सुकेत सरपंच पर चौथी संतान के तथ्य छिपाकर चुनाव लड़ने का आरोप

निर्वाचन अधिकारी ने जांच में माना 1995 के बाद संतान होना धोखाधड़ी का मामला नहीं हो पा रहा थाने में दर्ज

सुकेत सरपंच पर चौथी संतान के तथ्य छिपाकर चुनाव लड़ने का आरोप

ग्राम पंचायत सुकेत सरपंच गोरधनलाल मेहर पर तथ्य छिपाकर सरपंच चुनाव लड़ने के मामले ने तूल पकड़ा हुआ है। जानकारी के अनुसार निर्वाचन अधिकारी ने भी शिकायत पर की गई जांच में माना कि 27 नवंबर 1995 के बाद हुई चौथी संतान की जन्मतिथि में विरोधाभास है।

रामगंजमंडी/ सुकेत। ग्राम पंचायत सुकेत सरपंच गोरधनलाल मेहर पर तथ्य छिपाकर सरपंच चुनाव लड़ने के मामले ने तूल पकड़ा हुआ है। जानकारी के अनुसार निर्वाचन अधिकारी ने भी शिकायत पर की गई जांच में माना कि 27 नवंबर 1995 के बाद हुई चौथी संतान की जन्मतिथि में विरोधाभास है। 27 नवंबर 1995 के बाद सरपंच की पुत्री निशा का जन्म हुआ। इस मामले की ग्रामवासियों द्वारा निर्वाचन अधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर शिकायत भी की गई। जिसकी जांच चल रही है। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की मार्कशीट में 17 अगस्त 1998 व चुनाव के समय प्रस्तुत प्रमाण पत्र में अलग जन्मतिथि है। शिकायत कर्ता वैजयंती यादव ने सम्पूर्ण तथ्यों के साथ निर्वाचन अधिकारी को शिकायत दी थी। जिसमें बताया गया था कि सुकेत सरपंच गोरधन मेहर ने तथ्य छिपाकर चुनाव लड़ा। झूठे कूटरचित दस्तावेज तैयार करके धोखाधड़ी की है।

 निर्वाचन अधिकारी द्वारा मामले की जांच नायब तहसीलदार द्वारा करवाई गई। 14 अगस्त 2022 को जो जांच रिपोर्ट निर्वाचन अधिकारी को सौंपी गई है, उसके प्रपत्र 4 में कुल परिवार के सदस्यों की संख्या 4 बताई गई है। उसमें चौथी संतान की जन्मतिथि 1 जनवरी 95 बताई है, जबकि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की मार्क शीट में निशा की जन्मतिथि 17 अगस्त 98 है। जन्म प्रमाण पत्र 18 जनवरी 2020 को जारी हुआ है। उसमें माना गया है कि जन्म प्रमाण पत्र व मार्क शीट में चौथी संतान निशा की जन्मतिथि में विरोधाभास है। 27 नवंबर 95 के बाद चौथी संतान हुई है। जिसकी जन्मतिथि 1 जनवरी 95 दर्शाई है।

मामले को दबाने का आरोप
शिकायतकर्ता वैजयंती यादव ने 17 फरवरी 22 को सुकेत थाने में सरपंच गोरधन मेहर पर कूट रचित दस्तावेज तैयार करने व तथ्य छुपाकर चुनाव लड़ने का आरोप लगाते हुए धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करने की मांग की। जिसके बयान भी हुए। शिकायत कर्ता ने बताया कि 2 माह बाद भी सुकेत थाने में एफआईआर की प्रति नहीं दी है। मामले को दबाया जा रहा है।

इनका कहना है
वैजयंती यादव ने सुकेत सरपंच के विरुद्ध परिवाद दिया है। जिसकी जांच चल रही है।
-विष्णुसिंह, थानाधिकारी, सुकेत

मामला जिला निर्वाचन अधिकारी के मार्गदर्शन के लिए भेजा गया है।
-राजेश डागा, उपखण्ड अधिकारी, रामगंजमंडी

Post Comment

Comment List

Latest News

भारत जोड़ो यात्रा से बदला है राष्ट्रीय राजनीति का परिदृश्य : कांग्रेस भारत जोड़ो यात्रा से बदला है राष्ट्रीय राजनीति का परिदृश्य : कांग्रेस
उन्होंने कहा कि यात्रा को पहले दक्षिण के पांच राज्यों में भारी समर्थन मिला था और जब यात्रा  महाराष्ट्र पहुंची...
झुंझुनूं में विकास की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी : बृजेंद्र ओला
भारतीय संविधान विश्वभर के लोकतंत्रों की सर्वश्रेष्ठ व्याख्या: राज्यपाल मिश्र
खाद की कमीः क्षेत्र में खाद भी राशन की तरह बांटना पड़ा
वसुंधरा राजे हमारी नेता थी, हैं और हमारी नेता रहेगी : कालीचरण सर्राफ
सेना के जवान का बीमारी के चलते निधन राजकीय सम्मान से किया अंतिम संस्कार
भाजपा के टेपन 978 वोट से हुए विजयी