुलिस द्वारा संकेतक बोर्ड लगाए हुए है। जिससे उन स्थानों से गुजरने वाले वाहन चालकों को उसका पता ही नहीं चल रहा है। ऐसे में वाहन चालक को आधा रास्ता पार करने पर आगे बेरिकेडिंग लगा होने से रास्ता बंद मिल रहा है। जिससे उसे या तो वापस रॉन्ग साइड से लौटना पड़ रहा है या फिर गलियों से निकलने को मजबूर होना पड़ रहा है। 
 
घोड़ा चौराहे पर सबसे अधिक परेशानी
घोड़ा चौराहे पर अंडरपास का काम तो पूरा हो गया लेकिन उसके तीन तरफ स्लिप लेन बनाने का काम चल रहा है। विज्ञान नगर से सीएडी जाने वाले वाहन चालकों को एरोड्राम चौराहे पर आकर पता चल रहा है कि मोड पर रास्ता बंद है। ऐसे में वाहन चालकों को एरोड्राम चौराहे से होकर वापस शॉपिंग सेंटर वाली साइड से रॉन्ग साइड निकलना पड़ रहा है। इसी तरह से छावनी से डीसीएम रोड जाने वाले वाहन चालकों को एरोड्राम चौराहा पहुंचने पर मोड़ का रास्ता बंद होने का पता चल रहा है। जिससे उन्हें पुराने झालावाड़ बस स्टैंड की तरफ से रॉन्ग साइड निकलना पड़ रहा है।  इसी तरह से सीएडी से एरोड्राम चौराहा जाने वाले रास्ते को दो दिन पहले बीच में बेरिकेडिंग लगाकर अचानक बंद कर दिया गया था। जिससे वाहन चालकों को बीच रास्ते जाने पर पता चला तो उन्हें गलियों से होकर निकलना पड़ा। न्यास संवेदक द्वारा अचानक रास्ते बंद किए जा रहे हैं, लेकिन किसी तरह की सूचना या संकेतक नहीं लगाए जा रहे। 
 
नयापुरा में नाला निर्माण लेकिन सूचना नहीं
नयापुरा में उम्मेद पार्क के सामने, जेल रोड पर और पेट्रोल पम्प के पास नाला निर्माण का कार्य चल रहा है। यहां संवेदक द्वारा बेरिकेडिंग के लिए बोर्ड लगाकर छोड़ दिए। लेकिन कहीं भी लिखा हुआ नहीं है कि वाहन कहां से होकर निकलेंगे। ऐसे में कई वाहन चालक आधे से अधिक रास्ता पार करने के बाद या तो आधे-तिरछी जगह से वाहन निकाल रहे हैं या वापस लौट रहे हैं। 
 
नयापुरा में भी कई दिन रही परेशानी
इसी तरह से गत दिनों नयापुरा चौराहे पर भी न्यास अधिकारियों ने ट्रैफिक डायवर्ट कर दिया था। लेकिन जनता को इस संबंध में कोई सूचना नहीं दी गई और न ही जिस जगह से ट्रैफिक डायवर्ट किया, वहां बोर्ड लगाया था। जिससे लोगों को लम्बा चक्कर घूमकर निकलना पड़ रहा है। दैनिक नवयोति द्वारा जनता की समस्या उजागर करने के बाद बेरिकेडिंग लगाई गई। 
 
बिना सूचना अचानक रास्ते बंद करना गलत
इधर लोगों का कहना है कि शहर में विकास के काम हो रहे हैं वह अच्छा है। काम के दौरान ट्रैफिक डायवर्ट भी होगा, इससे भी कोई परेशानी नहीं है। लेकिन शहर में हर जगह पर एक साल काम चल रहे हैं। लेकिन कहीं पर भी न्यास, यातायात पुलिस या ठेकेदार फर्म द्वारा किसी तरह  के सूचना बोर्ड लगाए हुए नहीं हैं। जिससे वाहन चालकों को अनावश्यक रूप से परेशान होना पड़ रहा है। पेट्रोल व समय भी अधिक लग रहा है। अधिकारियों की गलती से जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 
 
बोरखेड़ा में भी यही हाल
बोरखेड़ा क्षेत्र में भी फ्लाई ओवर निर्माण का काम चल रहा है। इस काम को पूरा होने में करीब एक साल से अधिक का समय लगेगा। यहां भी जगह-जगह से रास्ते बंद किए हुए हैं। सिर्फ एक ही जगह पर परिवर्तित मार्ग का बोर्ड लगा है। उसके अलावा अन्य स्थानों पर बोर्ड नहीं लगे होने से लोगों को आधे रास्ते जाने के बाद गलियों से घूमकर निकलने को मजबूर होना पड़ रहा है। ऐसे में कई लोग रास्ता भी भटक रहे हैं। जिससे उन्हें परेशान होना पड़ रहा है। 
 
शहर में विकास व निर्माण कार्य संवेदकों के माध्यम से करवाए जा रहे हैं। काम से पहले उन्हें निर्देश दे रखे हैं कि जनता को परेशानी नहीं हो इसका ध्यान रखना है। हालांकि  न्यास के अभियंताओं को भी जिम्मेदारी दी हुई है। फिर भी यदि जहां संकेतक लगे हुए नहीं हैं और ट्रैफिक डायवर्ट करना हुआ तो पहले सूचना बोर्ड लगवा देंगे। जिससे किसी को परेशानी नहीं होगी। 
राजेश जोशी, सचिव नगर विकास न्यास
 



Post Comment

Comment List

Latest News

अंबानी परिवार को मिली धमकी, फोन कर कहा, 'एचएन रिलाइंस फाउंडेशन अस्पताल को बम से उड़ा दिया जाएगा' अंबानी परिवार को मिली धमकी, फोन कर कहा, 'एचएन रिलाइंस फाउंडेशन अस्पताल को बम से उड़ा दिया जाएगा'
धमकी एक अनजान फोन नंबर से आई। दोपहर में करीब 1 बजे अनजान फोन नंबर से अंबानी परिवार को धमकी...
मोदी ने हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर एम्स का किया उद्घाटन
राष्ट्रीय दल बनते ही टीआरएस का बदला नाम, हुआ भारतीय राष्ट्र समिति
निचले स्तर पर ही सुनिश्चित हो रहा है लोगों की समस्याओं का निस्तारण - गहलोत
वर्तमान सरकार के राज में विकास का पहिया थम गया : राजेंद्र राठौड़
सोयाबीन की कम कीमत किसानों को दे रही पीड़ा , कम दाम से टूट रहे किसानों के अरमान
रावण के पुतले को कंकड़ मारने पहुंचे लोग, पुलिस ने की समझाइश