नि:शुल्क जांच के बावजूद कट रही मरीजों की जेब

जिला अस्पताल में एक माह से सीटी स्कैन की सुविधा बंद

नि:शुल्क जांच के बावजूद कट रही मरीजों की जेब

जिला अस्पताल में रोजाना 20 से 25 मरीजों की सीटी स्कैन होती है। नि:शुल्क जांच बंद होने से मरीजों को परेशानी हो रही है। साथ ही मरीजों को सीटी स्कैन करवाने के लिए सीटी स्कैन चेस्ट के 800 रुपए तथा सीटी स्कैन हैड के लिए 1100 रुपए की राशि का भुगतान करना पड़ रहा है।

बूंदी। राज्य सरकार की ओर से मुख्यमंत्री नि:शुल्क जांच योजना के तहत प्रदेश के सभी सरकारी अस्पतालों में मरीजों को कई जांचों की नि:शुल्क सुविधा दी जा रही है। पं.बृज सुंदर सामान्य जिला अस्पताल में मरीजों को दी जा रही सीटी स्कैन की नि:शुल्क जांच सुविधा पिछली 18 अप्रैल से बंद हो चुकी है। अस्पताल प्रशासन को इस बारे में बखूबी जानकारी है, लेकिन फिर भी मरीजों की सुविधाओं पर जिम्मेदारों का ध्यान तक नहीं है। सीटी स्कैन की नि=शुल्क जांच बंद होने से मरीजों को परेशानी हो रही है। जिला अस्पताल में नि:शुल्क जांच की सुविधा होने के बावजूद मरीजों को सीटी स्कैन के लिए अपनी जेब खाली करनी पड़ रही हैं। फर्म की 43 लाख रुपए राशि बकाया होने से 18 अप्रैल 2023 से फर्म ने मरीजों को दी जा रही नि:शुल्क जांच की सुविधा बंद कर दी है। 

रोजाना होती है 20 से 25 जांचें
जिला अस्पताल में रोजाना 20 से 25 मरीजों की सीटी स्कैन होती है। नि:शुल्क जांच बंद होने से मरीजों को परेशानी हो रही है। साथ ही मरीजों को सीटी स्कैन करवाने के लिए सीटी स्कैन चेस्ट के 800 रुपए तथा सीटी स्कैन हैड के लिए 1100 रुपए की राशि का भुगतान करना पड़ रहा है। कल्पना नर्सिंग होम प्रा.लि. के प्रतिनिधि यश सैनी ने बताया कि नि:शुल्क जांच योजना बंद होने के बाद सीटी स्कैन कराने वालों की संख्या भी घट कर 8 से 10 मरीज रह गई हैं। मरीज लोकेश कुमार और सुरेन्द्र ने बताया कि सीटी स्कैन मशीन बंद होने के कारण काफी परेशानी हो रही है। इससे मरीजों को नुकसान हो रहा है।

बून्दी सेंटर पर 43 लाख बकाया हैं फर्म के
कल्पना नर्सिंग होम प्रा.लि. के अकाउंटेंट रवि गोयल ने बताया कि फर्म द्वारा पूरे राजस्थान में 15 सीटी स्कैन सेंटर संचालित हो रहे हैं, जिनका कुल 4 करोड़ से ज्यादा की रकम अब तक बकाया है। बूंदी चिकित्सालय पर ही सीटी स्कैन के 43 लाख रुपए का बकाया हैं। फर्म के प्रतिनिधि यश सैनी के अनुसार 2018 से ही फर्म का बकाया चल रहा है। सेंटर पर 4 कर्मचारी नियुक्त हैं। यहां सुबह 8 से 2 बजे तक नियमित रूप से तथा बाद में आॅन कॉल सीटी स्कैन की सुविधा उपलब्ध हैं।

क्या हैं सीटी स्कैन
डॉक्टर्स को जब किसी मरीज की बीमारी की जांच और डिटेल में जानकारी के लिए बॉडी के सॉफ्ट टिश्यूज, ब्लड वेसल्स या बोन्स की डिटेल रिपोर्ट चाहिए होती हैं, तब सीटी स्कैन की जरूरत पड़ती है। इसलिए मेजर बीमारियों में या फिर किसी बड़ी शंका को दूर करने के लिए ही डॉक्टर्स सीटी स्कैन कराते हैं। सीटी स्कैन से शरीर के अंदरूनी हिस्सों की डिटेल में तस्वीरें मिल जाती हैं। मांसपेशियों संबंधी समस्या में, हड्डी से संबंधित गंभीर बीमारियों में, कैंसर के इलाज के दौरान, शरीर की किसी अंदरूनी चोट के इलाज के लिए, हार्ट से संबंधित समस्याओं या बीमारी के इलाज में सीटी स्कैन की जाती है।

Read More World Leader होने की झूठी मार्केटिंग करते हैं मोदी: डोटासरा

फर्म के बिलों की बजट स्वीकृति के लिए मुख्यालय को लिखा गया था, जिसकी स्वीकृति मिल गई। फर्म के द्वारा ओरिजनल बिल देने के 10 दिनों में   भुगतान कर दिया जाएगा। 
- तुलसीराम मीणा, लेखाधिकारी, सामान्य चिकित्सालय 

Read More 3 साल बाद भी नहीं मिले 25 करोड़, अटकी शिफ्टिंग

सीटी स्कैन के भुगतान नहीं होने के कारण नि:शुल्क सीटी स्कैन की सुविधा नहीं मिल पा रही थी। मुख्यालय से भुगतान की स्वीकृति मिल गई हैं, जल्दी ही फर्म के मार्च तक के बिलों का भुगतान कर दिया जाएगा। फर्म के प्रतिनिधियों को नि:शुल्क सीटी स्कैन जांच शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं।
- डॉ. नरेश पाल सिंह, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी बूंदी

Read More क्रिकेट समर कैंप का समापन : कोच श्रद्धानन्द यादव (रणजी प्लेयर) द्वारा दिया गया प्रशिक्षण 

Post Comment

Comment List

Latest News

राज्यवर्धन राठौड़ ने निगम के अधिकारियों साथ की बैठक, विकास कार्यों पर की चर्चा राज्यवर्धन राठौड़ ने निगम के अधिकारियों साथ की बैठक, विकास कार्यों पर की चर्चा
मानसून के आगमन से पहले सारी व्यवस्थाएं सही करने के भी निर्देश दिए। 
चंद्रबाबू नायडू ने 2 साल बाद विधानसभा में किया प्रवेश, अपमानित होने के बाद चले गए थे बाहर
बिना रजिस्ट्रेशन के रियल स्टेट में खरीद-बेचान करने वाले एजेंटों पर रेरा अथॉरिटी का शिकंजा, थमाएं नोटिस
2.69 करोड़ ग्राहकों के साथ प्रदेश में सबसे आगे जियो
पत्नी की हत्या : कटा सिर और हाथ नाले में फेंके
रूस में हेलीकॉप्टर क्रैश, पायलट सहित 3 लोगों की मौत
अन्नपूर्णा रसोईयों का किया औचक निरीक्षण, 7 लाख से अधिक का लगाया जुर्माना