नामीबिया के लॉफ्टी ईटन ने मारा 33 गेंद में सबसे तेज टी-20 शतक

लॉफ्टी ईटन ने 36 गेंद में 101 रन बनाए

नामीबिया के लॉफ्टी ईटन ने मारा 33 गेंद में सबसे तेज टी-20 शतक

92 रन चौके और छक्के जड़ कर बनाये जोकि टी-20 में किसी बल्लेबाज के सबसे अधिक रन हैं।

नामीबिया के यान निकोल लॉफ्टी-ईटन ने मंगलवार को त्रिकोणीय श्रृंखला के पहले मुकाबले में नेपाल के खिलाफ 33 गेंद में टी-20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास का सबसे तेज शतक जड़ा।

लॉफ्टी-ईटन ने इस शतक के साथ नेपाल के कुशल मल्ला का रिकॉर्ड एक गेंद से तोड़ दिया। कुल मिलाकर लॉफ्टी ईटन ने 36 गेंद में 101 रन बनाए जिसमें 11 चौके और आठ छक्के शामिल थे। उन्होंने 92 रन चौके और छक्के जड़ कर बनाये जोकि टी-20 में किसी बल्लेबाज के सबसे अधिक रन हैं।

उल्लेखनीय है कि नेपाल के मल्ला ने वर्ष 2023 एशियन गेम्स में मंगोलिया के खिलाफ यह कारनामा किया था इस मैच में नेपाल ने तीन विकेट पर 314 रन बनाए थे। इसी मैच में दीपेंद्र ङ्क्षसह ऐरी ने नौ गेंद में अर्धशतक लगाया था जो टी-20 का सबसे तेज अर्धशतक है। संयोग से लॉफ्टी ने यह रिकॉर्ड तब तोड़ा जब ऐरी गेंदबाजी कर रहे थे और मल्ला मैदान पर मौजूद थे।

लॉफ्टी ईटन उस समय बल्लेबाजी करने आये जब नामीबिया का स्कोर 11 ओवर में तीन विकेट पर 62 रन था।  उन्होंने पहली छह गेंदों में दो छक्के और एक चौका लगाया और 18 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने मलान क्रुगर के साथ चौथे विकेट के लिए 52 गेंद में 135 रन जोड़े और नामीबिया ने चार विकेट पर 206 रन बनाए। 

Read More टी-20 विश्वकप खेलने के लिए हो सकती है सुनील नारायण की संन्यास से वापसी

Post Comment

Comment List

Latest News

अफगानिस्तान में एक चिपचिपी खदान में बम विस्फोट, एक व्यक्ति की मौत अफगानिस्तान में एक चिपचिपी खदान में बम विस्फोट, एक व्यक्ति की मौत
प्रवक्ता ने कहा कि सभी पीड़ित आम नागरिक थे, पुलिस घटनास्थल पर पहुंच चुकी है और जांच शुरू कर दी...
महावीर जयंती पर निकाली शोभा यात्रा, घरों पर फहराया पचरंगा जैन ध्वज
मोदी को 20 करोड़ लोगों को देना था रोजगार, उल्टे छीन ली युवाओं की नौकरियां : खड़गे
लोकसभा चुनाव में शहर में मतदाताओं का रुझान कम 
अफ्रीकी-अमेरिकी देशों में राजस्थान से निर्यात के अपार अवसर
जापान में अभ्यास के दौरान 2 सैन्य हेलीकॉप्टर क्रैश, एक व्यक्ति की मौत
विकसित भारत के निर्माण में निरंतर योगदान करें लोक सेवक : धनखड़