गहलोत सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरी भाजपा

बम ब्लास्ट की 15वीं बरसी पर राजधानी के 250 वार्डों में दिया सांकेतिक धरना-प्रदर्शन

गहलोत सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरी भाजपा

राजधानी में 15 साल पहले सीरियल बम ब्लास्ट के आरोपियों के कोर्ट से बरी होने में अशोक गहलोत सरकार पर न्यायालय में कमजोर पैरवी करने का आरोप लगाते हुए भाजपा शनिवार को जयपुर की सड़कों पर उतरी।

जयपुर। राजधानी में 15 साल पहले सीरियल बम ब्लास्ट के आरोपियों के कोर्ट से बरी होने में अशोक गहलोत सरकार पर न्यायालय में कमजोर पैरवी करने का आरोप लगाते हुए भाजपा शनिवार को जयपुर की सड़कों पर उतरी। सरकार के खिलाफ शहर की सभी 250 वार्डों में हनुमान मंदिर के बाहर एक घंटे तक धरना-प्रदर्शन किया और रामधुनी के साथ हनुमान चालीसा का पाठ किया। बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी, नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़, उप नेता प्रतिपक्ष सतीश पूनिया, पूर्व मंत्री अरूण चतुर्वेदी सहित पार्टी के बड़े नेता शहर में अलग-अलग जगहों पर धरना-प्रदर्शन में शामिल हुए। चांदी की टकसाल काले हनुमानजी मंदिर के पास धरने में प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी पहुंचे।

धरने को संबोधित करते हुए जोशी ने गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जब तक बम ब्लास्ट के पीड़ितों को न्याय नहीं मिल जाता, तब तक बीजेपी का हर कार्यकर्ता चैन से नहीं बैठेगा और सरकार को भी चैन की नींद नहीं लेने देगा। नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि पीड़ितों के प्रति सरकार की कोई संवेदनशीलता नहीं है, पहले उनके सुप्रीम कोर्ट में जाने के बाद सरकार ने एसएलपी दायर की है। बीजेपी उन पीड़ित परिवारों के साथ खड़ी है। सतीश पूनिया ने कहा कि कांगे्रस सरकार की लापरवाही के चलते सभी हत्यारे मुक्त हो गए।
पुलिस की सख्ती के चलते कई कार्यकर्ता नहीं पहुंचे
बीजेपी नेताओं ने आरोप लगाया कि पुलिस की सख्ती के चलते कई पार्टी कार्यकर्ता धरना स्थल पर नहीं पहुंच सके। कार्यकर्ताओं को बेवजह पुलिस ने रोका ताकि सरकार के खिलाफ धरना सफल नहीं हो सके। हालांकि पुलिस की ओर से शनिवार को प्रदेश में सख्त हेलमेट लगाने की पालना के चलते बिना हेलमेट वाले कार्यकर्ताओं को रोका गया।
सुप्रीम कोर्ट में 17 को सुनवाई
पीड़ित परिवरों और राज्य सरकार की ओर से एसएलपी दायर करने के बाद सुप्रीम कोर्ट में अब इस मामले में 17 मई को सुनवाई होगी। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार और अन्य पक्षकारों से इस मामले में रिपोर्ट तलब की है। 13 मई 2008 को इस बम ब्लास्ट की घटना में 72 लोगों की जान चली गई थी।

 

Post Comment

Comment List

Latest News

निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम निकायों के निर्माण कार्यों में एम-सैंड का उपयोग अनिवार्य, प्रोजेक्ट्स में न्यूनतम 25 प्रतिशत एम-सैंड लेंगे काम
नगरीय विकास एवं आवासन विभाग ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें निर्माण कार्यों में खनिज बजरी के विकल्प के...
जल जीवन मिशन कामों की कल होगी समीक्षा, प्रति ग्राम पंचायत दो-दो नल जल मित्र के प्रस्ताव होंगे पारित
राज्य सरकार एवं हुडको के मध्य हुआ एमओयू
शंभू बॉर्डर किसान आंदोलन: बैरिकेडिंग पर सुप्रीम कोर्ट ने दिया स्वतंत्र समिति बनाने का सुझाव
राजस्थान को मिला 9959 करोड़ रुपए का बजट
कस्टम ड्यूटी में कटौती के बाद सोना-चांदी की खरीदारी में वृद्धि
AAP ने लगाए आरोप- केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली और पंजाब के साथ किया सौतेला व्यवहार