कोटा में भादो में लगी सावन की झड़ी ,पूरी रात हुई बरसात ,नदी-नाले उफान पर

कोटा बैराज के आठ गेट खोले

कोटा में भादो में लगी सावन की झड़ी ,पूरी रात हुई बरसात ,नदी-नाले उफान पर

कोटा में गुरुवार देर रात से शुरू हुई बरसात शुक्रवार दोपहर तक लगातार जारी है। मध्यप्रदेश और राजस्थान में हुई बारिश के चलते कोटा बैराज के आठ गेट खोलकर 58 हजार पानी की निकासी की गई ।

कोटा। सावन का महीना बीतने के बाद भादो लगते ही कोटा में बारिश की झड़ी ऐसी लगी कि सावन का नजारा देखने को मिला । गुरुवार देर रात से शुरू हुई बरसात शुक्रवार को दोपहर तक लगातार जारी रही । मध्यप्रदेश और राजस्थान में हुई बारिश के चलते कोटा बैराज के आठ गेट खोलकर 58 हजार पानी की निकासी की गई । कोटा में गुरुवार देर शाम को शुरू हुआ बरसात का दौर पूरी रात चला और शुक्रवार को भी दोपहर तक मूसलाधार बरसात हुई। जिससे शहर के मुख्य मार्ग ,सड़के तो पानी से लबालब हुई कई निचले इलाकों और बस्तियों में पानी भर गया। नदी नाले उफान पर आ गए और उनका जलस्तर बढ़ गया ।कोटा बैराज के 8 गेट खोल कर 58000 क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है जिससे निचले इलाकों में जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो गई ।वही हाड़ौती संभाग के अन्य जिलों में भी अच्छी बरसात होने से पानी ही पानी हो गया। गांधी सागर का जलस्तर 302 फीट रहा। राणा प्रताप बांध से 6000 क्यूसेक पानी की निकासी की गई जबकि जवाहर सागर बांध से 11000 क्यूसेक पानी की निकासी की जा रही है। लगातार हो रही बरसात के चलते झालावाड़ की अमझार पुलिया, पार्वती नदी, कैथून की पुलिया समेत कई पुलिया पर पानी की चादर चल गई । मौसम विभाग के अनुसार कोटा में पिछले 24 घंटे में करीब 2 इंच से अधिक बरसात हुई। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे में कोटा समेत अन्य जिलों में भारी बरसात की संभावना है।

Post Comment

Comment List

Latest News

भारत जोड़ो यात्रा से बदला है राष्ट्रीय राजनीति का परिदृश्य : कांग्रेस भारत जोड़ो यात्रा से बदला है राष्ट्रीय राजनीति का परिदृश्य : कांग्रेस
उन्होंने कहा कि यात्रा को पहले दक्षिण के पांच राज्यों में भारी समर्थन मिला था और जब यात्रा  महाराष्ट्र पहुंची...
झुंझुनूं में विकास की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी : बृजेंद्र ओला
भारतीय संविधान विश्वभर के लोकतंत्रों की सर्वश्रेष्ठ व्याख्या: राज्यपाल मिश्र
खाद की कमीः क्षेत्र में खाद भी राशन की तरह बांटना पड़ा
वसुंधरा राजे हमारी नेता थी, हैं और हमारी नेता रहेगी : कालीचरण सर्राफ
सेना के जवान का बीमारी के चलते निधन राजकीय सम्मान से किया अंतिम संस्कार
भाजपा के टेपन 978 वोट से हुए विजयी