भुगतान नहीं होने से एमबीएस अस्पताल में बंद हुई सीटी स्कैन सेवा

भुगतान नहीं होने से 4 दिसंबर रात 12 बजे से सेवाएं बंद

भुगतान नहीं होने से एमबीएस अस्पताल में बंद हुई सीटी स्कैन सेवा

संभाग के सबसे बड़े एमबीएस अस्पताल के मरीजों को सीटी स्कैन के कराने के लिए मरीजों को 15 किमी का फेरा लगाना पड़ेगा।

कोटा। संभाग के सबसे बडे अस्पताल में सोमवार रात से ही सीटी स्कैन सेवाएं भुगतान नहीं होने से बंद हो गई। मंगलवार को सीटी स्कैन सेंटर पर ताला लगा होने से सुबह से मरीज रिपोर्ट के लिए इधर उधर पूछताछ करते नजर आए। कई लोगों तो सेंटर के बाहर ही बैठकर इंतजार करते नजर आए। इस पूर्व भी29 अक्टूबर में सीटी स्कैन का टेंडर खत्म होने से सेवाएं बंद कर दी थी बाद में कुछ समय के लिए फिर से सेवाएं शुरू की लेकिन पुराना भुगतान नहीं होने से सोमवार को रात 12 बजे से सेवाएं बंद कर नोटिस चस्पा कर दिया। जिसमें लिखा गया मॉडन डायग्रोस्टिक सेंटर एमबीएस सीटी स्कैन का भुगतान न होने के कारण सीटी स्कैन सेवए समाप्त की जाती है। 

कई लोगों को नहीं मिली रिपोर्ट 
सीटी स्कैन की रिपोर्ट लेने के लिए आए नरेंद्र सिंह हाड़ा ने बताया कि उनके पिता दुर्गा सिंह की 17 नवंबर को सीटी स्कैन की गई। उसकी रिपोर्ट 15 दिन बाद लेने के लिए कहा गया। मंगलवार को रिपोर्ट लेने आया तो यहां सेंटर पर ताला लगा हुआ था। अधीक्षक से पूछा तो उन्होंने जवाब दिया रिपोर्ट तो सेंटर वालों के पास ही वो ही देंगे। लोगों से पूछा तो बताया कि सीटी स्कैन पीपीपी मोड पर चल रही थी उसका एक साल से भुगतान नहीं होने सोमवार को सेंटर बंद कर दिया। जिससे लोगों को रिपोर्ट लेने के लिए सारा दिन भटकना पड़ा लेकिन निराशा ही हाथ लगी। 

28 अक्टूबर को भी बंद हुई थी सीटी स्कैन 
संभाग के सबसे बड़े एमबीएस अस्पताल के मरीजों को सीटी स्कैन के कराने के लिए मरीजों को 15 किमी का फेरा लगाना पड़ेगा। अब तक लोग एमआरआई के लिए न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल जाते थे लेकिन 29 अक्टूबर से एमबीएस में पीपीपी मोड पर चल रही सीटी स्कैन मशीन का टेंडर खत्म हो गया उसको आगे नहीं बढ़ाने के कारण अस्पताल में सीटी स्कैन नहीं हो रही है। दुर्घटना में घायल व गंभीर मरीजों को सीटी स्कैन कराने के लिए या तो निजी क्लीनिक जाना पड़ रहा है या 15 किमी दूर मेडिकल कॉलेज जाना मजबूरी बन गया है। इधर पूर्व सीटी स्कैन संचालित कर रहे डॉक्टर का कहना है कि पिछले एक साल से भुगतान नहीं हुआ है। ना ही टेंडर को रिन्यू किया है। ऐसे में 29 अक्टूबर को कार्य अवधि खत्म होते ही मशीन हटा ली गई है। लेकिन बाद में नवंबर में फिर से शुरू किया लेकिन मंगलवार को फिर से बंद कर दिया गया। 

चहुंओर फैला कचरा
एमबीएस अस्पताल की न्यू ओपीडी ईएनटी विभाग के बाहर कचरे का ढेर लगा हुआ है। सफाई नहीं होने से लोगों कचरे में से गुजरना पड़ा। अस्पताल में मंगलवार को मरीजों की लंबी कतारे लगी हुई थी। 

Read More सरकार के लाखों रुपए से तैयार सुलभ कॉम्प्लेक्स और यात्री प्रतीक्षालय बेकार पड़े

ओपीडी में लंबी लगी कतारें
मौसम खुलने के साथ ही अस्पताल में मंगलवार को बड़ी संख्या में लोग मौसमी बीमारियों का इलाज कराने आए जिससे लंबी कतारें लगी रही। 

Read More असर खबर का - हिंडोली में 80 करोड़ के दो फ्लाईओवर के प्रस्ताव स्वीकृत

Post Comment

Comment List

Latest News

बंगाल में मोदी ने 15 हजार करोड़ की विकास परियोजनाओं का किया अनावरण बंगाल में मोदी ने 15 हजार करोड़ की विकास परियोजनाओं का किया अनावरण
प्रधानमंत्री ने पुरुलिया जिले के रघुनाथपुर में स्थित रघुनाथपुर थर्मल पावर स्टेशन चरण (2 गुणा 660 मेगावाट) का उद्घाटन और...
अब 7 दिन में कोटा की धरती पर कदम रखेगा बब्बर शेर
मुख्यमंत्री ने फीता काटकर नारी शक्ति बंधन कार्यक्रम की शुरुआत
सारा अली खान की फिल्म 'ऐ वतन मेरे वतन' का टीजर रिलीज, आजादी के दौर की है कहानी
विकास की गति में अवरोध बनी मोदी सरकार, सिर्फ मित्रों का हित साधा : राहुल
कुणाल खेमू की फिल्म मडगांव एक्सप्रेस का टीजर रिलीज
लेबनान पर इजरायल ने किए हमले, 4 लड़ाकों की मौत