रूस का कार्गो शिप पहली बार सीधा पाकिस्तान पहुंचा

पुतिन की विदेश नीति पर भारत की नजर

रूस का कार्गो शिप पहली बार सीधा पाकिस्तान पहुंचा

इस व्यापार का पेमेंट डॉलर या पाकिस्तानी रुपये में न कर चीनी मुद्रा युआन में होगा। रूस की पाकिस्तान के साथ बढ़ती दोस्ती भारत के लिए बड़ा खतरा मानी जा रही है।

इस्लामाबाद। कहते हैं कि देशों के बीच कोई स्थायी दोस्ती या दुश्मनी नहीं होती, केवल अपने राष्ट्रीय हित ही स्थायी होते हैं। हाल के रूस- पाकिस्तान रिश्तों के संदर्भ में यह बात सटीक लगती है। रूस अपने पुराने विरोधी देश पाकिस्तान से दोस्ती की पींगें बढ़ा रहा है।  यूक्रेन पर आक्रमण के बाद पश्चिमी प्रतिबंधों ने रूसी अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ रखी है। यही कारण है कि रूस अब एशियाई देशों के साथ व्यापार को तेजी से बढ़ा रहा है। इसी कड़ी में एक रूसी कंटेनर जहाज क्रिस्टल सेंट पीटर्सबर्ग सिर्फ  21 दिनों में पहली बार पाकिस्तान के कराची बंदरगाह पहुंचा है। इसे पाकिस्तान और रूस के बीच सीधे शिपिंग लिंक की शुरुआत माना जा रहा है। यह शिप 2000 ट्रांसशिपमेंट कंटेनरों से भरा हुआ था। इसके जरिए रूसी माल को पाकिस्तानी बाजार और पाकिस्तानी माल को रूसी बाजार तक पहुंचाने की कोशिश की जा रही है।

भुगतान होगा युआन में
इस व्यापार का पेमेंट डॉलर या पाकिस्तानी रुपये में न कर चीनी मुद्रा युआन में होगा। रूस की पाकिस्तान के साथ बढ़ती दोस्ती भारत के लिए बड़ा खतरा मानी जा रही है। भारत की रूस और पाकिस्तान की नई दोस्ती पर विशेष नजर है और वह इसे राष्ट्रीय हितों के दृष्टिगत बहुत सावधानी से आंक रहा है। रूस और पाकिस्तान के बीच चंद दिनों पहले ही व्यापार को बढ़ाने के लिए एक द्विपक्षीय समझौता हुआ था। वर्तमान में भारत और चीन रूस से ऊर्जा के सबसे बड़े खरीदार हैं। एशिया को भेजे जाने वाले रूसी कोयले के निर्यात का दो तिहाई हिस्सा सिर्फ यही दोनों देश खरीदते हैं। 

कई एशियाई देश रूसी माल के खरीदार
इस बीच दक्षिण कोरिया, वियतनाम, मलेशिया और श्रीलंका भी रूसी तेल, गैस और कोयले के खरीदार बने हैं। ऐसे में पाकिस्तान भी इस मौके का फायदा उठाना चाहता है। यही कारण है कि पाकिस्तानी हुक्मरान तेजी से रूस के साथ अपने द्विपक्षीय व्यापार संबंधों को सुधार रहे हैं। पाकिस्तान के कई बड़े मंत्री और अधिकारी रूस का दौरा कर रहे हैं। 25 मई को कराची पहुंचे रूसी शिप के औपचारिक स्वागत के दौरान पाकिस्तान की व्यापार बढ़ाने की हड़बड़ी साफ तौर पर देखी गई। रूसी कार्गो शिप के कराची पहुंचने पर पाकिस्तान के ऊर्जा मंत्री खुर्रम दस्तगीर, समुद्री मामलों के मंत्री फैसल सब्जÞवारी और रूस के महावाणिज्य दूत एंड्री विक्टोरोविच फेडोरोव ने कराची में आयोजित एक समारोह के दौरान स्वागत किया। पाकिस्तानी मंत्रियों ने रूसी शिप क्रिस्टल सेंट पीटर्सबर्ग का आगमन को ऐतिहासिक अवसर बताया। उन्होंने कहा कि रूस और पाकिस्तान के बीच सीधी शिपिंग लिंक की शुरुआत द्विपक्षीय संबंधों में नया अध्याय है। उद्घाटन समारोह में ऊर्जा मंत्री खुर्रम दस्तगीर ने कहा कि दोनों देशों के बीच सीधी शिपिंग सेवा शुरू होने से द्विपक्षीय आर्थिक संबंध और प्रगाढ़ होंगे। उन्होंने कहा कि रूस की अर्थव्यवस्था जीडीपी के हिसाब से पाकिस्तान की तुलना में पांच गुना बड़ी है। 

Post Comment

Comment List

Latest News

छत्तीसगढ़ कोल ब्लॉक पर दोनों सीएम के बयानों से विरोधाभास: गहलोत छत्तीसगढ़ कोल ब्लॉक पर दोनों सीएम के बयानों से विरोधाभास: गहलोत
इस मुद्दे पर गुमराह कर रहे हैं या दोनों मुख्यमंत्री मिलकर अपने-अपने राजनीतिक हितों के अनुरूप जनता को गुमराह कर...
RPF ने पिछले 7 वर्षों में 'ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते' के तहत 84,119 बच्चों को बचाया
सुस्त निवेश से 10 वर्ष में घाटी आर्थिक विकास की रफ्तार : कांग्रेस
आतंकी हमलों की रोकथाम के लिए केंद्र करे गम्भीरता से प्रयास: गहलोत
बड़ी बड़ी बातें नहीं कर केन्द्र आतंकियों के खिलाफ करें सख्त कार्यवाही: डोटासरा
जयपुर संभाग में हुआ 9 लाख 92 हजार से ज्यादा वृक्षारोपण
औषधि के उच्च मानक तय करना जरूरी, विश्व स्तरीय विनियामक ढांचे की आवश्यकता है: नड्डा