ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के दर पर सोनिया गांधी की चादर पेश, गहलोत और डोटासरा रहे मौजूद

ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के दर पर सोनिया गांधी की चादर पेश, गहलोत और डोटासरा रहे मौजूद

सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के 809वें उर्स के मौके पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की ओर से भेजी गयी चादर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अजमेर दरगाह शरीफ में पेश की।

अजमेर। सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के 809वें उर्स के अवसर पर गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चादर पेश की और मुल्क में खुशहाली, भाईचारा और तरक्की की दुआ मांगी। इस मौके पर सोनिया गांधी का संदेश भी पढ़कर सुनाया गया। सोनिया गांधी की चादर लेकर मुख्यमंत्री सहित प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष नदीम जावेद, राजस्थान वक्फ बोर्ड के चेयरमैन डॉ. खानूखान बुधवाली, अश्क अली टांक, विधायक राकेश पारीक सहित अन्य नेता दरगाह पहुंचे। ख्वाजा साहब की मजार पर चादर पेश करने के बाद सभी की दस्तारबंदी की गई। इसके बाद जावेद ने सोनिया गांधी का संदेश पढ़कर सुनाया। जिसमें उन्होंने मुल्क में अमानो-अमान, मौहब्बत, भाईचारा और सदियों पुरानी गंगा जमुनी तहजीब को कायम रखने और आवाम के मुखालफत ताकतों की साजिशें नाकाम करने की दुआ मांगते हुए सभी को उर्स की मुबारकवाद दी है।

राज्यपाल की चादर
इससे पूर्व राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र की चादर उनके सचिव सुबीर कुमार व परिसहाय हर्षवर्धन ने पेश की। जियारत कराने के बाद उनकी दस्तारबंदी कर तबर्रुक भेंट किया गया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की चादर
केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की चादर दरगाह कमेटी मुनव्वर खान लेकर आए और पेश करके दुआ मांगी। खादिम सैयद मुनव्वर चिश्ती ने चादर पेश करवाने के लिए सभी की दस्तारबंदी कर तबर्रुक भेंट किया। इसके बाद सिंह का संदेश पढ़कर सुनाया।
  

Post Comment

Comment List

Latest News

अब वार्ड वार लगेंगे प्रशासन शहरों के संग अभियान शिविर अब वार्ड वार लगेंगे प्रशासन शहरों के संग अभियान शिविर
प्रशासन शहरों के संग के तहत अब वार्ड वार कैंप आयोजित कर अभियान का फायदा आमजन को और अधिक पहुंचाने...
रिश्वतखोर पटवारी को 3 साल की सजा , 50000 रुपए जुमार्ना
कन्हैयालाल हत्याकांड सरकार की तुष्टीकरण की नीति का है परिणाम : पूनिया
पर्यटन को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से करे प्रचारित : सिंह
ईआरसीपी पर गुमराह कर रहे हैं मुख्यमंत्री, सब चाहते हैं योजना को मंजूरी मिले :राठौड़
रिफाइनरी की तरह ईआरसीपी पर भी जनता की आवाज सुननी पड़ेगी, हम योजना बंद नहीं करेंगे: गहलोत
युवाओं को उद्यम के क्षेत्र में बढ़ने के लिए की योजनाओं की घोषणा : शर्मा