विपक्ष का केंद्र पर निशाना: खड़गे बोले- लोकतांत्रिक तरीके से किसी भी मुद्दे को सुलझाना नहीं चाहती है सरकार

विपक्ष का केंद्र पर निशाना: खड़गे बोले- लोकतांत्रिक तरीके से किसी भी मुद्दे को सुलझाना नहीं चाहती है सरकार

कांग्रेस तथा अन्य विपक्षी दलों ने कहा है कि सरकार किसानों के मुद्दे, जासूसी तथा अन्य समस्याओं के समाधान के लिए तैयार नहीं है और वह लोकतांत्रिक तरीके से किसी भी मुद्दे को सुलझाना नहीं चाहती है। राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि सरकार तानाशाही कर रही है

नई दिल्ली। कांग्रेस तथा अन्य विपक्षी दलों ने कहा है कि सरकार किसानों के मुद्दे, जासूसी तथा अन्य समस्याओं के समाधान के लिए तैयार नहीं है और वह लोकतांत्रिक तरीके से किसी भी मुद्दे को सुलझाना नहीं चाहती है। राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मंगलवार को संसद भवन के बाहर मीडिया से कहा कि सरकार तानाशाही कर रही है और लोकतांत्रिक तरीके से किसी भी मसले का समाधान करने को तैयार नहीं हैं। उनका कहना था कि जब फ्रांस, इजरायल जैसे कई देश जासूसी प्रकरण पर जांच बैठा चुकी है तो मोदी सरकार इससे क्यों भाग रही है।

उन्होंने कहा कि सरकार लोगों की समस्याओं पर बात ही नहीं करना चाहती है। विपक्षी दल सरकार से हर समस्या पर बात करने को तैयार है लेकिन सरकार अड़ी हुई है और वह लोकविरोधी फैसले ले रही है जिसकी उसे इजाजत नहीं दी जा सकती है। खड़गे ने कहा कि आईटी अधिनियम कहता है कि निगरानी के लिए अनुमति की आवश्यकता है। इस सरकार ने अनुमति दी (पेगासस के माध्यम से कथित जासूसी के लिए) और न्यायाधीशों, सेना के अधिकारियों, पत्रकारों और विपक्षी नेताओं पर जासूसी करने में शामिल है। दुनिया में कोई लोकतंत्र ऐसा नहीं करेगा।

सपा सांसद रामगोपाल यादव ने कहा कि सम्पूर्ण विपक्ष चाहता है कि सरकार खुद सामने आए जो मुद्दे हैं उनके समाधान के लिए विपक्ष के साथा बात करे लेकिन दुर्भाग्य से सरकार किसानों तथा जनहित के मुद्दों पर बात करने को तैयार नहीं है। डीएमके के तिरुचि शिवा ने कहा कि सरकार किसानों के समस्याओं को लेकर सदन में बात नहीं करना चाहता है। उन्होंने सवाल किया कि आखिर सरकार क्यों जनहित के मुद्दों पर बातचीत से भाग रही है। यह सरकार विपक्ष के नेता को तक बोलने का अधिकार नहीं दे रही है और लोकतांत्रिक मूल्यों के विरुद्ध है। राष्ट्रीय जनता दल के मनोज झा ने कहा कि सरकार किसी भी मुद्दे पर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है। उनका कहना था कि जासूसी के मुद्दे पर प्रधानमंत्री तथा गृहमंत्री को सामने आना चाहिए।

Post Comment

Comment List

Latest News