ऋषि सुनक ने रवांडा निर्वासन नीति का किया समर्थन

आव्रजन रोधी कानून करार दिया

ऋषि सुनक ने रवांडा निर्वासन नीति का किया समर्थन

सहयोगी ने दिया इस्तीफा: इस नीति को लेकर बुधवार रात सुनक के सहयोगी राबर्ट जेनरिक ने आव्रजन मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

लंदन। ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक अवैध प्रवासियों को रवांडा में बसाने की नीति को लेकर अपनी ही सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी के निशाने पर है। वह अपना पद और राजनीतिक करियर बचाने की जंग लड़ रहे हैं। इस बीच गुरुवार को सुनक ने अवैध प्रवासियों को रवांडा भेजे जाने की नीति का पुरजोर समर्थन किया और इसे अब तक का सबसे आव्रजन रोधी कानून करार दिया।

सहयोगी ने दिया इस्तीफा

इस नीति को लेकर बुधवार रात सुनक के सहयोगी राबर्ट जेनरिक ने आव्रजन मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। अभी हाल ही में ब्रिटेन की सुप्रीम कोर्ट ने अवैध प्रवासियों को रवांडा में बसाने की योजना को गैरकानूनी करार दिया था। सुनक ने स्वयं को प्रवासियों की संतान करार दिया और बताया कि किस प्रकार उनके परिवार ने गर्वित ब्रिटिश नागरिक बनने के लिए कानूनी रास्ता अपनाया।

सुनक को नई रवांडा नीति पर भरोसा
उन्होंने कहा कि हम नियमों के अनुरूप खेलते हैं और अपनी बारी का इंतजार करते हैं। कुछ लोग यह सब खत्म कर सकते हैं। आपने केवल अपनी सीमाओं से नियंत्रण नहीं खोया बल्कि निष्पक्षता और विश्वसनीयता को कमजोर कर दिया है, जिस पर हमारा तंत्र आधारित है। सुनक ने कहा कि गत वर्ष उनके कार्यभार संभालने के बाद से अवैध अप्रवासियों के आने की घटनाओं में एक तिहाई की कमी आई है।

Read More संघर्ष विराम पर बातचीत के लिए नहीं आए इजरायली प्रतिनिधि 

Tags: rishi

Post Comment

Comment List

Latest News

लोकसभा चुनावों से पहले पूर्व सीएम अशोक गहलोत हुए सक्रिय, नेताओं से कर रहे मंथन लोकसभा चुनावों से पहले पूर्व सीएम अशोक गहलोत हुए सक्रिय, नेताओं से कर रहे मंथन
गहलोत अपने आवास पर लोकसभा वार नेताओं और कार्यकर्ताओं से बैठकें कर जीत की रणनीति भी तलाशने में जुट गए...
केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय में होगा रूपक महोत्सव
संघर्ष विराम पर बातचीत के लिए नहीं आए इजरायली प्रतिनिधि 
तकनीकी विकास से ही देश की रक्षा : राजनाथ 
तीस हजार विजिटर और 500 करोड़ के व्यापार का कीर्तिमान
आईटी में नवीन अनुसंधान और टेक्नीकल एजुकेशन पर अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी 
पीआरएन में सोसायटी पट्टे के मकानों पर बिजली कनेक्शन क्यों नहीं दिया : हाईकोर्ट