गाजा में फिलिस्तीनी मृतकों की संख्या बढ़कर 15,523 हुई

गाजा में फिलिस्तीनी मृतकों की संख्या बढ़कर 15,523 हुई

सैकड़ों घायल लोगों का इलाज बहुत सीमित चिकित्सा संसाधनों के साथ किया जा रहा है, क्योंकि उत्तरी गाजा के अस्पतालों में आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं की कमी है।

गाजा। गाजा पट्टी में गत 07 अक्टूबर से जारी इजरायली हमलों में मारे गये फिलिस्तीनियों की संख्या 15,523 हो चुकी है।  हमास द्वारा संचालित स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ अल-किदरा ने बताया कि स्वास्थ्य सेवाओं की विफलता के बीच फिलिस्तीनी एन्क्लेव में घायल लोगों की संख्या 41,000 से ज्यादा हो चुकी है। सैकड़ों घायल लोगों का इलाज बहुत सीमित चिकित्सा संसाधनों के साथ किया जा रहा है, क्योंकि उत्तरी गाजा के अस्पतालों में आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं की कमी है।

उन्होंने कहा कि गाजा पट्टी के सभी अस्पतालों में मरीजों की संख्या उनकी चिकित्सा और बिस्तर क्षमताओं से ज्यादा है, गंभीर मामलों को संभालने के लिए आवश्यक सर्जिकल संसाधनों की कमी है। घायलों को विदेश में इलाज कराने की अनुमति देने के लिए धीमी गति की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि इजरायल-हमास संघर्ष की शुरुआत के बाद से केवल 403 लोगों को गाजा पट्टी छोडऩे की अनुमति प्रदान की गई है।

उन्होंने चिकित्सा आपूर्ति, दवाओं और ईंधन की आपुर्ति सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षित मानवीय गलियारों की मांग को दोहराया और कहा कि घायलों और रोगियों का इलाज करने के लिए विदेश यात्रा की अनुमति मिलने की कोशिश करनी चाहिए।

Post Comment

Comment List

Latest News

निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम
नगरीय विकास एवं आवासन विभाग ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें निर्माण कार्यों में खनिज बजरी के विकल्प के...
जल जीवन मिशन कामों की कल होगी समीक्षा, प्रति ग्राम पंचायत दो-दो नल जल मित्र के प्रस्ताव होंगे पारित
राज्य सरकार एवं हुडको के मध्य हुआ एमओयू
शंभू बॉर्डर किसान आंदोलन: बैरिकेडिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया स्वतंत्र समिति बनाने का सुझाव
राजस्थान को मिला 9959 करोड़ रुपए का बजट
कस्टम ड्यूटी में कटौती के बाद सोना-चांदी की खरीदारी में वृद्धि
AAP ने लगाए आरोप- केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली और पंजाब के साथ किया सौतेला व्यवहार