बच्चों की पिटाई का वीडियो वायरल, पटवारी ने मांगा सरकार से जवाब

बच्चों की पिटाई का वीडियो वायरल, पटवारी ने मांगा सरकार से जवाब

पटवारी ने सरकार से दोषियों को चिन्हित करने, कड़ी कार्रवाई करने और पूरे दलित समाज से तत्काल माफी मांगने की मांग की है।

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कुछ बच्चों की अमानवीय तरीके से पिटाई से जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल करते हुए इस मामले को लेकर सरकार से जवाब मांगा है। वीडियो में एक व्यक्ति कुछ बच्चों को रस्सी से बांधकर उनकी बुरी तरह पिटाई करते हुए दिखाई दे रहा है। पटवारी का आरोप है कि ये बच्चे दलित समाज के हैं और उनकी पिटाई सिर्फ इसलिए की जा रही है क्योंकि उन्होंने कुएं से पानी पी लिया। हालांकि वीडियो कहां का है, ये अभी तक स्पष्ट नहीं हुआ है।

पटवारी ने वीडियो पोस्ट करते हुए कहा,''दिल दहलाने वाला ये दृश्य पत्थरदिल को भी विचलित कर सकते हैं! रोते/बिलखते/चीखते इन बच्चों ने सिर्फ कुएं से पानी पी लिया था! और, ये तालिबानी सजा इसलिए दी गई कि ये मासूम दलित हैं! नरेंद्र मोदी जी, गौर से देख लें कि भाजपा द्वारा फैलाया जा रहा नफरत का नंगा नाच अब मासूम जिंदगियों से भी सांसों का सौदा करना चाहता है! सोचना यह भी होगा कि कानून से खिलवाड़ करने वाले डॉ मोहन यादव सरकार में ज्यादा क्यों दिखाई दे रहे हैं?''

पटवारी ने अपनी एक्स पोस्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव और दोनों के कार्यालयों को टैग किया है। उन्होंने सरकार से दोषियों को चिन्हित करने, कड़ी कार्रवाई करने और पूरे दलित समाज से तत्काल माफी मांगने की मांग की है।

Post Comment

Comment List

Latest News

आरक्षण चोरी का खेल बंद करने के लिए 400 पार की है आवश्यकता : मोदी आरक्षण चोरी का खेल बंद करने के लिए 400 पार की है आवश्यकता : मोदी
कांग्रेस ने वर्षों पहले ही धर्म के आधार पर आरक्षण का खतरनाक संकल्प लिया था। वो साल दर साल अपने...
लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था, पुलिस के 85 हजार अधिकारी-जवान सम्भालेंगे जिम्मा : साहू 
इंडिया समूह का घोषणा पत्र देखकर हताश हो रही है भाजपा : महबूबा
लोगों को डराने के लिए खरीदे हथियार, 2 बदमाश गिरफ्तार
चांदी 1100 रुपए और शुद्ध सोना 800 रुपए महंगा
बेहतर कल के लिए सुदृढ ढांचे में निवेश की है जरुरत : मोदी
फोन टेपिंग विवाद में लोकेश शर्मा ने किया खुलासा, मुझे अशोक गहलोत ने उपलब्ध कराई थी रिकॉर्डिंग