Lucknow: कोर्ट में गैंगस्टर संजीव माहेश्वरी की हत्या, वकील की ड्रेस में आया था हत्यारा

बीजेपी विधायक ब्रह्मदत्त द्विवेदी मर्डर मामले में आरोपी था संजीव

Lucknow: कोर्ट में गैंगस्टर संजीव माहेश्वरी की हत्या, वकील की ड्रेस में आया था हत्यारा

गोली चलाने वाले बदमाश की पहचान विजय यादव के रुप में हुई है जो जौनपुर का निवासी है। वहीं पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है।

लखनऊ। लखनऊ कोर्ट में गैंगस्टर संजीव माहेश्वरी जीवा की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। गोली चलाने वाला वकील की ड्रेस में कोर्ट आया था। इस घटना से कोर्ट में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। गोलीबारी की इस घटना में एक बच्ची को भी गोली लग गई। बता दें कि संजीव माहेश्वरी बीजेपी विधायक ब्रह्मदत्त द्विवेदी मर्डर मामले में आरोपी था।

जानकारी के मुताबिक गोली चलाने वाले बदमाश की पहचान विजय यादव के रुप में हुई है जो जौनपुर का निवासी है। वहीं पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है।

जीवा की क्राइम कुंडली
10 फरवरी 1997 को भाजपा नेता ब्रह्मदत्त द्विवेदी की हत्या हुई थी जिसमें संजीव जीवा का नाम आया था। मामले की सुनवाई हुई तो संजीव को उम्रकैद की सजा मिली। इसके बाद वो माफिया मुख्तार अंसारी के कॉन्टैक्ट में आया। इतना ही नहीं गैंगस्टर संजीव जीवा का नाम कृष्णानंद राय हत्याकांड में भी सामने आया था।

जीवा पर 2-4 नहीं बल्कि 22 से ज्यादा मामले दर्ज थे। 17 मामलों में जीवा बरी हो गया था। ब्रह्मदत्त द्विवेदी और कृष्णानंद राय हत्याकांड के अलावा उस पर साल 2017 में हुई कारोबारी गोल्डी की हत्या में भी शामिल होने का आरोप लगा था। कोर्ट ने इस केस में जीवा समेत 4 आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

Post Comment

Comment List

Latest News

Loksabha Election के चलते डोटासरा 5 दिन पंजाब दौरे पर Loksabha Election के चलते डोटासरा 5 दिन पंजाब दौरे पर
अमृतसर से डोटासरा गुरदासपुर प्रत्याशी और राजस्थान प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा के चुनाव प्रचार अभियान में शामिल हुए।
भाजपा ने भोजपुरी फिल्म स्टार पवन सिंह को पार्टी से निष्कासित किया
चिकित्सा सुविधाओं पर सरकार का ध्यान नहीं, गरीब-मध्यम वर्ग को बढ़ेगी परेशानी : गहलोत
Heat Stroke की वजह से शाहरूख खान अस्पताल में भर्ती
भाजयुमो का "एक परिंडा मेरा भी" अभियान
RBI करेगा भारत सरकार को 2.11 लाख करोड़ रुपए ट्रांसफर, पिछली बार से 1.23 लाख करोड़ रुपए ज्यादा
नरेगा श्रमिकों के भुगतान में रुकेगा भ्रष्टाचार, नए नियम सख्ती से लागू करने की जरूरत