bhamashah mandi
राजस्थान कोटा

पहली बार भामाशाह मंडी में सुगंधा धान की आवक

पहली बार भामाशाह मंडी में सुगंधा धान की आवक भामाशाह मंडी में इस साल पहली बार सुगंधा धान की आवक हुई है। मंडी में लगभग 100 बोरी धान बिकने के लिए आया।
Read More...
राजस्थान कोटा

उदघाटन के इंतजार में ग्रेडिंग मशीन

उदघाटन के इंतजार में ग्रेडिंग मशीन एशिया की सबसे बड़ी मंडी भामाशाह मंडी में ग्रेडिंग मशीन खराब होने के कारण किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। करीब 300000 की लागत से यह मशीन तैयार करवाई गई थी। 6 माह बाद भी इसका उद्घाटन नहीं होने से किसानों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है।
Read More...
राजस्थान कोटा

किसानों के अरमानों पर बारिश ने फेरा पानी

 किसानों के अरमानों पर बारिश ने फेरा पानी भामाशाहमंडी परिसर में बने टीनशेडो में स्थानीय व्यापारियों की ओर से किए गए कब्जोंं के सम्बंध में दैनिक नवज्योति में प्रमुखता से समाचार प्रकाशित किया गया था। इसमें बताया था कि टीनेशेडो पर कब्जों के कारण प्राकृतिक आपदा होने पर किसानों को नुकसान हो सकता है। यदि समय रहते टीनशेड खाली हो जाते तो किसानों को नुकसान नहीं उठाना पड़ता।
Read More...
राजस्थान कोटा

टीनशेड पर व्यापारियों का कब्जा, किसानों का माल खुले में पड़ा

टीनशेड पर व्यापारियों का कब्जा, किसानों का माल खुले में पड़ा एशिया की प्रमुख अनाज मंडी में शुमार भामाशाह कृषि उपजमंडी में अभी भी अव्यवस्था का आलम बना हुआ है। लम्बा चौड़ा परिसर और टीनशेड की व्यवस्था होने के बावजूद किसानों को अपनी उपज बेचने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। टीनशेड पर व्यापारियों ने कब्जा कर रखा है।
Read More...
कोटा

केंद्र खुले एक माह बीता, एक भी किसान नहीं आया गेहूं बेचने

केंद्र खुले एक माह बीता, एक भी किसान नहीं आया गेहूं बेचने संभाग की सबसे बड़ी भामाशाह मंडी में इन दिनों रबी जिंसों की बंपर आवक हो रही है। मंडी में प्रतिदिन 1 लाख 25 हजार बोरी गेहूं की आवक हो रही है। 15 मार्च से समर्थन मूल्य खरीद केन्द्र शुरू करने के बावजूद खरीद केन्द्रों पर जिंसों को बेचने के प्रति किसानों का रुझान नहीं है। एक माह होने आया, पर अभी एक भी किसान समर्थन मूल्य केंद्र पर माल बेचने नहीं आया है।
Read More...
बिजनेस कोटा

किसानों को मंडी में लहसुन बेचना नहीं आ रहा रास

किसानों को मंडी में लहसुन बेचना नहीं आ रहा रास हाड़ौती संभाग में इस बार लहसुन की बंपर पैदावर हुई है। जिससे लहसुन के दामों में गिरावट आई है। हालांकि खुदरा में लहसुन 40 से 50 रुपए किलो ही बिक रहा लेकिन मंडी में नए लहसुन के दाम नहीं मिलने से किसान पिछले एक सप्ताह से भामाशाह मंडी में लहसुन लाना ही कम कर दिया है।
Read More...

Advertisement

Advertisement