ओमिक्रॉन संक्रमण पर अलर्ट रहें : संक्रमण दर छह गुना, तेजी से फैलने की आशंका इसलिए अस्पतालों को भी तैयार रखें

ओमिक्रॉन संक्रमण पर अलर्ट रहें : संक्रमण दर छह गुना, तेजी से फैलने की आशंका इसलिए अस्पतालों को भी तैयार रखें

क्योंकि कम इम्युनिटी-कोर्मोबेडिटी और उम्रदराज लोगों को पड़ सकती है चिकित्सा की जरूरत

 जयपुर। अमेरिका और ब्रिटेन में कोविड तेजी से फिर फैल रहा है। अस्पतालों में हालात खराब हैं। चिकित्सा सेवाएं भी चरमराई है। कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन की संक्रमण दर चूंकि पुराने डेल्टा वेरिएंट से भी छह गुना ज्यादा है। ऐसे में इससे तीसरी लहर आई तो संक्रमण तेजी से फैलने की आशंका जताई जा रही है। हालांकि एक्सपर्ट अब तक की रिसर्च में इसे कम घातक बताते रहे हैं, लेकिन कम इम्यूनिटी, कोर्मोबेडिटी और उम्रदराज लोगों की जनसंख्या काफी है। जिन्हें यह बीमार कर अस्पताल पहुंचा सकता है। ऐसे में जनसंख्या के अनुपात में इस श्रेणी के लोग संक्रमित हुए तो अस्पतालों में भी हालात दूसरी लहर के समान हो सकते हैं। चिकित्सा सेवाएं बिगड़ने की भी आशंका है। ऐसे में विशेषज्ञ अस्पतालों को अभी से तैयार रहने और सभी को सावधान व कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने की हिदायत दे रहे हैं। क्योकिं चिकित्सा सेवाएं चरमराई तो मौतें भी बढ़ सकती है।

मास्क-वैक्सीनेशन क्यों जरुरी : लक्षण विहीन मरीज ज्यादा खतरनाक
एक्सपर्ट का मानना है कि ओमिक्रॉन के कम घातक होने के बावजूद यह ज्यादा खतरनाक इसलिए है क्योंकि इसके अधिकांश मरीजों के लक्षण विहीन यानी असिम्टोमेटिक रहने का अंदेशा है। ऐसे में अगर स्वस्थ्य लोगों के बीच रहेंगे तो डेल्टा वेरिएंट के मुकाबले कई गुना को संक्रमण का शिकार बना देंगे। इसलिए जरूरी है कि सभी मास्क लगाएं। खुद को फुल वैक्सीनेट करें। ताकि लक्षण विहीन मरीज भीड़-भाड़ या स्वस्थ्य व्यक्ति के संपर्क में आएं तो संक्रमित होने की आशंकाएं कम रहे।

पहले से ही कह रहे हैं कि उम्रदराज, कोर्मोबेडिटी वाले लोगों को यह बीमार कर सकता है। ऊपर से चिंताजनक यह है कि संक्रमण दर छह गुना है। इसलिए अस्पताल में मरीज भी बढ़ सकते हैं। अस्पताल पूरी तरह तैयार रहे, चिकित्सा सेवाओं को दुरूस्त रखना जरुरी है। -डॉ. वीरेन्द्र सिंह, सीएम सलाहकार समिति, सीनियर फिजिशियन

ओमिक्रॉन वेरिएंट की संक्रमण दर छह गुना ज्यादा है। तेजी से फैलने का अंदेशा इसलिए ज्यादा है। तय है कि फैला तो अस्पतालों में कम इम्यूनिटी, कोर्मोबेडिटी, उम्रदराज लोग ज्यादा बीमार होकर पहुंचेंगे। इसलिए संभल कर रहे। भीड़-भाड़ से बचे। मास्क तो जरूर लगाएं। वैक्सीनेशन की दोनों डोज भी लें। -डॉ. सीएल नवल, सीनियर फिजिशियन, एसएमएस अस्पताल

Post Comment

Comment List

Latest News